rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट रैक्स टिलरसन और विदेश मंत्री शेख सबाह अल-खालिद अल-सबाह एक संवाददाता सम्मेलन में

English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
13 फरवरी 2018
टिप्पणियाँ
कुवैत सिटी, कुवैत

 
 

**UNEDITED/DRAFT**

सेक्रेटरी टिलरसन:  आपका धन्यवाद।  मैं बस फिर से कहना चाहता हूं कि आज वापस कुवैत में होना मेरे लिए खुशी की बात है।  और सबसे पहले, मैं महामहिम अमीर को क्षेत्र में यहां कुवैत (अस्पष्ट) में हम सब को एक साथ लाने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं।   कुवैत क्षेत्रीय सुरक्षा के लिए लंबे अरसे से एक महत्वपूर्ण सहयोगी रहा है और उनकी आज की ISIS को हराने के लिए वैश्विक गठबंधन की मंत्री स्तरीय वार्ता के साथ ही साथ इराक रीकंस्ट्रक्शन कॉन्फ्रेस की मेज़बानी करने की सदिच्छा इन बेहद अहम मुद्दों पर उनके नेतृत्व का प्रतीक है।

विदेश मंत्री अल-सबाह के साथ कल की मेरी मुलाकात बहुत सकारात्मक थी, और आज मेरी महामहिम अमीर के साथ बेहद सार्थक बैठक हुई।  हमने चल रहे खाड़ी के विवादों पर चर्चा की, हमने ईरान, इराक़ और अन्य महत्वपूर्ण क्षेत्रीय और द्विपक्षीय मुद्दों पर चर्चा की।

चूंकि खाड़ी विवाद आठवें माह में प्रवेश कर गया है, ऐसे में संयुक्त राज्य अमेरिका का दृढ़ विश्वास है कि सामंजस्य और खाड़ी देशों की एकता की बहाली क्षेत्र के सभी पक्षों के हित में है।  इस तरह का विभाजन क्षेत्र की सुरक्षा के लिए नुकसानदायक है।

हम कुवैत को समाधान निकालने के कूटनीतिक प्रयासों में अपनी केंद्रीय भूमिका निभाने के लिए फिर से धन्यवाद देते हैं।   संयुक्त राज्य अमेरिका एक समझौते के लिए प्रोत्साहित करना और कुवैत को जीसीसी एकता बहाल करने संबंधी हमारी साझा प्राथमिकताओं और लक्ष्यों को समर्थन देना जारी रखेगा।

हमने इस पर भी चर्चा की कि कैसे उन महत्वपूर्ण पहलों पर प्रगति करेंगे जो महामहिम अमीर के व्हाइट हाउस दौरे के दौरान की गई थीं, और हमारी सामरिक वार्ता को लेकर भी, जो पिछले सितंबर में रक्षा, सुरक्षा, व्यापार, निवेश से संबंधित कई महत्वपूर्ण मुद्दों के समाधान के लिए आयोजित की गई थी।  और हम संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अपनी सीट संभालने के लिए कुवैत का स्वागत करते हैं और जानते हैं कि हम सुरक्षा परिषद के सामने आने वाले कई महत्वपूर्ण मुद्दों पर उनके परामर्श को खासी अहमियत देंगे।

हम उत्तर कोरिया पर अधिकतम दबाव के अभियान में अपने योगदान के लिए कुवैत को भी सम्मान और धन्यवाद देना चाहते हैं ताकि उत्तर कोरिया को अलग राह पकड़ने, अपने परमाणु हथियारों को छोड़ने और संयुक्त राज्य अमेरिका तथा अन्य के साथ कोरियाई प्रायद्वीप को परमाणु हथियार मुक्त करने को लेकर संवाद और चर्चा करने के लिए प्रोत्साहित किया जा सके।

ISIS को हराने के लिए वैश्विक गठबंधन की मंत्री स्तरीय वार्ता के 74 सदस्यों की आज की बैठक – और हम आज यह घोषित कर सके कि अब इसके 75 सदस्य हैं क्योंकि हमने फ़िलीपीन्स का स्वागत किया है – कुवैत की ओर से यह मेज़बानी एक तरह के ऐसी अगुवाई का सबूत है जो इस समूचे अभियान में कुवैत के प्रयासों पर मुहर लगाएगी।  इस वैश्विक गठबंधन ने शानदार प्रगति की है, लेकिन लड़ाई समाप्त नहीं हुई है।  इराक और सीरिया में ISIS की कथित खिलाफत टूट चुकी है, लेकिन ISIS अब भी एक बहुत ही मज़बूत इरादे वाला दुश्मन बना हुआ है और यह पूरी तरह परास्त नहीं हुआ है।  ISIS चाहे जहां कहीं भी हो, हम इसकी भर्ती करने की क्षमता, विदेशी आतंकवादियों की आवाजाही, धन को इधर से उधर ले जाने और समूचे इंटरनेट और अन्य सोशल मीडिया साधनों पर अपना झूठा दुष्प्रचार फैलाने न दे करके इसे नष्ट करने के लिए प्रतिबद्ध हैं।

जैसे ISIS विकसित हुआ है, वैसे ही यह गठबंधन भी।  गठबंधन द्वारा आज अपनाए गए मार्गदर्शक सिद्धांत ISIS के खिलाफ इस लड़ाई को जारी रखने के लिए गठबंधन की भविष्य की भूमिका के लिए हमारे विजन को सामने रखता है।  ये सिद्धांत हमारे इस साझा दृढ़ संकल्प की पुष्टि करते हैं कि जब तक हम ISIS को पूरी और स्थायी तौर पर मात नहीं दे देते हैं, तब तक उन सभी उपलब्ध तरीकों का इस्तेमाल करते हुए अपने सहकार के प्रयासों को जारी रखेंगे।  इराक और सीरिया में ISIS  की स्थायी हार का मतलब है कि गठबंधन के सभी सदस्यों को ISIS के बाद के स्थिरीकरण प्रयासों का समर्थन देना और इसे बनाए रखना चाहिए।  इसका मतलब है उन समुदायों को अनिवार्य सहायता और सेवाएं प्रदान करना जारी रखना जो केवल अभी पुनर्निर्माण शुरू करने जा रहे हैं।  इसमें कारगर तरीके से सुरक्षित क्षेत्रों की मदद करना और आंतरिक रूप से विस्थापित व्यक्तियों की सुरक्षित वापसी को सुविधाजनक बनाना भी शामिल है।

डिफीट-ISIS अभियान और अन्य प्रयासों में, कुवैत क्षेत्रीय शांति और स्थायित्व के लिए अमेरिका के सबसे महत्वपूर्ण सामरिक भागीदारों में से एक है, और यह कुवैत की दीर्घकालिक सदिच्छा के माध्यम से कई अमेरिकी अड्डों और हजारों अमेरिकी सैनिकों की मेजबानी के रूप में मुखरित हुआ है।  कुवैत ने भी रियाद में पिछले साल के राष्ट्रपति ट्रम्प के भाषण पर आतंकवाद तथा हिंसक अतिवाद का मुकाबला करने को लेकर और अधिक प्रतिबद्धता जताते हुए प्रतिक्रिया दी है।

कुवैत उदारता से समूचे क्षेत्र में शरणार्थियों और उनकी खातिरदारी कर रहे देशों को सहायता प्रदान करके एक वैश्विक मानवतावादी अगुआ के रूप में उभरा है।  ऐसा करके, कुवैत इस क्षेत्र की स्थिरता में महत्वपूर्ण निवेश कर रहा है।  संयुक्त राज्य अमेरिका हमारे दोनों देशों के बीच लगातार निकट सहयोग के लिए उत्सुक है, और मैं आज की गतिविधियों की मेजबानी के लिए फिर से विदेश मंत्री को धन्यवाद देना चाहता हूं।  आपका धन्यवाद।

समन्वयक:  अब हम सवाल लेना शुरू करेंगे।

प्रश्न:  रॉयटर्स से यारा बायोमी।  सेक्रेटर टिलरसन, जैसा आपने कहा, सिर्फ ISIS की स्थायी हार के लिए नहीं, बल्कि देश में ईरान के प्रभाव को कमज़ोर करने के लिए इराक़ के पुनर्निर्माण में योगदान देने के लिए आप देशों से आग्रह कर रहे हैं।  लेकिन अमेरिका इस मोर्चे और सामान्य रूप से क्षेत्र में इराक़ की मदद करने के लिए कितना कुछ कर सकता है?  और क्या आप देखते हैं कि अफ़रीन में तुर्की का अभियान ISIS की स्थायी तौर पर कमर तोड़ने के इन प्रयासों पर फोकस कर पाने में एक व्यवधान के रूप में है ताकि आप इस क्षेत्र में ईरान का मुकाबला करने पर ध्यान केंद्रित कर सकें?

और महामहिम, क्या आपको लगता है एक मई को वाशिंगटन, डी.सी. में होने वाले जीसीसी शिखर सम्मेलन में खाड़ी विवाद को समाप्त करने में मदद कर सकता है, और क्या कुवैत ने पुष्टि की है कि वह जाएगा?  आपका धन्यवाद।

सेक्रेटरी टिलरसन:  ठीक है, इराक़ के संबंध में, मुझे लगता है कि सबसे महत्वपूर्ण काम सीधे हमारे सामने है, जैसा कि हमने आज चर्चा की, वह है स्थिरीकरण, यह सुनिश्चित करना कि हम सुरक्षा बलों को समुदाय के आसपास रख सकें।  और फिर लोगों को अपने घरों में लौटने, पानी, बिजली जैसी सेवाएं स्थापित करने, अस्पताल फिर से खोलने और स्कूलों को दोबारा संचालित करने में बाधक बनीं सुरंगों को हटाने का काम शुरू करना है।  और यही हमारे स्थिरीकरण गतिविधियों के घटकों में शामिल हैं, और इसलिए हमने जो धनराशि घोषित की है, जिसे लेकर हमने पहले ही प्रतिबद्धता जताई है और अतिरिक्त धनराशि जिसकी घोषणा हमने आज की है जिसका हम वादा कर रहे हैं, ये सब इराक़ और सीरिया में स्थिरीकरण के लिए हैं।

यह पहला कदम है जो फिर से पुनर्निर्माण के लिए स्थितियां उत्पन्न करता है।  यह है – हमें इन मूलभूत सुविधाओं को सबसे पहले बहाल करना होगा – और पुनर्निर्माण के शुरू होने के लिए क्षेत्र को सुरक्षित तथा महफूज रखना होगा।  और यह पुनर्निर्माण निजी क्षेत्र की संस्थाओं के साथ ही साथ सार्वजनिक क्षेत्र के साथ चल रही चर्चाओं का विषय होगा, इसलिए मुझे लगता है कि इराक़ के लिए हम सबसे महत्वपूर्ण काम यही कर सकते हैं।

जैसी कि अफ़रिन में स्थिति है, इसने पूर्वी सीरिया में ISIS को हराने की हमारी लड़ाई को अवरुद्ध किया है।  जैसा कि सुरक्षा बलों ने खुद को अफ़रिन की ओर मोड़ दिया है, हम अपने नाटो सहयोगी तुर्की (अस्पष्ट) के साथ विचार-विमर्श की प्रक्रिया में हैं, कि वे हमारे प्रमुख मुद्दे पर होने वाले प्रभावों को ध्यान में रख रहे हैं, यह मुद्दा ISIS की पराजय है।  इसलिए इस सप्ताह के उत्तरार्ध में मैं अंकारा की यात्रा पर रहूंगा।  हम आगे उनसे इस पर बातचीत करेंगे कि हम कैसे आवश्यक मिशन पर एक साथ काम करते रहेंगे, जो कि ISIS को हराना है, यह मानते हुए कि, जैसा कि हम सभी जानते हैं, अल-क़ायदा, जो कि संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए खतरा है, नूसरा फ्रंट और अन्य सहित सीरिया के अंदर काम करने वाले कई अन्य आतंकवादी तत्व हैं।  इसलिए ISIS को पराजित करने के अपने मूलभूत लक्ष्य पर अपना ध्यान बनाए रखने के लिए हम मिलकर काम करना चाहते हैं।

प्रश्न:  महामहिम, मैं हूं हामिद खालिद (पीएच), पाकिस्तान के सबसे बड़े अखबार डेली जंग का प्रतिनिधि।  माननीय सेक्रेटरी से मेरा सवाल है कि क्या आप लोग ISIS से लड़ने और उसे परास्त करने जा रहे हैं।  मेरा सवाल बहुत आसान है:  ISIS को किसने बनाया?  किस देश या किन तत्वों (अस्पस्ष्ट) ने?  आपका धन्यवाद।

सेक्रेटरी टिलरसन:  खैर, इराक़ और सीरिया में चल रहे युद्ध से हालात ने ISIS या दा’ऐश को पैदा किया – इसके अलावा वे क्षेत्र जो असुरक्षित हैं, वे हालात जिन्होंने लोगों को आसान शिकार बना दिया है।  और इसीलिए असल में दोनों देशों में अव्यवस्था और लड़ाई के चलते ये उभरकर सामने आए।  और जैसे ही ये उभरकर सामने आए, इन क्षेत्रों में उनके लिए खाली मैदान पड़ा था और उन्होंने अपनी गतिविधियाँ चलाने के लिए इस क्षेत्र में अपने लिए सुरक्षित पनाहगाह बना लिया।  इसीलिए पहला काम उनकी खिलाफत को पंगु बनाना, उनके इलाके और उनके सुरक्षित पनाहगाह खाली कराना, ताकि वे अपनी योजनाओं और हमलों को अंजाम देने के लिए न तो आतंकियों की भर्ती कर पाएं और न ही धन जुटा पाएं।

प्रश्न:  आपका धन्यवाद।  मैं सीएनएन से मिशेली कोसिंस्की हूं।  सेक्रेटरी महोदय, मैं आज आपसे अहम मुद्दों पर दो सवाल करना चाहती हूं।  पहला, जैसा कि अमेरिका देख रहा है दुनियाभर में उसके कई सहयोगी देशों में लोकतंत्र खत्म हो रहा है और कुछ को लगता है कि अमेरिका का प्रभाव कम हो रहा है, आपको क्यों ऐसा लगता है कि, नेशनल एंडाउमेंट फॉर डेमोक्रेसी से दो तिहाई समेत, स्टेट डिपार्टमेंट के बजट में यह प्रशासन जो दोबारा कम से कम 20 फीसदी की कटौती करना चाहता है कि यह एक अच्छा विचार है?

और इजरायल को लेकर, सीरिया में हालात और खराब न हों इस कोशिश में आप रूस पर अपनी निर्भरता का किस तरह से आकलन करेंगे?  और आप इजरायल की इस टिप्पणी पर क्या कहेंगे कि अमेरिका असल में जमीन पर कोई शक्ति नहीं है और वह इस खेल में है ही नहीं।

और माननीय विदेश मंत्री जी, आज, जैसा कि आपने घोषणा की है कि फिलीपीन्स इस गठबंधन में शामिल हो रहा है, उन्होंने भी यह घोषणा की है कि वे कुवैत से अपने सभी विदेशी कामगारों को निकालना चाहते हैं।  क्या आपको लगता है कि इससे यहां समस्या होगी और खाड़ी में यह एक बड़ा मुद्दा बनेगा?  और क्या आपको लगता है कि यह पहल कुछ बदलावों की ओर ले जाएगी?  धन्यवाद।

सेक्रेटरी टिलरसन:  ठीक है, राष्ट्रपति ट्रम्प प्रशासन द्वारा पेश बजट, खासकर स्टेट डिपार्टमेंट के लिए वास्तव में उस बजटीय स्तर की तरफ वापसी का प्रतिनिधित्व करता है जो चुनाव से पहले पिछले सरकार के दौरान था।  मैं समझता हूं, जब हम प्रतिशत का हवाला देते हैं, तो यह दर्शाना अहम हो जाता है कि हम किससे उसकी तुलना कर रहे हैं।  और आपने जिस प्रतिशतों का हवाला दिया है, वे स्टेट डिपार्टमेंट के लिए ऐतिहासिक उच्चतम वाले बजट थे, जो – मैं आपको बताना चाहूंगा कि जब मैं स्टेट डिपार्टमेंट में आया था, तब मैंने गौर किया था कि स्टेट डिपार्टमेंट अपने सारे बजट का उपयोग करने में सक्षम नहीं था और बहुत बड़ी रकम अगले साल के लिए हस्तांतरित हो जाती थी।

इसलिए, मैं समझता हूं कि ट्रम्प प्रशासन और ओएमबी ने कितना बजट होना चाहिए और हमें कितने धन के लिए अनुरोध करना चाहिए, इस बारे में अलग दृष्टिकोण अपनाया, और यह सुनिश्चित किया कि हम प्राप्त धन का बहुत त्वरित और उत्पादक तरीके से उपयोग करें।  मैं नहीं समझता हूं कि अमेरिका के लोग यह चाहते हैं कि उन्होंने जो टैक्स दिया है वह इसलिए बेकार पड़ा रहे क्योंकि हम अपने कार्यक्रमों को पूरी तरह से लागू नहीं कर पाए।

इसलिए हमें भरोसा है कि हमारे पास संसाधन हैं, जिनकी हमें राष्ट्रपति के विदेश नीति लक्ष्यों के मुताबिक उन्हें क्रियान्वित करने के लिए ज़रूरत है।

सीरिया में जहां तक हमारे रुख की बात है, तो मैं कुछ दो-चार विचार रखना चाहूंगा।  ISIS को परास्त करने के लिए अमेरिका और उसके साथ काम कर रही गठबंधन की सेनाओं का सीरिया के 30 प्रतिशत भूभाग, बहुत बड़ी आबादी और बहुत भारी मात्रा में सीरिया के तेल क्षेत्रों पर नियंत्रण है।  तो इन अवलोकनों को देखते हुए मुझे लगता है कि अमेरिका का महत्व कम है या उसकी भूमिका नाममात्र की है, यह बात गलत है।  हम विरोध में आवाज़ उठाने वालों को एक करने और उन्हें एक लक्ष्य के लिए काम करने के लिए तैयार करने की दोनों ही कोशिशों के लिए जेनेवा में चल रही वार्ताओं में सक्रिय रूप से शामिल हैं, और हम रूस के साथ भी बहुत नजदीकी से बातचीत कर रहे हैं, जिसका असद सरकार पर बहुत गहरा प्रभाव है और जो असद तथा उनकी सरकार को जेनेवा वार्ता के लिए तैयार कर सकता है।  इसलिए, संगठित सीरिया, लोकतांत्रिक सीरिया, नए संविधान के साथ चुनाव के ज़रिए सीरिया के लोग अपने भविष्य का निर्धारण करें, इन सब मामलों में, हमारे सहयोगियों का नजरिया वही है, जो हमारा है और हमारी सहभागिता, साझीदारों के बहुत बड़े समूह के साथ सामंजस्य और सहयोग की है।  सीरिया के भविष्य को लेकर जैसा हम चाहते हैं वैसा हमें भरपूर समर्थन मिल रहा है।

इसीलिए, मुझे लगता है कि हमारी पोजीशन ऐसी है, जिसे कई साझा लक्ष्यों के साथ क्षेत्र के कई साझीदारों का समर्थन मिला हुआ है।

समन्वयक:  (दुभाषिया के माध्यम से)  आपका धन्यवाद।  मैं आपसे विदा लेता हूं।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/02/278284.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें