rss

राष्ट्रपति ट्रम्प और प्रधानमंत्री मोदी द्वारा दिये गये संयुक्त प्रेस वक्तव्य में टिप्पणियाँ

English English, اردو اردو

विदेश नीति
जारी करने की तारीख: 26 जून, 2017
रोज़ गार्डन
शाम 05:31 बजे EDT

 
 

राष्ट्रपति ट्रम्प:  बहुत-बहुत धन्यवाद।  प्रधानमंत्री मोदी, हमारे साथ आज यहाँ होने के लिए धन्यवाद।  विश्व के विशालतम लोकतंत्र के नेता का व्हाइट हाउस में स्वागत करना बहुत सम्मान की बात है।

मैं आपके देश और इसके लोगों की हमेशा से अत्यधिक प्रसन्नता करता रहा हूँ और आपकी समृद्ध संस्कृति, विरासत और परम्पराओं के लिए बहुत सराहना करता हूँ।  इन गर्मियों में भारत अपनी स्वतंत्रता की 70वीं वर्षगाँठ मनाएगा और अमेरिका की ओर से मैं आपके बहुत, बहुत विश्वसनीय राष्ट्र के जीवन में इस शानदार महत्वपूर्ण पड़ाव पर भारतीय लोगों को बधाई देना चाहता हूँ।

अपने अभियान के दौरान, मैंने वचन दिया था कि यदि मुझे चुन लिया गया, तो भारत का व्हाइट हाउस में सच्चा मित्र होगा।  और आपके पास अब निश्चित रूप से वही है – सच्चा मित्र।  अमेरिका और भारत के बीच यह मित्रता लोकतंत्र के प्रति हमारी साझा प्रतिबद्धता सहित साझा मूल्यों पर आधारित है।  बहुत से लोगों को इसकी जानकारी नहीं है, लेकिन अमेरिकी और भारतीय संविधान – दोनों तीन बहुत सुंदर शब्दों से आरंभ होते हैं:  We the people यानी हम लोग।

प्रधानमंत्री और मैं दोनों उन शब्दों के निर्णायक महत्व को समझते हैं जो हमारे दो देशों के बीच सहयोग की नींव डालने में सहायता करते हैं।  देशों के बीच संबंध तब सबसे अधिक मज़बूत होते हैं जब वे हमारे द्वारा सेवा प्रदान किए जाने वाले लोगों के हितों के प्रति समर्पित होते हैं।  और आज हमारी बैठकों के बाद, मैं यह कहूँगा कि भारत और अमेरिका के बीच संबंध कभी भी इससे मज़बूत नहीं रहा है, कभी भी इससे बेहतर नहीं रहा है।

मुझे मीडिया, अमेरिकी लोगों और भारतीय लोगों के समक्ष यह घोषित करते हुए गर्व है कि प्रधानमंत्री मोदी और मैं सोशल मीडिया में विश्व नेता हैं (हँसी) – हम विश्वासकर्ता है – हम हमारे देशों के नागरिकों को उनके निर्वाचित अधिकारियों से सीधे सुनने का अवसर देते हैं और हम उनसे सीधे सुनने का अवसर पाते हैं।  मेरा अनुमान है कि इसने दोनों मामलों में बहुत अच्छा काम किया है।

प्रधानमंत्री मोदी, मैं आपको और भारतीय लोगों को उसके लिए सैल्यूट करके रोमांचित हूँ जिसे आप एक साथ मिलकर अंजाम दे रहे हैं।  आपकी उपलब्धियाँ व्यापक रही हैं।  भारत के पास विश्व की सबसे अधिक तेज़ी से बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था है।  हमें आशा है कि हम प्रतिशत वृद्धि के संबंध में जल्द ही आप तक पहुँच जाएंगे, मुझे आपको यह बताना है।  हम इस पर काम कर रहे हैं।

केवल दो सप्ताह में, आप अपने देश के इतिहास में विशालतम टैक्स सुधार लागू करना आरंभ करेंगे – हम भी ऐसा कर रहे हैं, बहरहाल – आपके नागरिकों के लिए शानदार नए अवसरों का सृजन कर रहे हैं।  बुनियादी सुविधाओं में सुधार करने के लिए आपकी संकल्पना विशाल है और आप सरकारी भ्रष्टाचार से संघर्ष कर रहे हैं जो लोकतंत्र के लिए हमेशा गंभीर खतरा है।

एक साथ मिलकर, हमारे देश भविष्य के लिए आशावादी मार्ग बनाने में सहायता कर सकते हैं, ऐसा मार्ग जो नई प्रौद्योगिकी, नई बुनियादी सुविधाओं और बहुत परिश्रमी तथा बहुत गतिशील लोगों की शक्ति को मुक्त करता हो।

प्रधानमंत्री महोदय, मैं हमारे देशों में रोज़गार उत्पन्न करने, हमारी अर्थव्यवस्थाओं को विकसित करने और निष्पक्ष तथा पारस्परिक-क्रिया वाला व्यापारिक संबंध बनाने के लिए आपके साथ काम करने की आशा करता हूँ।  यह महत्वपूर्ण है कि आपके बाज़ारों में अमेरिकी वस्तुओं के निर्यात के लिए बाधाएं हटाई जाएं और यह कि हम आपके देश के साथ हमारा व्यापारिक घाटा कम करें।

मुझे एक भारतीय एयरलाइंस द्वारा हाल में 100 नए अमेरिकी विमानों का ऑर्डर दिए जाने के बारे में जानकर प्रसन्नता है जो अपने प्रकार का सबसे बड़ा आदेश है जो हज़ारों अमेरिकी नौकरियों में सहायता पहुँचाएगा।  हम आपकी अर्थव्यवस्था के विकसित होने पर भारत में और अधिक अमेरिकी ऊर्जा का निर्यात करने की भी राह देख रहे हैं जिसमें अमेरिकी प्राकृतिक गैस खरीदने के लिए बड़े दीर्घकालिक अनुबंध सम्मिलित हैं जिन पर ठीक इस समय वार्ता की जा रही है और हम उन पर हस्ताक्षर करेंगे।  कीमत को थोड़ा बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है।

हमारी आर्थिक भागीदारी को बढ़ाने के लिए, मैं यह सूचित करके रोमांचित हूँ कि प्रधानमंत्री ने मेरी पुत्री इवांका को इस शरद ऋतु में भारत में वैश्विक उद्यमी शिखर-वार्ता के लिए अमेरिकी शिष्टमंडल का नेतृत्व करने के लिए आमंत्रित किया है।  और मेरे विचार में उन्होंने इसे स्वीकार कर लिया है।

अंत में, अमेरिका और भारत के बीच सुरक्षा भागीदारी बेहद महत्वपूर्ण है।  हमारे दोनों राष्ट्रों ने आतंकवाद की बुराई का दंश झेला है और हम दोनों आतंकवादी संगठनों और इसे प्रेरित करने वाली कट्टर विचारधारा को नष्ट करने के लिए दृढ़ संकल्प हैं।  हम कट्टर इस्लामी आतंकवाद को नष्ट कर देंगे।  हमारी सेनाएं हमारी सैन्य बलों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए प्रतिदिन कार्य कर रही हैं।  और अगले महीने, वे विशाल भारतीय महासागर में अब तक के सबसे बड़े समुद्री अभ्यास में भाग लेने के लिए जापानी नौसेना के साथ जुड़ेंगी।

मैं भारतीय लोगों को अफ़गानिस्तान में प्रयासों में उनके योगदान और उत्तरी कोरिया शासन के विरुद्ध नए प्रतिबंध लगाने के लिए हमसे जुड़ने के लिए उन्हें धन्यवाद देता हूँ।  उत्तर कोरियाई शासन ज़बरदस्त समस्याएं उत्पन्न कर रहा है और यह ऐसा मुद्दा है जिससे संभवतः तेज़ी से निपटा जाना है।

मैं सचमुच यह मानता हूँ कि एक-साथ काम करते हुए हमारे दो देश बहुत से अन्य राष्ट्रों के लिए उदाहरण स्थापित कर सकते हैं, साझा खतरों को दूर करने में बड़ी सफलताएं प्राप्त कर सकते हैं, और अद्भुत समृद्धि और विकास करने में बेहद प्रगति कर सकते हैं।

प्रधानमंत्री मोदी, आज मुझसे जुड़ने और हमारे देश और हमारे शानदार व्हाइट हाउस और ओवल ऑफिस की यात्रा करने के लिए एक बार फिर से धन्यवाद।  मुझे इस दोपहर हमारी बहुत लाभदायक बातचीत में आनंद आया और मैं डिनर में इसे जारी रखने की अपेक्षा कर रहा हूँ।  हमारी भागीदारी का भविष्य कभी इससे उज्ज्वल नहीं रहा है।  भारत और अमेरिका हमेशा मित्रता और सम्मान में एक साथ जुड़े रहेंगे।

प्रधानमंत्री मोदी, बहुत-बहुत धन्यवाद।  धन्यवाद।  धन्यवाद।  (तालियाँ।)

प्रधान मंत्री मोदी:  (दुभाषिए द्वारा व्यक्त किए अनुसार)  राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और प्रथम महिला, उप राष्ट्रपति, मीडिया के देवियो और सज्जनो:  आरंभिक ट्वीट से लेकर हमारी वार्ता के अंत तक, राष्ट्रपति ट्रम्प द्वारा किया गया स्वागत जो मित्रता से भरपूर था, स्वयं उनके और प्रथम महिला द्वारा व्हाइट हाउस में उनके द्वारा किया गया गर्मजोश स्वागत, मैं आप दोनों को इस गर्मजोशी भरे स्वागत के लिए हार्दिक धन्यवाद देना चाहूँगा।

राष्ट्रपति ट्रम्प, मैं आप द्वारा मेरे साथ बहुत अधिक समय बिताने के लिए, मेरे और मेरे देश के बारे में इतने नम्र शब्द बोलने के लिए आपको विशेष धन्यवाद भी देना चाहूँगा।  और मैं आपको यह भी बताना चाहूँगा कि मैं उद्यमी शिखर वार्ता के लिए आपकी पुत्री का भारत में स्वागत करने के लिए उत्सुक हूँ।

राष्ट्रपति ट्रम्प, मैं आपको मेरे साथ बिताए गए समय के लिए एक बार फिर से धन्यवाद देना चाहूँगा।  मैं इसके लिए आपको विशेष धन्यवाद देना चाहूँगा।

मेरे दौरे और हमारी आज की वार्ता से हमारे दो राष्ट्रों के बीच सहायता और सहयोग के इतिहास में एक बहुत महत्वपूर्ण अध्याय की शुरुआत होगी।  महामहिम, राष्ट्रपति ट्रम्प, और मेरे बीच आज की वार्ताएं अनेक कारणों से सभी दृष्टियों से बेहद महत्वपूर्ण रही हैं:  क्योंकि वे पारस्परिक विश्वास पर आधारित थीं; क्योंकि इन्होंने हमारे आदर्शों और हमारी प्राथमिकताओं और हमारे सरोकारों और हितों में झुकाव और समानताओं को दर्शाया है, क्योंकि ये हमारे सहयोग, पारस्परिक सहायता और भागीदारी में उपलब्धि के उच्चतम स्तरों पर केंद्रित थीं, क्योंकि हमारे दो देश विकास की वैश्विक प्रेरक शक्तियाँ हैं; क्योंकि दोनों देशों और दोनों समाजों का सर्वांगीण या व्यापक आर्थिक विकास और संयुक्त प्रगति राष्ट्रपति और स्वयं मेरे लिए मुख्य उद्देश्य है और रहेगा; क्योंकि राष्ट्रपति ट्रम्प और मेरे – हम दोनों के लिए प्रमुख प्राथमिकता आतंकवाद जैसी वैश्विक चुनौतियों से हमारे समाज की रक्षा करना है; और क्योंकि हमारा लक्ष्य भारत और अमेरिका – विश्व में दो महान लोकतंत्रों – मित्रों को सुदृढ़ बनाना है।

हमारी सुदृढ़ कार्यनीतिक भागीदारी ऐसी है कि यह मानवीय प्रयास के लगभग सभी क्षेत्रों को छूती है।  हमारी आज की बातचीत में, राष्ट्रपति ट्रम्प और मैंने भारत-अमेरिका संबंधों के सभी आयामों के बारे में विस्तार से चर्चा की है।  दोनों देश ऐसे द्विपक्षीय वास्तुशिल्प के लिए प्रतिबद्ध हैं जो हमारी कार्यनीतिक भागीदारी को नई ऊँचाइयों पर ले जाएगा।

इस संबंध में, दोनों देशों में, उत्पादकता, विकास, रोज़गार सृजन और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों में वृद्धि हुई है – इन सभी के प्रति संलग्नता हमारे सहयोग की सुदृढ़ प्रेरक शक्ति है और बनी रहेगी और हमारे संबंध को और अधिक गति देगी।

हम अमेरिका को हमारे सभी प्रमुख कार्यक्रमों और योजनाओं में भारत के सामाजिक और आर्थिक रूपांतरण के लिए हमारा प्राथमिक भागीदार मानते हैं।  मैं आश्वस्त हूँ कि एक “नए भारत के लिए मेरी संकल्पना और राष्ट्रपति ट्रम्प की अमेरिका को फिर से महान बनाने की संकल्पना” के बीच झुकाव हमारे सहयोग में नए आयामों की वृद्धि करेगा।

मैं इस तथ्य के बारे में बहुत स्पष्ट हूँ कि भारत के हित सुदृढ़ और समृद्ध, और सफल अमेरिका में निहित हैं।  इसी तरह से, भारत का विकास और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इसकी बढ़ती हुई भूमिका अमेरिका के हित में है।

हमारी एक साझा प्राथमिकता व्यापार, वाणिज्य और निवेश संबंधों का विकास होगी।  और इस संबंध में, प्रौद्योगिकी, नवप्रवर्तन और ज्ञान-अर्थव्यवस्था क्षेत्रों में, सहयोग का विस्तार और गहनता भी हमारी प्राथमिकताओं में है।  इसके लिए, हम हमारी सफल डिजिटल भागीदारी को और अधिक सुदृढ़ बनाने के लिए प्रयास करेंगे।

मित्रो, हम केवल संयोगवश ही भागीदार नहीं हैं।  हम ऐसी वर्तमान और भविष्य की चुनौतियों से निपटने में भी भागीदार हैं जिनका हमें सामना करना पड़ सकता है।  आज, हमारी बैठक के दौरान, हमने आतंकवाद, उग्रवाद और कट्टरवाद की गंभीर चुनौतियों पर चर्चा की जो ऐसी प्रमुख चुनौतियाँ हैं जिनका विश्व आज सामना कर रहा है।  और हम इन अभिशापों के विरुद्ध संघर्ष करने में हमारा सहयोग बढ़ाने पर सहमत हुए हैं।  आतंकवाद से संघर्ष करना और सुरक्षित पनाहगारों, अभ्यारण्यों और सुरक्षित स्थानों को समाप्त करना हमारे सहयोग का महत्वपूर्ण भाग होगा।

आतंकवाद के संबंध में हमारे साझा सरोकारों के संबंध में, हम खुफिया जानकारी के आदान-प्रदान में भी वृद्धि करेंगे और हमारे नीतिगत समन्वय को यथासंभव गहन और व्यापक बनाने के लिए सूचना का आदान-प्रदान करेंगे।

हमने क्षेत्रीय मुद्दों के बारे में भी विस्तार से बात की।  अफगानिस्तान में आतंकवाद के कारण बढ़ती हुई अस्थिरता हमारी एक साझा चिंता है।  भारत और अमेरिका – दोनों ने अफ़गानिस्तान का पुनर्निर्माण करने और इसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।  अफ़गानिस्तान में शांति और स्थिरता के हमारे उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए, हम हमारे दो राष्ट्रों के बीच सहयोग बढ़ाने के लिए अमेरिका के साथ प्रगाढ़ परामर्श और संवाद बनाए रखेंगे।

भारत-प्रशांत क्षेत्र में, क्षेत्र में शांति, स्थिरता और समृद्धि बनाए रखने के लिए, यह इस क्षेत्र में हमारे कार्यनीतिक सहयोग का एक अन्य उद्देश्य है।  हमारे कार्यनीतिक हितों की रक्षा करने के लिए सहयोग बढ़ाने के लिए बढ़ती हुई संभावनाएं हमारी भागीदारी के आयामों को निर्धारित करना जारी रखेंगी।  हम इस क्षेत्र में अमेरिका के साथ काम करना जारी रखेंगे।

सुरक्षा संबंधी चुनौतियों के संबंध में, हमारा वर्धित और बढ़ता हुआ रक्षा और सुरक्षा सहयोग बेहद महत्वपूर्ण है।  हमने इस विषय पर भी विस्तार से बात की है।

अमेरिका की सहायता से भारत की रक्षा की क्षमताओं का सुदृढ़ीकरण ऐसी बात है जिसके लिए हम वास्तव में आभारी हैं।  हमने दो राष्ट्रों के बीच समुद्री सुरक्षा बढ़ाने का भी निर्णय लिया है।  राष्ट्रपति ट्रम्प और मैंने द्विपक्षीय रक्षा प्रौद्योगिकी और हमारी व्यापारिक और विनिर्माण भागीदारी को सुदृढ़ करने के बारे में भी बात की है जो हमारे विचार में हमारे लिए पारस्परिक रूप से लाभप्रद होगी।

हमने अंतरराष्ट्रीय मुद्दों और हमारे साझा कार्यनीतिक हितों पर भी चर्चा की।  इस संदर्भ में, हम अंतरराष्ट्रीय संस्थानों और व्यवस्थाओं की भारत की सदस्यता के लिए अमेरिका के लगातार समर्थन के लिए उसके प्रति बहुत आभारी हैं।  हम सहायता के लिए हार्दिक रूप से आभारी हैं क्योंकि यह हमारे दोनों राष्ट्रों के हित में भी है।

राष्ट्रपति ट्रम्प, मैं आपको भारत और स्वयं मेरे प्रति मित्रता के आपके भाव के लिए आपको धन्यवाद देना चाहूँगा।  मैं हमारे द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने के लिए आपकी सुदृढ़ प्रतिबद्धता के लिए बेहद आभारी हूँ।  मैं आश्वस्त हूँ कि आपके नेतृत्व में, हमारी पारस्परिक रूप से लाभप्रद कार्यनीतिक भागीदारी नई शक्ति, नई सकारात्मकता प्राप्त करेगी और नई ऊँचाइयाँ छूएगी और व्यावसायिक विश्व में आपका व्यापक और सफल अनुभव हमारे संबंधों को ज़बरदस्त और भविष्य की ओर उन्मुख कार्यक्रम प्रदान करेगा।

भारत-अमेरिका के संबंधों की इस यात्रा में, मेरे विचार में मैं आपको महान नेतृत्व प्रदान करने के लिए धन्यवाद देना चाहूँगा।  आश्वस्त रहें कि विकास, वृद्धि और समृद्धि की ओर हमारे दो राष्ट्रों की इस संयुक्त यात्रा में, मैं एक प्रेरित, दृढ़ संकल्प और निर्णायक भागीदार रहूँगा।

महामहिम, मेरा आज का दौरा और मेरे द्वारा आपके साथ की गई व्यापक वार्ता बहुत सफल, बहुत लाभदायक रही हैं।  और इस माइक को छोड़ने से पहले, मैं आपको आपके परिवार के साथ भारत में आमंत्रित करना चाहूँगा।  और मुझे आशा है कि आप मुझे आपका भारत में स्वागत करने और आपकी मेज़बानी करने का अवसर प्रदान करेंगे।

और अंत में, एक बार फिर, मैं आप और प्रथम महिला द्वारा मेरा और मेरे शिष्टमंडल का गर्मजोशी से स्वागत करने के लिए आपको हार्दिक धन्यवाद देना चाहूँगा।  धन्यवाद।  (तालियाँ।)

राष्ट्रपति ट्रम्प:  हर किसी को बहुत-बहुत धन्यवाद।  मैं इसके लिए आभारी हूँ।  धन्यवाद।

समाप्त शाम 05:51 बजे EDT


यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें