rss

प्रेस के लिए उपलब्धता कार्यक्रम में कार्यवाहक सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट जे. सुलीवन

English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
23 अप्रैल, 2018
टिप्पणियाँ
प्रेस के लिए उपलब्धता कार्यक्रम में कार्यवाहक सेक्रेटरी ऑफ़ स्टेट जे. सुलीवन
23 अप्रैल, 2018
टोरंटो, कनाडा

 
 

**UNEDITED/DRAFT**

कार्यवाहक सेक्रेटरी सुलीवन: सभी को मेरा नमस्कार। जी7 मंत्रियों की बैठक के लिए टोरंटो में होना बहुत प्रसन्नता की बात है। टोरंटो एक ख़ूबसूरत शहर है (अस्पष्ट) और शानदार मौसम, यहां विश्वविद्यालय में सुंदर व्यवस्थाएँ हैं। यहां हमारे मेज़बानों का शुक्रगुज़ार हूं। कनाडा सरकार और विदेश मंत्री फ्रीलैंड ने हमारे लिए एक शानदार कार्यक्रम रखा है। तो संयुक्त राज्य अमेरिका और राष्ट्रपति ट्रम्प की ओर से, मैं कनाडा और प्रधानमंत्री ट्रूडो और विदेश मंत्री फ्रीलैंड को जी7 के लिए उनके सक्रिय नेतृत्व के लिए हार्दिक सराहना प्रेषित करना चाहता हूं।

अमेरिका हमारे कनाडाई मेज़बानों को सभी के लिए अधिक शांतिपूर्ण और सुरक्षित दुनिया निर्मित करने पर ज़ोर देने के लिए पूरा समर्थन देता है। हम दुनियाभर में महिलाओं द्वारा सामना किए जाने वाली चुनौतियों से निपटने के लिए कनाडा द्वारा रणनीतिक साझेदारियों के ज़रिए किए जा रहे लैंगिक समानता और महिलाओं के सशक्तिकरण को आगे बढ़ाने के प्रयासों की भी सराहना करते हैं।

पिछले कुछ दिनों की हमारी बातचीच बहुत लाभकारी रही है, और अमेरिका अपने जी7 सहयोगियों के साथ सभी जटिल विषयों पर मिलकर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है जिन पर हमने चर्चा की है, और हम अपने नेताओं से हमारी बातचीत पर काम करने के लिए आशान्वित हैं जब वे जून में चार्लेवोक्स में जी7 नेताओं के सम्मेलन में इकट्ठा होंगे।

चर्चा की गई कुछ साझा प्राथमिकताओं में से अंतर्राष्ट्रीय आतंकी और उन्हें समर्थन देने वाले आपराधिक तंत्रों का मुकाबला करने की हमारी संयुक्त प्रतिबद्धता है। जबकि हमने ISIS के खिलाफ इराक़ और सीरिया में साइबरस्पेस और अन्य देशों में काफी महत्वपूर्ण उपलब्धि हासिल की है, हम यह सोचकर शांत खड़े नहीं रह सकते कि वह हार गया है। हमें चौकस रहना होगा।

हम DPRK के अवैध परमाणु और बैलिस्टिक प्रक्षेपास्त्र कार्यक्रमों के निरंतर विकास के खिलाफ भी एकजुट बने हुए हैं। हम दुनियाभर के सभी देशों से कार्रवाई करने और प्योंगयांग को कड़ाई से यह संदेश पहुंचाने और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों को सख्ती से लागू करने का आह्वान करते हैं। अंतर्राष्ट्रीय एकता आवश्यक है क्योंकि हम कूटनीतिक और आर्थिक दबाव डालना जारी रखे हुए हैं, जब तक कि DPRK पूर्ण, सत्यापन योग्य, और अपरिवर्तनीय परमाणु मुक्त बनना स्वीकार नहीं कर लेता।

जी7 देश, ईरान को अंतर्राष्ट्रीय मानकों का पालन करने और उसकी JCPOA के तहत परमाणु-नियत- परमाणु-संबंधी प्रतिबद्धताओं पर सख्ती से कायम रहने के हमारे संदेश की पुनर्पुष्टि करते हैं। संयुक्त राज्य अमेरिका अपने सभी सहयोगियों से साथ मिलकर काम करने का आह्वान करता है क्योंकि हम ईरान की इलाके में अस्थिरता पैदा करने वाली गतिविधियों का विरोध करते हैं और ईरानी सरकार को उनके कार्यों के लिए ज़िम्मेदार ठहराते हैं जिनमें आतंकी संगठनों का समर्थन करना, साइबर हमला शुरू करना, अंतर्राष्ट्रीय नौवहन हितों को खतरा पहुंचाने, और बेशर्मी से मानवाधिकार हनन करना शामिल हैं।

सीरिया चर्चा का एक और प्रमुख विषय था। 13 अप्रैल को, संयुक्त राज्य अमेरिका, फ्रांस, और ब्रिटेन ने सीरिया में तीन ठिकानों पर हमला किया। संयुक्त रूप से हमारे सहयोगियों के साथ मिलकर ये सैन्य कार्रवाइयाँ, सीरियाई सत्ता के रासायनिक हथियारों का उपयोग करके अपने खुद के सैकड़ों लोगों को मारने और घायल करने के जवाब में की गईं। सीरियाई शासन के सबसे हाल के रासायनिक हमले के बाद मृत और घायल बच्चों की तस्वीरों ने दुनिया के सभ्य देशों से कार्रवाई करने की अपील की। संयुक्त राज्य अमेरिका और हमारे प्रमुख सहयोगियों की प्रतिक्रिया केवल असद और अन्य सीरियाई शासकीय अधिकारियों को किए गए अत्याचार के लिए ज़िम्मेदार ठहराने के लिए नहीं थी, बल्कि उनके शासन की क्षमता को कम करने के लिए और भविष्य में रासायनिक हथियारों के उपयोग को रोकने के लिए भी थी।

हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि दुर्भावनापूर्ण सरकार और आतंकी इस निवारण संदेश को समझ लें। हम ISIS के खिलाफ लड़ाई को पूरा करने और उनकी बची हुई शरणगाहों को जड़ से मिटाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। अमेरिका सीरिया में तब तक प्रतिबद्ध बना रहेगा जब तक कि ISIS परास्त नहीं हो जाता और तथाकथित ख़िलाफत पूरी तरह मिट नहीं जाती। हम यह सुनिश्चित करने के लिए काम करेंगे कि हमारे क्षेत्रीय भागीदारों और सहयोगियों द्वारा सक्षम किए गए वैश्विक बल इन उपलब्धियों को मज़बूत करें, मुक्त कराए गए इलाकों को स्थिर करें, और ISIS की वापसी को रोकें। हम ऐसा कोई खाली स्थान नहीं छोड़ेंगे जिसका फायदा असाद शासन और उसके समर्थक उठा सकें।

इसके समानांतर, हम अपने भागीदारों के साथ मिलकर, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के संकल्प 2254 के अनुसार जेनेवा राजनीतिक प्रक्रिया को मज़बूत करने, और सीरिया की तत्काल मानवीय तथा स्थिरीकरण आवश्यकताओं के समाधान के लिए ज़रूरी संसाधन जुटाने के लिए काम करेंगे। हम हमारे क्षेत्रीय भागीदारों और सहयोगियों से सीरिया में प्रयासों को जारी रखने और मुक्त कराए गए इलाकों के स्थिरीकरण के लिए आगे सैन्य बलों, सामग्रियों, और धन का योगदान चाहते हैं।

जैसा कि हम राजनैतिक प्रक्रिया को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं, अमेरिका यह सुनिश्चित करने के लिए प्रतिबद्ध है कि सुन्नी, अरब, कुर्द, ईसाई, तुर्क, और उत्तर पूर्वी सीरिया में अन्य अल्पसंख्यकों समेत सभी को मेज पर पूरी सीट और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 2254 के अनुसार उनके भविष्य को तय करने में उचित हिस्सेदारी रहे।

जी7 देश सहमत हैं कि रूस को शांति में अवरोधों को तुरंत रोकना होगा और संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 2401 के तहत अपनी प्रतिबद्धताओं पर कायम रहना होगा और असाद शासन को भी ऐसा करने पर मजबूर करना होगा। रूस को सीरिया में एक रचनात्मक भागीदार बनना होगा अथवा उसे ज़िम्मेदार ठहराया जाएगा। हम रूस को यूक्रेन में उसकी गतिविधियों के लिए ज़िम्मेदार ठहराए जाने की अपनी प्रतिबद्धता पर भी एकजुट हैं। संयुक्त रूप से, जी7 ने रूस से उसकी मिंस्क प्रतिबद्धता का सम्मान करने, हिंसा को समाप्त करने, और क्रीमिया पर यूक्रेन का नियंत्रण वापस लौटाने का आह्वान किया है।

मेरे द्वारा अभी रेखांकित किए गए सामूहिक चिंता के मुद्दों के अतिरिक्त, पिछले कुछ दिनों में हमने वेनेज़ुएला, लीबिया, और बर्मा में मानवीय संकट सहित अंतर्राष्ट्रीय एजेंडे के अग्रभाग में अन्य कई जटिल मुद्दों पर हमारी एकजुटता पर भी चर्चा की। लगभग 700,000 लोग, अधिकांश रोहिंग्या महिलाएं और बच्चे, अगस्त से बर्मा में हिंसा के कारण पलायन कर गए हैं और बांग्लादेश में शरणार्थियों की संख्या लगभग एक मिलियन हो गई है।

इस गंभीर परिस्थिति की प्रतिक्रिया में, मैं आज घोषणा कर रहा हूं कि हम हमारे ब्यूरो ऑफ़ पॉपुलेशन, रेफ्यूजीस, एंड माइग्रेशन की ओर से बांग्लादेश में संयुक्त राष्ट्र के नेतृत्व वाली एक संयुक्त जवाबी योजना को मदद करने के लिए मानवीय सहायता में अतिरिक्त 50 मिलियन डॉलर प्रदान कर रहे हैं। इसके साथ ही बर्मा के राखिने राज्य और बांग्लादेश में संकट के जवाब में संयुक्त राज्य अमेरिका की ओर से सहायता अगस्त 2017 से अब तक 163 मिलियन डॉलर से अधिक की हो चुकी है और बर्मा में और वहां से विस्थापितों के लिए अक्टूबर 2016 से कुल मानवीय सहायता 255 मिलियन डॉलर से अधिक हो चुकी है।

यह सहायता बांग्लादेशी मेज़बान समुदायों में शरणार्थियों को संरक्षण, आपात आश्रय, पानी, सफाई, स्वास्थ्य देखभाल और संघर्ष से प्रभावित लोगों को मनोवैज्ञानिक समर्थन देने तथा साथ ही साथ उस आगामी मानसून और चक्रवाती मौसम के लिए तैयारी करने में मददगार बनेगी, जिनसे जीवन, आश्रय और अत्यावश्यक सेवाओं तक पहुंच को खासा नुकसान पहुंचने की संभावना है। हम अन्य दानदाताओं से आग्रह करते हैं कि इस संकट से प्रभावित लोगों के लिए अतिरिक्त मानवीय सहायता प्रदान करने के उपक्रम में हमारे साथ जुड़ें।

यहां जी7 मंत्रियों की बैठक में हमारे द्वारा शामिल विषयों के अवलोकन के साथ, मैं आपके सवाल लेने की आशा करता हूं।

सुश्री न्यूअर्ट: आपको धन्यवाद, श्रीमान। और इसके साथ, हम AFP के डेव क्लार्क से शुरुआत करेंगे। डेव, सीधे सवाल पूछिए।

प्रश्न: नमस्कार, आपका धन्यवाद। आपका बहुत-बहुत धन्यवाद। आपने अपनी टिप्पणियों में उल्लेख किया है कि जी7 सदस्य ईरान को JCPOA के अंतर्गत उसकी प्रतिबद्धताओं पर कायम रखने के महत्व पर सहमत हैं। क्या आप यहां अपने सहयोगियों को एक वचन देने में सक्षम थे कि संयुक्त राज्य अमेरिका JCPOA के अंतर्गत अपनी प्रतिबद्धता पर खरा उतरेगा, और खासतौर पर 12 मई के बाद परमाणु संबंधित प्रतिबंधों पर प्रतिबंध छूट को कायम रखने के मामले में? आपका धन्यवाद।

कार्यवाहक सेक्रेटरी सुलीवन: आपका धन्यवाद। खैर, जैसा आप जानते हैं, यह हमारे E3 भागीदारों के साथ चर्चा का एक विषय रहा है। संयुक्त राज्य अमेरिका को ईरान और उसके बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम के साथ, उसके इलाके में – यमन में, सीरिया में, और अन्य जगहों में अस्थिरीकरण और घातक प्रभाव के साथ महत्वपूर्ण चिंताएं हैं, और हमें JCPOA को लेकर भी चिंता है, जिसमें उसके सावधि विधि खंड (सनसेट क्लॉजेस) शामिल हैं।

राष्ट्रपति ट्रम्प ईरान के व्यवहार, घातक व्यवहार के बारे में चिंतित हैं, बहुत चिंतित हैं। JCPOA के साथ उनकी सबसे बड़ी चिंता अप्रसार के लिए चिंता है। हम – कोई भी परमाणु-हथियार वाला ईरान देखना नहीं चाहता। राष्ट्रपति ट्रम्प – राष्ट्रपति ट्रम्प का लक्ष्य इस संपूर्ण प्रक्रिया में JCPOA को मज़बूत करना है यदि यह मज़बूत किया जा सके और अमेरिका तथा अमेरिकियों के हितों की रक्षा करना है जिसे पिछले 40 सालों से अधिक से तेहरान के शासन द्वारा खतरा पहुंचाया जा रहा है।

यह कुछ ऐसा है जिसे मैने अपने परिवार के साथ झेला है। मेरे अंकल ईरान में आखिरी अमेरिकी राजदूत थे। उन्होंने तेहरान छोड़ दिया – उनका और मेरे परिवार का सौभाग्य था – 1979 की गर्मियों में 4 नवंबर, 1979 को उनके स्टाफ को बंधक बना लिए जाने और शासन द्वारा 444 दिनों तक सभी अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों और मूलभूत, मूलभूत मानवीय गरिमा का उल्लंघन करते हुए रखे जाने से पहले।

तो हम समस्या से और ईरान के अस्थिरकारी तथा घातक प्रभाव से बहुत अच्छी तरह से परिचित हैं और राष्ट्रपति इसके समाधान के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमने यहां जी7 मंत्रिस्तरीय बैठक में अपने भागीदारों के साथ उस पर लंबी चर्चा की है।

सुश्री नॉर्ट: आपका धन्यवाद। और हमारा अगला सवाल जाता है कनाडियन प्रेस से माइक ब्लैंचफील्ड को। नमस्कार, माइक।

प्रश्न: सेक्रेटरी महोदय, हमने आज पहले बोरिस जॉनसन और क्रिस्टिया फ्रीलैंड से सुना – रूस से लोकतांत्रिक संस्थाओं में दखलंदाज़ी बंद करने के आह्वान के जी7 के प्रयासों के बारे में। उन्होंने एक कार्यकारी समूह के बारे में बात की जो कि नेताओं को रिपोर्ट करेगा और उनसे रूस के प्रभाव के खिलाफ बोलने का आग्रह करेगा। आपके देश में रूस एक राजनीतिक रूप से गर्म मुद्दा है, ज़ाहिर है, खासतौर पर मूलर जांच को लेकर। कैसे – कैसे आपकी सरकार इस जी7 प्रयास के लिए प्रतिबद्ध है, और कैसे यह संभव है कि हम राष्ट्रपति ट्रम्प को यहां चार्लेवोक्स में इन जी8 – जी7 नेताओं के साथ रूस का आह्वान करने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर खड़े देखें।

कार्यवाहक सेक्रेटरी सुलीवन: खैर, आपने वहां एक संदर्भ दिया – G8 को संदर्भित करते समय आपने खुद को फंसा लिया। यह किसी भी कारण से अब जी8 नहीं है। यह जी7 है। हम सभी घृणित व्यवहारों का समाधान करने के लिए प्रतिबद्ध हैं जिन्हें हमने खासतौर पर हाल ही में रूस द्वारा देखा है, चाहे वह सैलिसबरी में हो, या असाद शासन द्वारा सीरिया में रासायनिक हथियारों के उपयोग को उसका समर्थन हो।

और संयुक्त राज्य अमेरिका ने जी7 में उसके – उसके सहयोगियों और भागीदारों के साथ इस व्यवहार के बारे में सिर्फ बयानबाज़ी का ही काम नहीं किया है; हमने प्रतिक्रिया में महत्वपूर्ण कार्रवाई भी की है। जैसा कि आप जानते हैं, हमने संयुक्त राज्य अमेरिका से बड़ी संख्या में अघोषित रूसी खुफिया एजेंटों को निष्कासित किया है, रूसी कुलीन वर्गों और रूसी संस्थानों, उद्यमों पर व्यापक प्रतिबंध लगाए हैं। तो हमने कार्रवाई की है। रूसी घातक व्यवहार का मुकाबला करने के लिए हम अपने जी7 सहयोगियों के साथ खड़े हैं जहां – जहां पर भी हम उसे देखते हैं।

ऐसा कहने के बावजूद, हम उन क्षेत्रों में रूस के साथ भी काम करना चाहते हैं जहां हम कर सकते हैं और हमें रूस के साथ काम करने की ज़रूरत है, चाहे वह स्थिरीकरण पर हो, नई START बातचीत, INF संधि – संधि उल्लंघन, वास्तव में, रूसियों द्वारा जिसका समाधान हमारे लिए आवश्यक है – आवश्यक है, आतंकवाद के विरुद्ध समाधान। ऐसे कई क्षेत्र हैं जहां पर हमें अभी भी रूस के साथ बातचीत की आवश्यकता है, लेकिन यह हमें किसी ऐसे रूसी व्यवहार के खिलाफ खड़े होने और सामना करने तथा कार्रवाई करने से नहीं रोक सकेगा, जो कि अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों के विपरीत है और जिसके लिए हम सभी जी7 में खड़े हैं। आपका धन्यवाद।

सुश्री न्यूअर्ट: महोदय, आपका धन्यवाद। सभी को धन्यवाद।

कार्यवाहक सेक्रेटरी सुलीवन: धन्यवाद।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/s/d/2018/281135.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें