rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट रैक्स टिलरसन और यूनाइटेड किंगडम के विदेश सेक्रेटरी बौरिस जॉनसन एक प्रेस उपलब्धता पर

English English, Français Français, اردو اردو

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट रैक्स टिलरसन औ
प्रवक्ता कार्यालय
लन्दन, यूनाइटेड किंगडम
तत्काल रिलीज़ के लिए
14 सितम्बर 2017

 प्रश्न:  BBC से जेम्स लेनडेल।  विदेश सेक्रेटरी, सबसे पहले, सहायता के संबंध में।  क्या आप ऐसा मानते हैं कि क्या सरकार कैरेबियन में जरूरतमंद लोगों की सहायता करने के लिए अपने सहायता बजट का उपयोग कर पाएगी?  और अगर हाँ, तो आप इसके बारे में क्या करने जा रहे हैं?

दूसरे, लीबिया के संबंध में।  क्या आप वास्तव में ऐसा सोचते हैं कि अगले वर्ष के चुनाव व्यवहार्य हैं?  और आपके विचार में इन्हें कब आयोजित किया जाना चाहिए?

तीसरे, बर्मा के संबंध में।  आपने पिछले सप्ताहांत में यह कहा था कि ओंग सेन सू की और मैं उद्धृत करता हूँ “हमारे युग की सबसे प्रेरक हस्तियों में से एक हैं।”  क्या आपको अब अपने द्वारा कही गई बात पर खेद है और क्या इस सप्ताह हुई घटनाओं के परिणामस्वरूप आपके दृष्टिकोण में बदलाव आया है?

और सेक्रेटरी ऑफ स्टेट, यदि मैं आपसे ईरान के संबंध में पूछ सकूँ।  ईरान नाभिकीय सौदे पर आज संयुक्त राज्य अमेरिका का वास्तव में क्या रवैया है?  क्या आप प्रतिबंध में छूट देना जारी रखने जा रहे हैं?  क्या आप ऐसा मानना जारी रख रहे हैं कि ईरान उस सौदे की अपनी बाध्यताओं को पूरा कर रहा है?

और दूसरे, जो कुछ म्याँमार और बंगलादेश में हो रहा है, उस संबंध में और ओंग सेन सू कई के व्यवहार के बार में आपकी क्या राय है?

सेक्रेटरी टिलरसन:  सबसे पहले, प्रशासन के ईरान के साथ नाभिकीय सौदे, JCPOA के रवैये के संबंध में, ट्रम्प प्रशासन ईरान के संबंध में अपनी नीति की लगातार समीक्षा और इसकी रचना कर रहा है।  यह जारी है।  राष्ट्रपति के साथ चर्चाओं के साथ-साथ हमारे NSC के बीच अनेक आंतरिक चर्चाएं हुई हैं।  लेकिन – अभी तक कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

लेकिन मेरा विचार है कि यह उल्लेखनीय है कि जब प्रशासन JCPOA की यह समीक्षा जारी रख रहा है, तब मेरे ख्याल से राष्ट्रपति ट्रम्प ने हममें से उन लोगों जो उन्हें यह नीति बनाने में सहायता कर रहे हैं, को यह स्पष्ट कर दिया है कि हमें न केवल ईरान की नाभिकीय क्षमताओं बल्कि ईरानी धमकियों की संपूर्णता को अवश्य ध्यान में रखना चाहिए; यह ईरान के संबंध में हमारे रवैये का एक पहलू है।  और मेरा यह मानना है कि यदि कोई व्यक्ति JCPOA की प्रस्तावना का फिर से अध्ययन करे, तो उस प्रस्तावना में यह कहा गया है कि प्रतिभागी, उद्धरण, “यह पूर्वानुमान है कि इस JCPOA को पूरी तरह से लागू किया जाना क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय शांति तथा सुरक्षा में सकारात्मक रूप से योगदान करेगा,” उद्धरण समाप्त।  वह JCPOA की एक अपेक्षा थी।

हमारे विचार में, ईरान असाद शासन की सहायता करने, साइबर गतिविधि सहित क्षेत्र में दुर्भावनापूर्ण कार्यकलापों में संलग्न होने, बैलिस्टिक मिसाइलों का आक्रामक रूप से विकास करने की अपनी कार्रवाइयों के माध्यम से JCPOA की इन अपेक्षाओं का उल्लंघन कर रहा है।  और यह सब कुछ UN सुरक्षा परिषद के संकल्प 2231 के उल्लंघन में और इस प्रकार क्षेत्र में मौजूद लोगों और स्वयं संयुक्त राज्य अमेरिका की सुरक्षा को खतरे में डालना है, यह सुरक्षा को सुनिश्चित करना नहीं है।  इसलिए हमें ईरान के कार्यकलापों की संपूर्णता पर विचार करना है और हमें अपने दृष्टिकोण को केवल नाभिकीय करार द्वारा परिभाषित नहीं करना है।  तो इसकी लगातार समीक्षा की जा रही है।  कोई अंतिम निर्णय नहीं लिया गया है।

उन खतरों जो हम बर्मा में उत्पन्न होते हुए देख रहे हैं, के संबंध में, मेरा यह विचार है कि यह इस नए उदीयमान लोकतंत्र के लिए बहुत से मायनों में निर्धारक क्षण है, हालाँकि यह सत्ता की भागीदारी का करार है।  हम सभी उसे स्पष्ट रूप से समझते हैं।  और इसलिए हम उस कठिन और जटिल स्थिति को समझते हैं जिसमें ओंग सेन सू की स्वयं को पा रही हैं। और मेरा विचार है कि यह महत्वपूर्ण है कि वैश्विक समुदाय उसके समर्थन में कुछ बोले जो हम सभी जानते हैं कि लोगों से बर्ताव के प्रति अपेक्षा है, चाहे उनकी जातीयता कुछ भी हो, हमें – यह हिंसा अवश्य रोकनी होगी; यह अत्याचार अवश्य रोकना होगा।  इसे बहुत से लोगों ने जातीय सफाई का नाम दिया है।  इसे अवश्य रुकना चाहिए।

और हमारे लिए ओंग सेन सू की और उनके नेतृत्व की सहायता करने की आवश्यकता है, लेकिन हमें सैन्य हिस्से – उस सरकार में सत्ता की भागीदारी जो अस्वीकार्य है – के संबंध में भी बहुत स्पष्ट और सुपरिभाषित रहना चाहिए।  और मेरे विचार में, यह कई तरीकों से उस दिशा को परिभाषित करने जा रहा है जो बर्मा अख्तियार करेगा।  हम – उन्हें हमारे सुदृढ़ सहयोग की जरूरत है।  हमें उन्हें अपना सुदृढ़ सहयोग देना चाहिए।

प्रश्न:  सेक्रेटरी टिलरसन, उत्तरी कोरिया के संबंध में, राष्ट्रपति ट्रम्प ने UN सुरक्षा परिषद के उस संकल्प का वर्णन किया जिसे एक छोटे उपाय के रूप में इस सप्ताह पारित किया गया था।  क्या आप उस मूल्यांकन से सहमत हैं, और क्या अभी भी उत्तरी कोरिया के विरुद्ध पूर्ण तेल प्रतिबंध चाहते हैं?  और क्या आप यह मानते हैं कि चीन कभी इस पर सहमत होगा?

और सेक्रेटरी जॉनसन, – ईरान के संबंध में, फ्रैंच ने सनसेट प्रावधानों के लिए नाभिकीय सौदे को पूरित करने के संबंध में अपनी इच्छा का संकेत दिया है।  क्या यह मुद्दा आज की बातचीत में आया था और क्या ब्रिटेन ऐसे सुझाव के लिए तैयार है?

और सेक्रेटरी टिलरसन, क्या U.S. भी उसके लिए तैयार होगा?

सेक्रेटरी टिलरसन:  UN सुरक्षा परिषद के संकल्प और राष्ट्रपति के इस मत के संबंध में कि यह एक छोटा उपाय था, मैं यह मत साझा करता हूँ।  हमने सुरक्षा परिषद से अधिक मज़बूत संकल्प की आशा की थी।  ऐसा कहने के बाद, मैं ऐसा मानता हूँ कि इसने कुछ चीज़ें सम्पन्न की हैं: पहली, कपड़ों पर पूर्ण प्रतिबंध जो शासन को लगभग $7- और $800 मिलियन के निर्यात राजस्व का प्रतिनिधित्व करता है।

और मेरा यह मानना है कि महत्वपूर्ण रूप से, UN सुरक्षा परिषद के एक अन्य संकल्प का सफल सर्वसम्मत निष्कर्ष, स्वयं में, मेरे विचार में, उत्तरी कोरिया में शासन और महत्वपूर्ण रूप से उन्हें संगत संदेश भेजना जारी रखता है जो उत्तरी कोरिया के कार्यकलापों को संभव बनाना जारी रखते हैं कि अंतरराष्ट्रीय समुदाय का उत्तरी कोरिया के प्रसार कार्यक्रम और उनके हथियारों, – उनके नाभिकीय हथियारों के विकास की गंभीरता पर अंतरराष्ट्रीय समुदाय की आम राय नहीं है, मेरा विचार है कि यह स्पष्ट है कि तेल और UN सुरक्षा परिषद से तेल पर संपूर्ण प्रतिबंध के संबंध में, यह बहुत कठिन होने जा रहा है।

वास्तव में, यह केवल चीन पर केंद्रित है क्योंकि चीन आवश्यक रूप से उत्तरी कोरिया के सारे तेल की आपूर्ति करता है।  मुझे आशा है कि चीन, एक महान देश, एक विश्व शक्ति के रूप में स्वयं निर्णय लेगा और तेल आपूर्ति के उस शक्तिशाली उपकरण का उत्तरी कोरिया को उसके हथियारों के विकास की राह पर पुनर्विचार करने, संवाद और भविष्य में वार्ताओं पर इसके दृष्टिकोण पर पुनर्विचार करने के लिए मनाने के लिए उपयोग करेगा।  यह एक बहुत शक्तिशाली उपकरण है जिसका अतीत में उपयोग किया गया है और हमें आशा है कि चीन उसे ऐसे बहुत शक्तिशाली उपकरण के रूप में अस्वीकृत या रद्द नहीं करेगा जिसका केवल वे वास्तव में उपयोग करने की योग्यता रखते हैं।

तो, हम वैश्विक अभियान के हमारे प्रयासों को जारी रखने जा रहे हैं, सभी देशों का UN सुरक्षा परिषद के प्रतिबंधों और संकल्पों को पूरी तरह लागू करने को जारी रखने का आह्वान करने जा रहे हैं और जहाँ देश ऐसा सोचते हैं कि वे इस शासन को बहुत उत्पादक तरीके से संवाद की स्थिति में लाने के लिए उस पर दबाव डालने के लिए और अधिक प्रयास कर सकते हैं, वहाँ हम यह कहते हैं कि हर किसी को ऐसा करना चाहिए।

# # #

 


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2017/09/274125.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें