rss

ईरान परमाणु सौदे पर राष्ट्रपति का बयान

اردو اردو, English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español

व्हाइट हाउस
प्रेस सेक्रेटरी का कार्यालय
तुरंत जारी किए जाने के लिए
12 जनवरी, 2018

 
 

ईरानी शासन आतंक को प्रायोजित करने वाली विश्व का अग्रणी राज्य है। यह हिजबुल्लाह, हमास, और अन्य कई आतंकवादियों को अव्यवस्था फैलाने और बेकसूर लोगों की जान लेने में मदद करता है। इसने पूरे मिडल ईस्ट में विनाश बरपाने के लिए 100,000 से अधिक आतंकियों को पैसा दिया है, हथियारों की आपूर्ति की है तथा प्रशिक्षण दिया है। यह बशर-अल-असद के हत्यारे शासन का सहारा है, तथा इसने उसके अपने ही लोगों का कत्ले-आम करने में उसकी सहायता की है। इस शासन की विनाशकारी मिसाइलें पड़ोसी देशों और अंतर्राष्ट्रीय नौसेना बेड़ों के लिए खतरा हैं। ईरान के भीतर, सुप्रीम लीडर और उसका इस्लामिक क्रांतिकारी गार्ड कोर बड़ी तादाद में गिरफ्तारियाँ करता है और ईरान के लोगों का दमन करने और उनकी आवाज़ दबाने के लिए उन्हें यातना देता है। ईरानी शासन के संभ्रांत वर्ग ने अपने नागरिकों को भूखा मरने के लिए छोड़ दिया है जबकि वे ईरान की राष्ट्रीय धन-संपत्ति को चुराकर स्वयं सम्पन्न हो रहे हैं।

पिछले अक्तूबर, मैंने अमेरिका के लोगों – और दुनिया को – इनका और अन्य विनाशकारी गतिविधियों का सामना करने की अपनी रणनीति के बारे में बताया था। हम यमन और सीरिया में ईरान के कपटपूर्ण युद्धों का सामना कर रहे हैं। हम आतंकवादियों तक इस शासन के धन पहुँचाने का रास्तों को बंद कर रहे हैं। हमने ईरानी शासन के बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम और इसकी अन्य अवैध गतिविधियों में शामिल लगभग 100 लोगों और संगठनों पर आर्थिक प्रतिबंध लगाए हैं। आज, मैं आर्थिक प्रतिबंधों की सूची में 14 और नाम जोड़ रहा हूँ। हम ईरान के उन बहादुर नागरिकों का भी समर्थन कर रहे हैं जो ऐसे भ्रष्ट शासन में बदलाव की माँग कर रहे हैं जो ईरान के लोगों का पैसा स्वदेश में हथियारों की प्रणालियों पर तथा विदेश में आतंकवाद में बर्बाद करता है। और सबसे अधिक महत्वपूर्ण बात यह है कि हम सभी राष्ट्रों से ईरान के लोगों के लिए इसी सहायता की माँग कर रहे हैं, जो ऐसे शासन से पीड़ित हैं जो बुनियादी स्वतंत्रता का दमन कर रहा है और अपने नागरिकों को उनके परिवारों के लिए बेहतर भविष्य का निर्माण करने के अवसर से वंचित कर रहा है – एक ऐसा अवसर जो हर मानव का जन्म-सिद्ध अधिकार है।

यह सब पिछले प्रशासन की नीति और कार्यों के बिल्कुल विपरीत नजर आता है। राष्ट्रपति ओबामा कार्रवाई करने में विफल हुए क्योंकि ईरान की जनता 2009 में सड़कों पर उतर आई थी। जब ईरान ने खतरनाक मिसाइलें बनाईं और परीक्षण किया तथा आतंक फैलाया तो उन्होंने इस बात को नजरअंदाज कर दिया । उन्होंने भयंकर कमियों वाले ईरानी परमाणु सौदे को आगे बढ़ाने के लिए ईरानी शासन के साथ सांठगांठ की।

मैं उस सौदे पर अपनी राय के बारे में बहुत स्पष्ट रहा हूँ। इसने ईरान को बदले में बहुत थोड़े के स्थान पर बहुत ज्यादा दिया। इस सौदे के कारण ईरानी शासन को हुई विशाल वित्तीय हानि – 100 बिलियन डॉलर से अधिक पहुँच गई है जिसमें 1.8 बिलियन डॉलर की नकदी शामिल है – और जिसका प्रयोग ईरानी लोगों का भविष्य संवारने के लिए नहीं किया गया है। इसकी बजाय, इसने हथियारों, आंतक और दमन के लिए तथा शासन के भ्रष्ट नेताओं के जखीरे में बढ़ोतरी करने के लिए अवैध कामों के लिए रखी गई निधि के रूप में काम किया है। ईरान के लोग यह जानते हैं, और यही कारण है कि इतने सारे लोग अपना गुस्सा प्रकट करने के लिए सड़कों पर उतर आए हैं।

अपने पुरजोर सोच-विचार के बावजूद, मैंने अब तक ईरान परमाणु सौदे से अमेरिका का नाम वापस नहीं लिया है। इसकी बजाय, मैंने आगे बढ़ने के दो संभावित मार्गों की रूपरेखा दी है; या तो सौदे की विनाशकारी कमियों को दूर किया जाए, या अमेरिका पीछे हट जाएगा।

मैं ईरान के संबंध में द्विदलीय कानून पर कांग्रेस के साथ काम करने के लिए तैयार हूँ। लेकिन मैं जिस विधेयक पर हस्ताक्षर करूँगा उसमें चार महत्वपूर्ण घटक अवश्य शामिल होने चाहिए।

सबसे पहला, इसमें यह माँग अवश्य की जानी चाहिए कि ईरान अंतर्राष्ट्रीय निरीक्षकों द्वारा अनुरोध किए गए सभी स्थलों पर तत्काल निरीक्षणों की अनुमति दे।

दूसरा, इसमें यह अवश्य सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि ईरान कभी भी परमाणु हथियार प्राप्त करने की कोशिश भी न करे।

तीसरा, परमाणु सौदे से भिन्न, इन व्यवस्थाओं की मियाद की कोई अंतिम तारीख कतई नहीं होनी चाहिए। मेरी नीति परमाणु हथियार पाने के ईरान के सभी रास्तों को बंद करने की है – न केवल दस वर्ष के लिए, बल्कि हमेशा के लिए।

यदि ईरान इनमें से किसी प्रावधान का पालन नहीं करता है, तो अमेरिका के परमाणु प्रतिबंध स्वत: ही बहाल हो जाएंगे।

चौथा, अमेरिकी कानून में – पहली बार- यह विधान अवश्य स्पष्ट रूप से दर्शाया जाना चाहिए कि लंबी दूरी की मिसाइल और परमाणु हथियारों के कार्यक्रम आपस में गूंथे हुए हैं, तथा ईरान के मिसाइलें बनाने और परीक्षण करने पर गंभीर प्रतिबंध लगाए जाने चाहिए।

2015 में, ओबामा प्रशासन ने अपना कमजोर परमाणु सौदा करने के लिए मूर्खतापूर्वक मजबूत बहु-पक्षीय प्रतिबंध वापस ले लिए थे। इसके विपरीत, मेरे प्रशासन ने ऐसा नया अनुपूरक अनुबंध करने के प्रयास में मुख्य यूरोपीय सहयोगियों के साथ सहयोग किया है जो ईरान पर तब नए बहु-पक्षीय प्रतिबंध लगाएगा यदि ईरान लंबी-दूरी की मिसाइलें बनाता या इनका परीक्षण करता है, निरीक्षणों में बाधा डालता है, या परमाणु हथियार की ओर प्रगति करता है – ये वे अपेक्षाएं हैं जो परमाणु सौदे में सबसे पहले होनी चाहिए। और, जैसा कि मैं कांग्रेस के विधेयक से आशा करता हूँ, अनुपूरक अनुबंध के इन प्रावधानों की मियाद कभी कतई समाप्त नहीं होनी चाहिए।

मैं ईरान की अन्य दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों का सामना करने के लिए अपने सभी सहयोगियों से हमारे साथ मिलकर कड़े कदम उठाने की भी माँग करता हूँ। अन्य कार्रवाइयों के बीच, हमारे सहयोगियों को इस्लामिक क्रांतिकारी गार्ड कोर, इसके आतंकी प्रतिनिधियों, तथा आतंकवाद में ईरान का सहयोग करने में योगदान देने वाले किसी भी व्यक्ति तक धन पहुँचने के रास्ते बंद कर देने चाहिए। उन्हें हिजबुल्लाह को – पूरी तरह से – आतंकी संगठन घोषित कर देना चाहिए। उन्हें ईरान के मिसाइल बनाने पर प्रतिबंध लगाने और मिसाइलों के इसके प्रसार, विशेष रूप से यमन तक, पर रोक लगाने में हमारा साथ देना चाहिए। उन्हें ईरान के साइबर खतरों का सामना करने में हमारा साथ देना चाहिए। उन्हें अंतर्राष्ट्रीय जहाजरानी के विरुद्ध ईरान के आक्रामक रवैये का दमन करने में हमारी सहायता करनी चाहिए। उन्हें ईरानी शासन पर दबाव डालना चाहिए कि वह अपने नागरिकों के अधिकारों का हनन करने पर रोक लगाए। और उन्हें ऐसे समूहों के साथ कारोबार नहीं करना चाहिए जो ईरान की तानाशाही को सम्पन्न बनाते हैं या क्रांतिकारी गार्ड और इसके आतंकी प्रतिनिधियों को धन पहुँचाते हैं।

आज, मैं कुछ खास परमाणु प्रतिबंधों को लागू करने में छूट दे रहा हूँ, लेकिन केवल ईरान के परमाणु सौदे की भयंकर कमियों को दूर करने के लिए अपने यूरोपीय सहयोगियों की सहमति प्राप्त करने के लिए। यह आखिरी मौका है। इस अनुबंध के अभाव में, अमेरिका ईरान के परमाणु सौदे में बने रहने के लिए प्रतिबंधों में फिर से छूट नहीं देगा। और यदि किसी समय, मुझे उचित लगता है कि यह अनुबंध पहुँच से बाहर है, तो मैं सौदे से तुरंत पीछे हट जाऊँगा।

किसी को मेरी बात पर संदेह नहीं होना चाहिए। मैंने कहा था मैं परमाणु सौदे को प्रमाणित नहीं करूँगा – और मैंने नहीं किया। मैं इस शपथ पर भी कायम रहूँगा। मैं सौदे की महत्वपूर्ण कमियों को दूर करने, ईरान के आक्रामक रवैये का सामना करने, तथा ईरान के लोगों की सहायता करने में अमेरिका का साथ देने के लिए यूरोप के प्रमुख देशों का आह्वान करता हूँ। यदि अन्य राष्ट्र इस समय के दौरान कार्रवाई करने में विफल होते हैं, तो मैं ईरान के साथ अपना सौदा समाप्त कर दूँगा। किसी कारणवश, हमारे साथ मिलकर काम करने का चुनाव न करने वाले पक्ष, ईरान के लोगों और विश्व के शांतिपूर्ण राष्ट्रों के विरुद्ध ईरानी शासन की परमाणु आकांक्षाओं का पक्ष ले रहे होंगे।


यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें