rss

प्रेस विज्ञप्ति, ईरान पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन द्वारा

English English, العربية العربية, Português Português, Español Español, اردو اردو, Русский Русский

ी व्हाइट हाउस
प्रेस सेक्रेटरी का कार्यालय
त्काल रिलीज़ के लिए 8 मई, 2018

 
 

जेम्स एस. ब्रैडी प्रेस ब्रीफिंग रूम

2:37 P.M. EDT

राजदूत बोल्टन: खैर, मेरे पास राष्ट्रपति के भाषण में जोड़ने के लिए असल में ज्यादा कुछ नहीं है। मुझे लगता है कि निर्णय बेहद स्पष्ट है। मुझे लगता है कि यह न केवल ईरान को परमाणु हथियार, बल्कि बैलिस्टिक मिसाइल की डिलीवरी क्षमता प्राप्त करने से रोकने के लिए अमेरिकी संकल्प का दृढ़ बयान है। यह इसके आतंकवाद को जारी निरंतर समर्थन और इसके कारण मध्य पूर्व में पैदा हो रही अस्थिरता और उथलपुथल को सीमित करता है।

और मुझे लगता है कि राष्ट्रपति ने अगले कदमों का भी खाका खींचा है। जैसा कि उन्होंने अंत में कहा था, वह उस विद्वेषपूर्ण व्यवहार के अधिक व्यापक समाधान पर चर्चाओं के लिए तत्पर हैं जो हम ईरान की ओर से देखते हैं। और हम इस पर पहले से ही अपने सहयोगियों के साथ चर्चा करते रहे हैं। हम इसे सचमुच, कल सुबह की शुरुआत में जारी रखेंगे।

तो मैं बस वहीं रुक जाऊंगा। मुझे किसी भी प्रश्न का उत्तर देने में खुशी होगी। केविन।

प्र. धन्यवाद, इसकी बहुत सराहना करते हैं। उन लोगों के लिए जो बेल्टवे के अंदर नहीं हैं, जो नीति में उलझे हुए नहीं हैं, उनका अत्यंत महत्वपूर्ण सवाल आम तौर पर होता है, “यह हम सभी को कैसे ज्यादा सुरक्षित बनाता है?” क्या आप इसे समझाने में मदद कर सकते हैं? और फिर मैं एक फॉलोअप करना चाहूंगा।

राजदूत बोल्टन: अवश्य। देखो, जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा था, यह समझौता बुनियादी तौर पर दोषपूर्ण था। यह वही नहीं करता जिसे करने का इसका दावा है। यह ईरान को वितरण योग्य परमाणु हथियार विकसित करने से नहीं रोकता है। यह ईरान को यूरेनियम संवर्धन, प्लूटोनियम के पुन: प्रसंस्करण जैसी तकनीकों को जारी रखने की अनुमति देता है। यह उनको अनुमति देता है — भले ही वे इस समझौते के अनुपालन में हों — कि वे अपने परमाणु क्षमताओं के परिष्कार पर अपने अनुसंधान एवं विकास को बढ़ा सकें। और यह ईरानी आकांक्षाओं के सैन्य आयाम का बिल्कुल अपर्याप्त उपचार है।

बुनियादी हथियार नियंत्रण समझौते संबंधी प्रथा के विपरीत, कभी भी कोई आधारभूत घोषणा नहीं थी। असल में, ईरान ने लगातार इस बात से इनकार किया है कि उसका कभी कोई सैन्य कार्यक्रम था। यह सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2231 में निहित है। और जैसा कि हमने पहले ही हमारे द्वारा एकत्रित डेटा में देखा है, जिस पर इजरायल ने पिछले हफ्ते चर्चा की थी, कि इसका विफल होना तय है। न तो इस समझौते में पर्याप्त निरीक्षण प्रावधान है, न ही हमें आश्वस्त होने देता है कि हमने ईरान की परमाणु संबंधी गतिविधियों का पता लगाया है।

और फिर जब आप समझौते के पीछे सिद्धांत में इस तथ्य को जोड़ते हैं — कि अगर हम ईरान की परमाणु आकांक्षाओं को सीमित करने के लिए समझौते तक पहुंच सके, तो यह उनके व्यवहार को और अधिक वैश्विक रूप से बदल देगा — यह भी पूरी तरह से झूठा साबित हुआ है।

इसलिए इस नई वास्तविकता को गढ़ते हुए, यह मानते हुए कि ईरान ने वार्ताओं की अवधि का इस्तेमाल किया है, अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम दोनों की क्षमता तथा परिष्कार दोनों को बढ़ाने के लिए, और 2015 में इस समझौते के बाद से ऐसा करना जारी रखा है — परमाणु हथियारों और उनकी डिलीवरी क्षमताओं के विकास से ईरान को रोकने के रास्ते पर पहुंचने का एकमात्र सुनिश्चित तरीका समझौते से बाहर निकलना है। और राष्ट्रपति ने यही किया है।

प्र. मेरा फॉलोअप बस ईरान में नेतृत्व के साथ बातचीत के बारे में होगा। आपके ओहदे खास तौर पर संयुक्त राष्ट्र में आपके अनुभव को देखते हुए, आप जानते हैं कि यह कैसे हो सकता है। यह खतरे से भरा हुआ है, कुछ लोग निश्चित रूप से कहेंगे, और अन्य लोग कहेंगे कि वार्ता में फिर से शामिल होने के लायक, भले ही सिर्फ आवश्यक सावधानी के लिए ही सही। क्या आप पहले से ही इसे प्रशासन के नज़रिए से होता देखते हैं?

राजदूत बोल्टन: राष्ट्रपति ने भाषण के अंत में स्पष्ट रूप से उन शब्दों में कहा जो सीधे उनके मुंह से आए थे। एक तकलीफ भरा सबक जो बहुत समय पहले अमेरिका ने सीखा, लेकिन जिसे डीन एकेसन ने एक बार कहा था, वह है कि हम मोलभाव तभी कर सकते हैं जब हमारी स्थितियां मज़बूत हों। यह एक सबक था जिसका अनुसरण पिछले प्रशासन ने नहीं किया था।

और मुझे लगता है कि आज घोषित समझौते से वापसी का एक और पहलू संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए मज़बूत स्थितियां तैयार करना करना है, और इसका निहितार्थ महज ईरान के लिए नहीं, बल्कि उत्तरी कोरिया के किम जोंग-उन के साथ आगामी बैठक के लिए भी होगा। जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा कि यह एक बहुत स्पष्ट संकेत भेजता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अपर्याप्त समझौते स्वीकार नहीं करेगा।

जोनाथन।

प्र. सौ के संदर्भ में — 180 दिनों में क्या होता है, अंततः ईरान के साथ व्यापार करने वाली यूरोपीय कंपनियों के साथ क्या होने वाला है? क्या हम निश्चित रूप से उन कंपनियों को प्रतिबंधित करने जा रहे हैं? या क्या 180-दिन की अवधि है जहां संभावित रूप से बातचीत की जा सकती है?

राजदूत बोल्टन: खैर, जिस निर्णय पर राष्ट्रपति ने आज हस्ताक्षर किए, वह प्रतिबंधों को उस जगह पर वापस लाता है जो समझौते के समय मौजूद थे; यह उन्हें तुरंत उसे जगह पर पहुंचाता है।

अब, इसका मतलब यह है कि प्रतिबंधों से ढके अर्थशास्त्र के क्षेत्र में, कोई नए अनुबंध की अनुमति नहीं है। ट्रेजरी की ओर से अगले कुछ घंटों में घोषणा की जाएगी, जिसे वे धीमे-धीमे समेटने के प्रावधान कहते हैं जो मौजूदा अनुबंधों से निपटेंगे। और इन अनुबंधों के भीतर इनके समापन के लिए अलग-अलग अवधियां होंगी। कुछ छह महीने तक विस्तारित होंगी; कुछ 90 दिन की हो सकती हैं। साथ ही अन्य प्रावधान भी हो सकते हैं।

प्रस्ताव 2231 के प्रावधानों के उपयोग की संभावना के कारण 2015 से इस आकस्मिकता को ट्रेजरी विभाग की वेबसाइट पर पोस्ट किया गया है, जिसका हम उपयोग नहीं कर रहे हैं क्योंकि हम इस समझौते से बाहर हैं। लेकिन दूसरे शब्दों में, यह अवधारणा कि समापन के लिए एक लंबी अवधि होगी जो कि पहले से ही वहां लंबे समय से मौजूद थी। और हम बुनियादी तौर पर इस पैटर्न का अनुसरण करेंगे — हम अनुसरण कर रहे हैं। लेकिन प्रतिबंधों की वापसी होने का तथ्य अब प्रभावी है।

प्र. लेकिन इस दौरान उस पर बातचीत नहीं की जाएगी — उन मौजूदा लोगों के लिए —

राजदूत बोल्टन: हम समझौते से बाहर हैं।

प्र. हम बाहर हैं।

राजदूत बोल्टन: हम समझौते से बाहर हैं। हम समझौते से बाहर हैं।

प्र. हम समझौते से बाहर हैं।

राजदूत बोल्टन: आप समझ गए।

प्र. अगर उत्तरी कोरिया (अस्पष्ट) परमाणु हथियारों को, और आपने कहा कि यह उत्तरी कोरिया के लिए बहुत महत्वपूर्ण संकेत हैं, क्या (अस्पष्ट) मतलब है? क्या परमाणु मुद्दे पर और अधिक विवरण है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि उत्तरी कोरिया को संदेश यह है कि राष्ट्रपति एक असल समझौता चाहते हैं; यह हम जो चाह रहे हैं, जो सेक्रेटरी पोम्पेयो लोगों के साथ उत्तरी कोरिया में चर्चा करेंगे, जब वह किम-जोंग-उन के साथ बैठक की आगे की तैयारियों के लिए वहां आएंगे — आंशिक रूप से, उस पर निर्भर करता है कि क्या उत्तरी कोरिया खुद 1992 की संयुक्त उत्तर-दक्षिण परमाणुमुक्त होने की घोषणा पर वापस जाने के लिए सहमत है: परमाणु ईधन चक्र के फ्रंट और बैकएंड दोनों का उन्मूलन; कोई यूरेनियम संवर्धन नहीं; कोई प्लूटोनियम पुन:प्रसंस्करण नहीं। कुछ अन्य चीज़ें भी हैं जो हम साथ में चाहेंगे।

लेकिन जब आप परमाणु विस्तार के खतरे का उन्मूलन करने के प्रति गंभीर हैं, तो आपको उन पहलुओं का भी समाधान करना होगा जो कि एक महत्वाकांक्षी परमाणु हथियार वाले देश को वहां पहुंचने देते हैं। ईरान समझौते ने ऐसा नहीं किया। एक समझौता जिस तक हम पहुंचने की उम्मीद करते हैं, राष्ट्रपति आशावादी हैं कि हम उत्तरी कोरिया के साथ कर सकते हैं, जो उन सभी मुद्दों का समाधान करेगा।

हां, श्रीमान।

प्र. धन्यवाद, राजदूत महोदय। आपने कहा कि प्रशासन का लक्ष्य ईरान की विद्वेषपूर्ण गतिविधियों का समाधान करना है, लेकिन आप उम्मीद कर रहे हैं कि उन गतिविधियों के समाधान का एक हिस्सा सत्ता परिवर्तन है? क्या इस निर्णय के अनुसरण में इस प्रशासन का ऐसा कोई लक्ष्य है?

राजदूत बोल्टन: नहीं, कई यूरोपीय देशों के अपने समकक्षों से चर्चा के बाद, राष्ट्रपति ने जो कहा, इसको देखते हुए कि जो राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा, जो चांसलर मर्केल ने कहा, जो उन्होंने प्रधानमंत्री मे से कहा, वह यह है कि राष्ट्रपति और अन्य लोगों द्वारा समझौते के बारे में की गई मूलभूत आलोचनाओं में से एक यह है कि यह ईरान के अस्वीकार्य व्यवहार के सिर्फ एक सीमित पहलू के समाधान की बात थी — जो कि निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण पहलू है — लेकिन इस तथ्य को ध्यान में नहीं रखना, कि यह कई सालों से, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद का केंद्रीय बैंकर रहा है।

इसलिए प्रतिबंध हटाने से, जैसा कि 2015 में समझौते के परिणामस्वरूप हुआ, उस गतिविधि को बढ़ावा देने में मदद मिली जो ईरान अब सीरिया में कर रहा है। पूरे क्षेत्र और विश्व में, उसका हिजबुल्ला और हमास जैसे आतंकी समूहों को समर्थन है। और यह कि वास्तव में इस खतरे से निपटने के लिए और मध्य पूर्व में शांति और स्थिरता लाने के प्रयास में, और परमाणु खतरे की दुनिया से छुटकारा पाने के लिए, आपको पूरी चीज़ के पीछे जाना होगा। यही बात उन्होंने यूरोपीय नेताओं के साथ की, और हम इसको आज़माने और इसे आगे बढ़ाने जा रहे हैं।

हां, मैडम।

प्र. धन्यवाद, राजदूत बोल्टन। मैं जानना चाहती हूं यदि आप स्पष्ट कर सकें कि टोटल जैसी कंपनियों का क्या होगा।

राजदूत बोल्टन: टोटल।

प्र. माफ कीजिए, इसे समझाइये। वे इसमें से छूट मांग रहे थे क्योंकि उन्होंने तेहरान के साथ इस घोषणा से पहले एक अनुबंध किया हुआ है। क्या उन्हें एक छूट मिलेगी? क्या किसी को भी कोई छूट मिलेगी?

राजदूत बोल्टन: खैर, मैं विशिष्ट मामलों पर चर्चा नहीं करना चाहता। और, जैसा मैने कहा, ट्रेजरी इसे और विस्तार से समझाएगी।

लेकिन समेटने वाले (विंड-डाउन) प्रावधानों का उद्देश्य — उदाहरण के लिए, ईरान से तेल खरीद मामले में, यदि यह एक दीर्घकालिक आवश्यकताओं का अनुबंध है, उदाहरण के लिए — हम क्या कह रहे हैं कि, हालांकि प्रतिबंध फिर से तुरंत प्रभाव से वापस आ गए हैं, नए अनुबंधों को छोड़कर, उनके लिए जो हमारे निर्णय से प्रभावित हुए हैं, उनके पास इसे समाप्त करने के लिए छह माह हैं। और यदि यह समयावधि — 90 दिन या अन्य अवधि के रूप में सामने आती है — तो फिर यह प्रतिबंध मौजूदा अनुबंधों पर भी प्रभावी हो जाएंगे। तो इसीलिए इसे “विंड-डाउन” कहा जाता है। यह व्यवसायों को बाहर निकलने का एक मौका देने का एक तरीका है।

प्र. उत्तरी कोरिया पर — क्या आप इसका उत्तर जल्दी से दे देंगे? राष्ट्रपति ने अपनी आज की टिप्पणियों में एक तरह से इसे छुआ था — लेकिन असल में सेक्रेटरी ऑफ स्टेट पोम्पेयो उत्तरी कोरिया क्यों जा रहे हैं? और क्या वे वहां कैदियों को घर वापस लाने के लिए हैं — तीन कैदी जो कि संभवतः इस सप्ताह घर वापस आ रहे हैं?

राजदूत बोल्टन: खैर, देखिये, इस मिशन का उद्देश्य अगली बैठकों की तैयारी करना है। राष्ट्रपति ने कई बार कहा है कि वे बंधकों की रिहाई चाहते हैं, और इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है।

हां, श्रीमान।

प्र. धन्यवाद, राजदूत। दो सवाल। एक, आपने उल्लेख किया कि यह उत्तरी कोरिया के लिए एक संकेत था। क्या यह इसका भी संकेत नहीं है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अब समझौते करेगा और फिर जब राजनीतिक हवा बदलेगी तो उनसे बाहर निकल जाएगा?

राजदूत बोल्टन: खैर, उन्होंने ऐसा बिलकुल भी नहीं कहा है। यहां मुद्दा यह है कि क्या संयुक्त राज्य अमेरिका वह समझौता स्वीकार करेगा जो कि उसके रणनीतिक हित में नहीं है, जो कि हमारे फैसले से, 2015 में हुआ था। और कोई भी राष्ट्र पिछली भूलों को सुधारने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

मैं आपको एक उदाहरण दूंगा: 2001 में, जॉर्ज डब्ल्यू बुश प्रशासन ने 1972 की एंटी-बैलिस्टिक मिसाइल संधि से हाथ खींच लिये थे — इसलिए नहीं कि हम आरोप लगा रहे थे कि रूसी उसका उल्लंघन कर रहे हैं, हालांकि वे कर रहे थे, बल्कि इसलिए कि वैश्विक रणनीतिक वातावरण बदल गया था। और यह जीवन का एक तथ्य है, और यही हम यहां कह रहे हैं।

प्र. आपने ABM संधि के बारे में एक दिलचस्प बिंदु उठाया। ईरान के व्यवहार पर राष्ट्रपति की आपत्ति का हिस्सा उनकी ओर से बैलिस्टिक मिसाइलों का विकास था। और बड़ी तस्वीर से देखने पर यह लगता है कि — सौदे को लेकर उनकी कई आपत्तियां ये थीं कि इसमें सिर्फ परमाणु हथियारों को शामिल किया गया और इसने ईरान की क्षेत्रीय ताकत बनने की महत्वाकांक्षा पर लगाम नहीं लगाई। क्या हम यह तय करना चाह रहे हैं कि मध्य पूर्व में कौन सत्ता में रह सकता है और कौन नहीं? क्या यह वही है जो हम यहां कर रहे हैं, महोदय?

राजदूत बोल्टन: देखिए। मैं समझता हूं कि राष्ट्रपति ने आज अपनी टिप्पणियों में यह साफ कर दिया है कि ईरान का आचरण पूरे क्षेत्र मे सभी मोर्चों पर किस तरह हानिकारक रहा है, और परमाणु समझौते की एक प्रमुख नाकामी यह रही कि उसने अन्य घातक व्यवहारों का समाधान नहीं किया। तो जो हम वहां कर रहे हैं उसका यही उद्देश्य है।

हां, श्रीमान।

प्र. श्रीमान राजदूत महोदय, आपका बहुत धन्यवाद। आज इस घोषणा को करने के बाद, आप, यूरोपीय सहयोगी जो इस समझौते में शामिल हैं, उनसे क्या करने की उम्मीद करते हैं? क्या आप उनका आह्वान कर रहे हैं, या राष्ट्रपति उनसे आह्वान करेंगे, इस समझौते से बाहर आने के लिए? और दूसरा, यदि आप हमें, किसी तरह का, परदे के पीछे की बातें या नज़रिया या स्पष्टीकरण दे सकें इस बारे में कि राष्ट्रपति किस तरह इस निर्णय पर आए।

राजदूत बोल्टन: ठीक है, पहले मुझे दूसरे सवाल का जवाब देने दीजिए। वे 2016 के चुनाव प्रचार के शुरुआती दिनों से ही कह रहे हैं कि उन्होंने सोचा कि यह समझौता अमेरिकी राजनयिक इतिहास में किए गए सबसे बुरे सौदों में से एक है, एक आकलन के बारे में जो मैं नहीं समझता कि दोहराई गई टिप्पणियों में वे इससे ज्यादा स्पष्ट हो सकते हैं, चूंकि उन्होंने पहले ही सवाल का समाधान कर दिया था।

यूरोपीय और अन्य सहयोगियों के संबंध में, हम उनके साथ पिछले कई महीनों से गहन परामर्श कर रहे हैं। मुझे लगता है कि जबसे मैं यहां हूं, मैने उनके साथ परामर्श में अधिक समय बिताया है संभवत: किसी भी अन्य चीज़ से ज्यादा जो मैंने की है, शुरुआत सीरियाई रासायनिक हथियार हमले पर प्रतिक्रिया के साथ हुई, लेकिन सचमुच ईरान के सवाल पर जारी है। और यह कुछ ऐसा है जिसे राष्ट्रपति बहुत ही महत्वपूर्ण मानते हैं।

और यहां राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में शामिल सभी लोग यूरोपीय और अन्य लोगों से बातचीत में व्यस्त रहेंगे, जो कि इसके द्वारा प्रभावित हैं कि हम इसे आगे कैसे ले जाते हैं। यह सिर्फ यूरोपीय लोगों का मामला नहीं है। जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा, हमारे पास मध्य पूर्व में बहुत सारे लोग हैं जो कि ईरान के परमाणु हथियार कार्यक्रम के बारे में बहुत चिंतित हैं। वे भी, इस चर्चा में शामिल होंगे।

प्र. हां। श्रीमान. राजदूत महोदय —

प्र. राष्ट्रपति मैकरॉन — मुझे उस एक विषय पर समाप्त कर लेने दीजिए। राष्ट्रपति मैकरॉन आए, चांसलर मर्केल शहर में आईं। आप काफी सही कहते हैं कि राष्ट्रपति 2016 से कहते आ रहे हैं कि वे इस समझौते से बाहर निकलना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने अभी तक ऐसा नहीं किया। उन्होंने असल में यह कब तय किया?

राजदूत बोल्टन: खैर, वे अभी तक समझौते से बाहर नहीं आए, क्योंकि उन्होंने सौदे को ठीक करने के प्रयास के लिए कई बार मौके दिए। लेकिन मैं समझता हूं, जैसा कि हमने विभिन्न ईरानी नेताओं की टिप्पणियों में पिछले कई सप्ताहों में देखा है, ईरान सरकार को इस समझौते को बदलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। और वे क्यों चाहेंगे? यह एक बेहतरीन समझौता था।

मैं समझता हूं कि राष्ट्रपति सभी प्रयासों को आगे बढ़ने देना चाहते थे, और उन्होंने 12 मई की समय सीमा से कुछ दिनों पहले तक यही किया। और मुझे लगता है कि ज़बर्दस्त सबूतों के सामने आने के बाद कि समझौते के मूल दोष दूर नहीं किए जा सकते, उन्होंने आगे बढ़ने का निर्णय लिया।

प्र. श्रीमान राजदूत महोदय, कुछ त्वरित प्रश्न। एक, क्या आप इसे गलत ठहरा सकते हैं — कुछ ऐसे लोग हैं जो मानते हैं कि यह संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए ईरान की ज़मीन पर अपने पैर जमाने की सिर्फ एक शुरुआत भर है। क्या यह सही है?

राजदूत बोल्टन: वे बुरी तरह से गलत माने जाएंगे यदि वे ऐसा सोचते हैं।

प्र. और दूसरा, हालांकि हम इस समझौते से बाहर निकल आए हैं, आपके पास योजनाएं हैं — क्या हम ईरान वापस जाकर चर्चा करने की योजना बना रहे हैं — हालांकि आपने डीन एकेसन का उल्लेख किया; वह वियतनाम और कोरिया का मामला था, और हमें अब बेहतर सफलता की उम्मीद है —

राजदूत बोल्टन: मुझे नहीं लगता कि डीन वियतनाम में बहुत ज्यादा शामिल थे, लेकिन जारी रखें।

लेकिन फिर भी, क्या हम उनके साथ बैठने वाले हैं और मज़बूत स्थिति से बातचीत करने की कोशिश करने वाले हैं?

राजदूत बोल्टन: हां। देखिये, राष्ट्रपति ने अपने भाषण में जो कहा, मुझे लगता है, वह काफी स्पष्ट था — मुझे नहीं पता कि मैं उस पर और क्या वर्णन दे सकता हूँ — वह यह कि हम तैयार हैं, यूरोपीय देशों और अन्यों के साथ, ईरान के आचरण के सभी पहलुओं को संबोधित करते हुए एक बहुत व्यापक सौदे के बारे में बात करने के लिए जो हमें आपत्तिजनक लगता है। हम अभी शुरुआत करने के लिए तैयार हैं।

प्रश्न लेकिन क्या उन्होंने कहा है कि वे हमसे बात करेंगे? क्या आपने उनसे बात की है?

राजदूत बोल्टन: राष्ट्रपति ने अपने भाषण में स्पष्ट तौर पर ऐसा कहा है। उन्होंने कहा कि वे कहते हैं कि वे ऐसा नहीं करना चाहते, और फिर उन्होंने कहा, यदि मैं उनकी जगह होता तो मैं भी ऐसा ही कहता। लेकिन वह उम्मीद करते हैं कि वे ऐसा करेंगे। और हम सभी के साथ इस बारे में बात करेंग़े।

हाँ, मैडम।

प्रश्न आज की राष्ट्रपति ज़ी की फोन कॉल के बारे में एक सवाल। क्या राष्ट्रपति ट्रम्प की राष्ट्रपति ज़ी के साथ विचार-विमर्श किये गये परमाणु समझौते के संबंध में की गई घोषणा? और क्या चीन को किन्हीं भविष्य की वार्ताओं का हिस्सा बनाने के लिए कोई प्रयास किये गये थे?

राजदूत बोल्टन: हाँ, यह मुद्दा सामने आया था, लेकिन मैं इस बारे में कोई विवरण बताना नहीं चाहूंगा।

जॉन।

प्रश्न धन्यवाद राजदूत महोदय। मुद्दों में से के बात जो इरानियन आजादी की शिखर-वार्ता में बार-बार सामने आई, ईरानी निर्वासन की निर्वाचिका, वह शासन परिवर्तन था। और एक बिंदु पर, मेयर गियुलिआनी ने कहा: यदि आप शासन परिवर्तन चाहते हैं, तो अपने आस-पास देखें। यह कमरे में ही मौजूद है। क्या प्रशासन ने ईरान निर्वासन समुदाय से कोई सम्पर्क किया है, जैसे कि नैशनल काउंसिल फॉर इरानियन रेस्टिटेंस? और क्या वे निर्वासन में एक सरकार या ईरान में भविष्य में सरकार बनाने के तौर पर उनकी बात करते हैं?

राजदूत बोल्टन: मैं इन सबसे अवगत नहीं हूँ, और यह कुछ ऐसा नहीं था जो कभी सामने आया हो।

हाँ, मैडम।

प्रश्न धन्यवाद राजदूत महोदय। शासन में परिवर्तनों के बारे में कुछ और बात करते हुए, जब राष्ट्रपति मैकरॉन यहाँ मौजूद थे, उन्होंने ईरान सौदे में सफलता के लिए अपने चार स्तंभों के बारे में बात की, और उनमें से बहुत कुछ सीरिया के सबंध में थे और सीरिया को राजनीतिक तौर पर स्थायी बनाने के संबंध में थे। क्या यह प्रशासन सोचता है कि आप बशर अल-असाअद के तहत शांति और राजनीतिक स्थिरता प्राप्त कर सकते हैं? या वहाँ भी, यह प्रशासन एक शासन के बदलाव का संभावित रूप से समर्थन करता है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि राष्ट्रपति ने कुछ हफ्ते पहले अपने संबोधन में स्पष्ट किया था जब उन्होंने सीरियाई रासायनिक हथियार हमले की प्रतिक्रिया की घोषणा की थी, कि वहां सैन्य बल का उपयोग और हमारे राजनयिक प्रतिक्रिया द्रव्यमान के विनाश के हथियारों के उपयोग के सवाल तक ही सीमित थीं। हम स्पष्ट रूप से ISIS क्षेत्रीय खलीफा को मिटाने का काम पूरा करने के लिए चिंतित हैं, लेकिन ईरान के माध्यम से अपने प्रभाव को विस्तारित करने, सीरिया में असाद शासन के साथ जुड़ने और लेबनान में हेज़बुल्लाह के बारे में बहुत चिंतित हैं। ऐसा कुछ है कि राष्ट्रपति मैकरॉन, चांसलर मार्केल, प्रधानमंत्री मई ने सभी ने ऐसा कहा है।

इसलिए मध्य पूर्व में स्थायी शांति और सुरक्षा की संभावना बहुत जटिल कारकों को संबोधित करने पर निर्भर करती है, लेकिन निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका यह है कि ईरान ने अस्थिरता और संघर्ष का समर्थन करने में भूमिका निभाई है। और जैसा कि मैंने कहा है, राष्ट्रपति ने कई यूरोपीय नेताओं के साथ बातचीत की है, यह है कि क्या हम ईरान के व्यवहार को रोकने के समग्र प्रयास के हिस्से के रूप में इसे संबोधित कर सकते हैं। और यही चल रहा है।

हाँ, श्रीमान।

प्रश्न हाँ, मैं उम्मीद कर रहा था कि आप प्रतिबंधों की समय-सीमा को स्पष्ट कर पाएँ। आपने कहा कि प्रतिबंध अब प्रभावी हैं। ट्रेज़री सेक्रेटरी ने अभी-अभी एक बयान दिया, जबकि आपने बात की, कि एक 90 दिनों की विंड-डाउन और 180 दिन की विंड-डाउन के बारे में बात की। तो क्या ऐसा है कि वापस लेने की कार्रवाई अभी हुई है, और फिर प्रतिबंध 90 या 180 दिनों पर आते हैं? या क्या इस सेकेंड पर ही वास्तव में प्रतिबंध लगाये जा रहे हैं?

राजदूत बोल्टन: आइये मैं फिर से कोशिश करता हूँ। हमने इस सौदे से बाहर निकलने की घोषणा की। तो हम इस सौदे से बाहर हैं। राष्ट्रपति ने एक निर्णय ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जो विभागों और एजेंसियों को इसे प्रभावित करने के लिए निर्देश देता है। और इसका एक हिस्सा ओबामा प्रशासन द्वारा छोड़े गए परमाणु से संबंधित सभी प्रतिबंधों को बहाल करना है। इसलिए जैसे ही वे प्रक्षेपित होते हैं, वे प्रतिबंध लागू हो जाते हैं।

इसका अर्थ यह है कि, किसी भी नए या संभावित अनुबंध के संबंध में जो इसके अंतर्गत आता है – हमारे अधिकार क्षेत्र द्वारा कवर की गई संस्थाओं के साथ, कि वे प्रतिबंधित हैं। तो, दूसरे शब्दों में, निर्धारित क्षेत्रों में कोई नये अनुबंध नहीं हैं।

पहले से मौजूद अनुबंधों के लिए, अनुबंध की व्यवस्थित समाप्ति की अनुमति देने के लिए एक विंड-डाउन अवधि है, ताकि लोग जो — प्रतिबंधों की छूट पर भरोसेमंद निर्भरता में — व्यवसाय में लगे हुए हैं, पूरी तरह से आश्चर्यचकित नहीं होते।

अब, जैसा कि मैंने कहा है, वस्तुओं की प्रकृति के आधार पर अलग-अलग विंड-डाउन अवधियाँ होने जा रही हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कि व्यवसाय की दुनिया में कोई भी इस कार्रवाई से हैरान है।

प्रश्न श्रीमान राजदूत —

राजदूत बोल्टन: जी हां।

प्रश्न मेरे पास आपके लिए दो सवाल हैं। तो पहला यह कि, क्या आप विवाद पर बहस करेंगे कि, सभी तकनीकी लक्ष्यों और उद्देश्यों के लिए, यह अमेरिका ही है, जो इस कार्रवाई के साथ, JCPOA का उल्लंघन कर रहा है?

राजदूत बोल्टन: नहीं मुझे नहीं लगता कि हम उल्लंघन कर रहे हैं; मुझे लगता है कि हम बाहर निकल रहे हैं।

प्रश्न लेकिन आप यह भी स्वीकार करते हैं कि ईरान तो अनुपालन कर रहा था? यह प्रशासन —

राजदूत बोल्टन: मैं नहीं मानता। नहीं। मुझे लगता है कि ऐसे कई मामले हैं जहां हम कहने में असमर्थ हैं कि वे अनुपालन में हैं या नहीं। ऐसे कुछ मामले भी हैं जहां मुझे लगता है कि वे स्पष्ट रूप से उल्लंघन में हैं।

उदाहरण के लिए, भारी पानी के उनके उत्पादन ने JCPOA के तहत अनुमत सीमाओं को बार-बार पार किया है। वे लगभग भारी जल उत्पादन व्यवसाय में हैं। उन्होंने ओमान को भारी मात्रा में बेचा है। उन्होंने इसे यूरोपीय देशों को बेचा है। यह भारी जल उत्पादन सुविधाओं को जीवित रखने का एक तरीका है। वे गर्म हैं। और वह खतरे का हिस्सा है। और उन्होंने सीमाएँ पार कर ली है।

मैं दूसरों के बारे में भी बता सकता हूँ।

प्रश्न: मेरे पास उत्तरी कोरिया पर भी आपके लिए एक और सवाल है। लेकिन बस उस पर अनुवर्ती प्रश्न के तौर पर, यह प्रशासन – मेरा मतलब है, इस प्रशासन में इंटेल अधिकारी, जैसा कि आप जानते हैं, ने कहा कि ईरान तकनीकी रूप से अनुपालन में है।

राजदूत बोल्टन: नहीं, मुझे लगता है कि उन्होंने कहा है तकनीकी —

प्रश्न तो क्या यह कानून के तात्पर्य का मुद्दा है।

राजदूत बोल्टन: नहीं, नहीं। मुझे लगता है कि उन्होंने कहा है कि — उन्होंने इसे एक गैर-तकनीकी मुद्दे के रूप में विशेषीकृत किया है। मुझे लगता है कि आपको इस बात पर ध्यान देना चाहिए, कि इस सौदे की शर्तों की सीमाओं पर दबाव डालने के ईरानी व्यवहार का समग्र पैटर्न है, और हमारी बुनियादी अनिश्चितता, चाहे हम सबकुछ जानते हों। आप यह नहीं कह सकते कि ईरान अनुपालन में है जबतक कि आप 100 प्रतिशत निश्चित नहीं हैं कि IAEA और हमारी खुफिया जानकारी अचूक है।

प्रश्न: मैं उत्तरी कोरिया के बारे में भी पूछना चाहता हूं, यह देखते हुए कि यह सब संबंधित है। सेक्रेटरी —

राजदूत बोल्टन: काश कि हम ऐसा कह पाते। लेकिन मैं किसी को भी नहीं जानता जो ऐसा चाहता है।

प्रश्न: क्या आप उत्तरी कोरिया के बारे में यह कहने में सक्षम होंगे, उदाहरण के लिए, यदि आप उनके साथ सौदा करते हैं?

राजदूत बोल्टन: देखो, नहीं, यह है – किसी भी प्रसार या हथियार नियंत्रण सौदे के सत्यापन और अनुपालन पहलू बिल्कुल ज़रूरी हैं। और यहां, ईरान सौदे में, जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा था, वे पूरी तरह से अपर्याप्त थे।

प्रश्न जल्दी से, बंदियों पर। सेक्रेटरी पोम्पेयो संवाददाताओं को बता रहे हैं कि वह इस मुद्दे को प्योंगयांग में अपनी बातचीत में लाएंगे। अगर उन बंदियों को रिहा नहीं किया जाता है, तो क्या इसका मतलब यह है कि राष्ट्रपति किम के साथ बातचीत नहीं करेंगे? क्या यह सौदा करवाने में महत्वपूर्ण है?

राजदूत बोल्टन: देखो, मैं उस पर अटकलें नहीं चाहूंगा। सेक्रेटरी पोम्पेयो उत्तरी कोरिया में लगभग ज़मीन पर है, और वह राष्ट्रपति का वार्ताकार है, और मुझे लगता है कि हम निर्णय के लिए उसे देखेंगे कि यह कैसे बाहर जा रहा है।

हाँ, मैडम।

प्रश्न आपका धन्यवाद। तो जब आप कहते हैं कि इस सौदे से पहले मौजूद प्रतिबंधों को वापस स्थापित किया गया है, तो क्या इसका मतलब यह है कि 2015 के सौदे से पहले हम यथास्थिति में वापस आ गए हैं? और प्रशासन ईरान को मेज पर आने के लिए मजबूर करने के लिए और अधिक प्रतिबंध लगाने या अधिक करने की योजना बना रहा है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि अमेरिकी परिप्रेक्ष्य से कौन से प्रतिबंध लागू हैं, इस मामले में हम वापस अपने स्थान पर हैं। लेकिन जैसा कि आप अपने प्रश्न में पूछते हैं, मुझे लगता है कि यह पूरी तरह से संभव है कि अतिरिक्त प्रतिबंधों का पालन किया जाएगा क्योंकि नई जानकारी प्रकाश में आती है। और यह कुछ ऐसा है जो हमें दृढ़ता से आगे बढ़ाना चाहिए क्योंकि हम ईरान पर जितना अधिक आर्थिक दबाव डाल सकते हैं, और उन राजस्वों से इनकार कर सकते हैं जिन्हें वे अब लेनदेन से प्राप्त कर चुके हैं जो हम अब खत्म कर रहे हैं।

प्रश्न तो अमेरिका सौदा से बाहर है; यह अभी बहुत स्पष्ट है। लेकिन क्या राष्ट्रपति ट्रम्प ने नए समझौते शुरू करने के लिए एक राजनयिक पहल के लिए समय सीमा की तरह आगे बढ़े? क्योंकि वह एक अभी भी एक सौदे पर जाना चाहते हैं।

राजदूत बोल्टन: हाँ, यह आज की घोषणा से पहले यूरोपीय और अन्य सहयोगियों के परामर्श से पहले ही शुरू हो चुका है, क्योंकि हम यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे वापसी के तहत एक लाइव विकल्प थे, हम उनकी सोच के बारे में पूरी तरह से पारदर्शी होने की कोशिश कर रहे थे। और मुझे लगता है कि राष्ट्रपति के पास आज कुछ कॉल हैं; मुझे यकीन है कि आने वाले दिन में वह और अधिक होगा। मैं कल अपने ब्रिटिश, फ्रेंच और जर्मन समकक्षों के साथ इस बारे में चर्चा करने जा रहा हूं, इसलिए हम पहले ही चल रहे हैं।

ठीक है, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

समाप्ति दोपहर 03:01 EDT

प्रेस विज्ञप्ति

ईरान पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन द्वारा

जेम्स एस. ब्रैडी प्रेस ब्रीफिंग रूम

2:37 P.M. EDT

राजदूत बोल्टन: खैर, मेरे पास राष्ट्रपति के भाषण में जोड़ने के लिए असल में ज्यादा कुछ नहीं है। मुझे लगता है कि निर्णय बेहद स्पष्ट है। मुझे लगता है कि यह न केवल ईरान को परमाणु हथियार, बल्कि बैलिस्टिक मिसाइल की डिलीवरी क्षमता प्राप्त करने से रोकने के लिए अमेरिकी संकल्प का दृढ़ बयान है। यह इसके आतंकवाद को जारी निरंतर समर्थन और इसके कारण मध्य पूर्व में पैदा हो रही अस्थिरता और उथलपुथल को सीमित करता है।

और मुझे लगता है कि राष्ट्रपति ने अगले कदमों का भी खाका खींचा है। जैसा कि उन्होंने अंत में कहा था, वह उस विद्वेषपूर्ण व्यवहार के अधिक व्यापक समाधान पर चर्चाओं के लिए तत्पर हैं जो हम ईरान की ओर से देखते हैं। और हम इस पर पहले से ही अपने सहयोगियों के साथ चर्चा करते रहे हैं। हम इसे सचमुच, कल सुबह की शुरुआत में जारी रखेंगे।

तो मैं बस वहीं रुक जाऊंगा। मुझे किसी भी प्रश्न का उत्तर देने में खुशी होगी। केविन।

प्र. धन्यवाद, इसकी बहुत सराहना करते हैं। उन लोगों के लिए जो बेल्टवे के अंदर नहीं हैं, जो नीति में उलझे हुए नहीं हैं, उनका अत्यंत महत्वपूर्ण सवाल आम तौर पर होता है, “यह हम सभी को कैसे ज्यादा सुरक्षित बनाता है?” क्या आप इसे समझाने में मदद कर सकते हैं? और फिर मैं एक फॉलोअप करना चाहूंगा।

राजदूत बोल्टन: अवश्य। देखो, जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा था, यह समझौता बुनियादी तौर पर दोषपूर्ण था। यह वही नहीं करता जिसे करने का इसका दावा है। यह ईरान को वितरण योग्य परमाणु हथियार विकसित करने से नहीं रोकता है। यह ईरान को यूरेनियम संवर्धन, प्लूटोनियम के पुन: प्रसंस्करण जैसी तकनीकों को जारी रखने की अनुमति देता है। यह उनको अनुमति देता है — भले ही वे इस समझौते के अनुपालन में हों — कि वे अपने परमाणु क्षमताओं के परिष्कार पर अपने अनुसंधान एवं विकास को बढ़ा सकें। और यह ईरानी आकांक्षाओं के सैन्य आयाम का बिल्कुल अपर्याप्त उपचार है।

बुनियादी हथियार नियंत्रण समझौते संबंधी प्रथा के विपरीत, कभी भी कोई आधारभूत घोषणा नहीं थी। असल में, ईरान ने लगातार इस बात से इनकार किया है कि उसका कभी कोई सैन्य कार्यक्रम था। यह सुरक्षा परिषद प्रस्ताव 2231 में निहित है। और जैसा कि हमने पहले ही हमारे द्वारा एकत्रित डेटा में देखा है, जिस पर इजरायल ने पिछले हफ्ते चर्चा की थी, कि इसका विफल होना तय है। न तो इस समझौते में पर्याप्त निरीक्षण प्रावधान है, न ही हमें आश्वस्त होने देता है कि हमने ईरान की परमाणु संबंधी गतिविधियों का पता लगाया है।

और फिर जब आप समझौते के पीछे सिद्धांत में इस तथ्य को जोड़ते हैं — कि अगर हम ईरान की परमाणु आकांक्षाओं को सीमित करने के लिए समझौते तक पहुंच सके, तो यह उनके व्यवहार को और अधिक वैश्विक रूप से बदल देगा — यह भी पूरी तरह से झूठा साबित हुआ है।

इसलिए इस नई वास्तविकता को गढ़ते हुए, यह मानते हुए कि ईरान ने वार्ताओं की अवधि का इस्तेमाल किया है, अपने परमाणु हथियार कार्यक्रम और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रम दोनों की क्षमता तथा परिष्कार दोनों को बढ़ाने के लिए, और 2015 में इस समझौते के बाद से ऐसा करना जारी रखा है — परमाणु हथियारों और उनकी डिलीवरी क्षमताओं के विकास से ईरान को रोकने के रास्ते पर पहुंचने का एकमात्र सुनिश्चित तरीका समझौते से बाहर निकलना है। और राष्ट्रपति ने यही किया है।

प्र. मेरा फॉलोअप बस ईरान में नेतृत्व के साथ बातचीत के बारे में होगा। आपके ओहदे खास तौर पर संयुक्त राष्ट्र में आपके अनुभव को देखते हुए, आप जानते हैं कि यह कैसे हो सकता है। यह खतरे से भरा हुआ है, कुछ लोग निश्चित रूप से कहेंगे, और अन्य लोग कहेंगे कि वार्ता में फिर से शामिल होने के लायक, भले ही सिर्फ आवश्यक सावधानी के लिए ही सही। क्या आप पहले से ही इसे प्रशासन के नज़रिए से होता देखते हैं?

राजदूत बोल्टन: राष्ट्रपति ने भाषण के अंत में स्पष्ट रूप से उन शब्दों में कहा जो सीधे उनके मुंह से आए थे। एक तकलीफ भरा सबक जो बहुत समय पहले अमेरिका ने सीखा, लेकिन जिसे डीन एकेसन ने एक बार कहा था, वह है कि हम मोलभाव तभी कर सकते हैं जब हमारी स्थितियां मज़बूत हों। यह एक सबक था जिसका अनुसरण पिछले प्रशासन ने नहीं किया था।

और मुझे लगता है कि आज घोषित समझौते से वापसी का एक और पहलू संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए मज़बूत स्थितियां तैयार करना करना है, और इसका निहितार्थ महज ईरान के लिए नहीं, बल्कि उत्तरी कोरिया के किम जोंग-उन के साथ आगामी बैठक के लिए भी होगा। जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा कि यह एक बहुत स्पष्ट संकेत भेजता है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अपर्याप्त समझौते स्वीकार नहीं करेगा।

जोनाथन।

प्र. सौ के संदर्भ में — 180 दिनों में क्या होता है, अंततः ईरान के साथ व्यापार करने वाली यूरोपीय कंपनियों के साथ क्या होने वाला है? क्या हम निश्चित रूप से उन कंपनियों को प्रतिबंधित करने जा रहे हैं? या क्या 180-दिन की अवधि है जहां संभावित रूप से बातचीत की जा सकती है?

राजदूत बोल्टन: खैर, जिस निर्णय पर राष्ट्रपति ने आज हस्ताक्षर किए, वह प्रतिबंधों को उस जगह पर वापस लाता है जो समझौते के समय मौजूद थे; यह उन्हें तुरंत उसे जगह पर पहुंचाता है।

अब, इसका मतलब यह है कि प्रतिबंधों से ढके अर्थशास्त्र के क्षेत्र में, कोई नए अनुबंध की अनुमति नहीं है। ट्रेजरी की ओर से अगले कुछ घंटों में घोषणा की जाएगी, जिसे वे धीमे-धीमे समेटने के प्रावधान कहते हैं जो मौजूदा अनुबंधों से निपटेंगे। और इन अनुबंधों के भीतर इनके समापन के लिए अलग-अलग अवधियां होंगी। कुछ छह महीने तक विस्तारित होंगी; कुछ 90 दिन की हो सकती हैं। साथ ही अन्य प्रावधान भी हो सकते हैं।

प्रस्ताव 2231 के प्रावधानों के उपयोग की संभावना के कारण 2015 से इस आकस्मिकता को ट्रेजरी विभाग की वेबसाइट पर पोस्ट किया गया है, जिसका हम उपयोग नहीं कर रहे हैं क्योंकि हम इस समझौते से बाहर हैं। लेकिन दूसरे शब्दों में, यह अवधारणा कि समापन के लिए एक लंबी अवधि होगी जो कि पहले से ही वहां लंबे समय से मौजूद थी। और हम बुनियादी तौर पर इस पैटर्न का अनुसरण करेंगे — हम अनुसरण कर रहे हैं। लेकिन प्रतिबंधों की वापसी होने का तथ्य अब प्रभावी है।

प्र. लेकिन इस दौरान उस पर बातचीत नहीं की जाएगी — उन मौजूदा लोगों के लिए —

राजदूत बोल्टन: हम समझौते से बाहर हैं।

प्र. हम बाहर हैं।

राजदूत बोल्टन: हम समझौते से बाहर हैं। हम समझौते से बाहर हैं।

प्र. हम समझौते से बाहर हैं।

राजदूत बोल्टन: आप समझ गए।

प्र. अगर उत्तरी कोरिया (अस्पष्ट) परमाणु हथियारों को, और आपने कहा कि यह उत्तरी कोरिया के लिए बहुत महत्वपूर्ण संकेत हैं, क्या (अस्पष्ट) मतलब है? क्या परमाणु मुद्दे पर और अधिक विवरण है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि उत्तरी कोरिया को संदेश यह है कि राष्ट्रपति एक असल समझौता चाहते हैं; यह हम जो चाह रहे हैं, जो सेक्रेटरी पोम्पेयो लोगों के साथ उत्तरी कोरिया में चर्चा करेंगे, जब वह किम-जोंग-उन के साथ बैठक की आगे की तैयारियों के लिए वहां आएंगे — आंशिक रूप से, उस पर निर्भर करता है कि क्या उत्तरी कोरिया खुद 1992 की संयुक्त उत्तर-दक्षिण परमाणुमुक्त होने की घोषणा पर वापस जाने के लिए सहमत है: परमाणु ईधन चक्र के फ्रंट और बैकएंड दोनों का उन्मूलन; कोई यूरेनियम संवर्धन नहीं; कोई प्लूटोनियम पुन:प्रसंस्करण नहीं। कुछ अन्य चीज़ें भी हैं जो हम साथ में चाहेंगे।

लेकिन जब आप परमाणु विस्तार के खतरे का उन्मूलन करने के प्रति गंभीर हैं, तो आपको उन पहलुओं का भी समाधान करना होगा जो कि एक महत्वाकांक्षी परमाणु हथियार वाले देश को वहां पहुंचने देते हैं। ईरान समझौते ने ऐसा नहीं किया। एक समझौता जिस तक हम पहुंचने की उम्मीद करते हैं, राष्ट्रपति आशावादी हैं कि हम उत्तरी कोरिया के साथ कर सकते हैं, जो उन सभी मुद्दों का समाधान करेगा।

हां, श्रीमान।

प्र. धन्यवाद, राजदूत महोदय। आपने कहा कि प्रशासन का लक्ष्य ईरान की विद्वेषपूर्ण गतिविधियों का समाधान करना है, लेकिन आप उम्मीद कर रहे हैं कि उन गतिविधियों के समाधान का एक हिस्सा सत्ता परिवर्तन है? क्या इस निर्णय के अनुसरण में इस प्रशासन का ऐसा कोई लक्ष्य है?

राजदूत बोल्टन: नहीं, कई यूरोपीय देशों के अपने समकक्षों से चर्चा के बाद, राष्ट्रपति ने जो कहा, इसको देखते हुए कि जो राष्ट्रपति मैक्रों ने कहा, जो चांसलर मर्केल ने कहा, जो उन्होंने प्रधानमंत्री मे से कहा, वह यह है कि राष्ट्रपति और अन्य लोगों द्वारा समझौते के बारे में की गई मूलभूत आलोचनाओं में से एक यह है कि यह ईरान के अस्वीकार्य व्यवहार के सिर्फ एक सीमित पहलू के समाधान की बात थी — जो कि निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण पहलू है — लेकिन इस तथ्य को ध्यान में नहीं रखना, कि यह कई सालों से, अंतर्राष्ट्रीय आतंकवाद का केंद्रीय बैंकर रहा है।

इसलिए प्रतिबंध हटाने से, जैसा कि 2015 में समझौते के परिणामस्वरूप हुआ, उस गतिविधि को बढ़ावा देने में मदद मिली जो ईरान अब सीरिया में कर रहा है। पूरे क्षेत्र और विश्व में, उसका हिजबुल्ला और हमास जैसे आतंकी समूहों को समर्थन है। और यह कि वास्तव में इस खतरे से निपटने के लिए और मध्य पूर्व में शांति और स्थिरता लाने के प्रयास में, और परमाणु खतरे की दुनिया से छुटकारा पाने के लिए, आपको पूरी चीज़ के पीछे जाना होगा। यही बात उन्होंने यूरोपीय नेताओं के साथ की, और हम इसको आज़माने और इसे आगे बढ़ाने जा रहे हैं।

हां, मैडम।

प्र. धन्यवाद, राजदूत बोल्टन। मैं जानना चाहती हूं यदि आप स्पष्ट कर सकें कि टोटल जैसी कंपनियों का क्या होगा।

राजदूत बोल्टन: टोटल।

प्र. माफ कीजिए, इसे समझाइये। वे इसमें से छूट मांग रहे थे क्योंकि उन्होंने तेहरान के साथ इस घोषणा से पहले एक अनुबंध किया हुआ है। क्या उन्हें एक छूट मिलेगी? क्या किसी को भी कोई छूट मिलेगी?

राजदूत बोल्टन: खैर, मैं विशिष्ट मामलों पर चर्चा नहीं करना चाहता। और, जैसा मैने कहा, ट्रेजरी इसे और विस्तार से समझाएगी।

लेकिन समेटने वाले (विंड-डाउन) प्रावधानों का उद्देश्य — उदाहरण के लिए, ईरान से तेल खरीद मामले में, यदि यह एक दीर्घकालिक आवश्यकताओं का अनुबंध है, उदाहरण के लिए — हम क्या कह रहे हैं कि, हालांकि प्रतिबंध फिर से तुरंत प्रभाव से वापस आ गए हैं, नए अनुबंधों को छोड़कर, उनके लिए जो हमारे निर्णय से प्रभावित हुए हैं, उनके पास इसे समाप्त करने के लिए छह माह हैं। और यदि यह समयावधि — 90 दिन या अन्य अवधि के रूप में सामने आती है — तो फिर यह प्रतिबंध मौजूदा अनुबंधों पर भी प्रभावी हो जाएंगे। तो इसीलिए इसे “विंड-डाउन” कहा जाता है। यह व्यवसायों को बाहर निकलने का एक मौका देने का एक तरीका है।

प्र. उत्तरी कोरिया पर — क्या आप इसका उत्तर जल्दी से दे देंगे? राष्ट्रपति ने अपनी आज की टिप्पणियों में एक तरह से इसे छुआ था — लेकिन असल में सेक्रेटरी ऑफ स्टेट पोम्पेयो उत्तरी कोरिया क्यों जा रहे हैं? और क्या वे वहां कैदियों को घर वापस लाने के लिए हैं — तीन कैदी जो कि संभवतः इस सप्ताह घर वापस आ रहे हैं?

राजदूत बोल्टन: खैर, देखिये, इस मिशन का उद्देश्य अगली बैठकों की तैयारी करना है। राष्ट्रपति ने कई बार कहा है कि वे बंधकों की रिहाई चाहते हैं, और इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है।

हां, श्रीमान।

प्र. धन्यवाद, राजदूत। दो सवाल। एक, आपने उल्लेख किया कि यह उत्तरी कोरिया के लिए एक संकेत था। क्या यह इसका भी संकेत नहीं है कि संयुक्त राज्य अमेरिका अब समझौते करेगा और फिर जब राजनीतिक हवा बदलेगी तो उनसे बाहर निकल जाएगा?

राजदूत बोल्टन: खैर, उन्होंने ऐसा बिलकुल भी नहीं कहा है। यहां मुद्दा यह है कि क्या संयुक्त राज्य अमेरिका वह समझौता स्वीकार करेगा जो कि उसके रणनीतिक हित में नहीं है, जो कि हमारे फैसले से, 2015 में हुआ था। और कोई भी राष्ट्र पिछली भूलों को सुधारने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

मैं आपको एक उदाहरण दूंगा: 2001 में, जॉर्ज डब्ल्यू बुश प्रशासन ने 1972 की एंटी-बैलिस्टिक मिसाइल संधि से हाथ खींच लिये थे — इसलिए नहीं कि हम आरोप लगा रहे थे कि रूसी उसका उल्लंघन कर रहे हैं, हालांकि वे कर रहे थे, बल्कि इसलिए कि वैश्विक रणनीतिक वातावरण बदल गया था। और यह जीवन का एक तथ्य है, और यही हम यहां कह रहे हैं।

प्र. आपने ABM संधि के बारे में एक दिलचस्प बिंदु उठाया। ईरान के व्यवहार पर राष्ट्रपति की आपत्ति का हिस्सा उनकी ओर से बैलिस्टिक मिसाइलों का विकास था। और बड़ी तस्वीर से देखने पर यह लगता है कि — सौदे को लेकर उनकी कई आपत्तियां ये थीं कि इसमें सिर्फ परमाणु हथियारों को शामिल किया गया और इसने ईरान की क्षेत्रीय ताकत बनने की महत्वाकांक्षा पर लगाम नहीं लगाई। क्या हम यह तय करना चाह रहे हैं कि मध्य पूर्व में कौन सत्ता में रह सकता है और कौन नहीं? क्या यह वही है जो हम यहां कर रहे हैं, महोदय?

राजदूत बोल्टन: देखिए। मैं समझता हूं कि राष्ट्रपति ने आज अपनी टिप्पणियों में यह साफ कर दिया है कि ईरान का आचरण पूरे क्षेत्र मे सभी मोर्चों पर किस तरह हानिकारक रहा है, और परमाणु समझौते की एक प्रमुख नाकामी यह रही कि उसने अन्य घातक व्यवहारों का समाधान नहीं किया। तो जो हम वहां कर रहे हैं उसका यही उद्देश्य है।

हां, श्रीमान।

प्र. श्रीमान राजदूत महोदय, आपका बहुत धन्यवाद। आज इस घोषणा को करने के बाद, आप, यूरोपीय सहयोगी जो इस समझौते में शामिल हैं, उनसे क्या करने की उम्मीद करते हैं? क्या आप उनका आह्वान कर रहे हैं, या राष्ट्रपति उनसे आह्वान करेंगे, इस समझौते से बाहर आने के लिए? और दूसरा, यदि आप हमें, किसी तरह का, परदे के पीछे की बातें या नज़रिया या स्पष्टीकरण दे सकें इस बारे में कि राष्ट्रपति किस तरह इस निर्णय पर आए।

राजदूत बोल्टन: ठीक है, पहले मुझे दूसरे सवाल का जवाब देने दीजिए। वे 2016 के चुनाव प्रचार के शुरुआती दिनों से ही कह रहे हैं कि उन्होंने सोचा कि यह समझौता अमेरिकी राजनयिक इतिहास में किए गए सबसे बुरे सौदों में से एक है, एक आकलन के बारे में जो मैं नहीं समझता कि दोहराई गई टिप्पणियों में वे इससे ज्यादा स्पष्ट हो सकते हैं, चूंकि उन्होंने पहले ही सवाल का समाधान कर दिया था।

यूरोपीय और अन्य सहयोगियों के संबंध में, हम उनके साथ पिछले कई महीनों से गहन परामर्श कर रहे हैं। मुझे लगता है कि जबसे मैं यहां हूं, मैने उनके साथ परामर्श में अधिक समय बिताया है संभवत: किसी भी अन्य चीज़ से ज्यादा जो मैंने की है, शुरुआत सीरियाई रासायनिक हथियार हमले पर प्रतिक्रिया के साथ हुई, लेकिन सचमुच ईरान के सवाल पर जारी है। और यह कुछ ऐसा है जिसे राष्ट्रपति बहुत ही महत्वपूर्ण मानते हैं।

और यहां राष्ट्रीय सुरक्षा के क्षेत्र में शामिल सभी लोग यूरोपीय और अन्य लोगों से बातचीत में व्यस्त रहेंगे, जो कि इसके द्वारा प्रभावित हैं कि हम इसे आगे कैसे ले जाते हैं। यह सिर्फ यूरोपीय लोगों का मामला नहीं है। जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा, हमारे पास मध्य पूर्व में बहुत सारे लोग हैं जो कि ईरान के परमाणु हथियार कार्यक्रम के बारे में बहुत चिंतित हैं। वे भी, इस चर्चा में शामिल होंगे।

प्र. हां। श्रीमान. राजदूत महोदय —

प्र. राष्ट्रपति मैकरॉन — मुझे उस एक विषय पर समाप्त कर लेने दीजिए। राष्ट्रपति मैकरॉन आए, चांसलर मर्केल शहर में आईं। आप काफी सही कहते हैं कि राष्ट्रपति 2016 से कहते आ रहे हैं कि वे इस समझौते से बाहर निकलना चाहते हैं। लेकिन उन्होंने अभी तक ऐसा नहीं किया। उन्होंने असल में यह कब तय किया?

राजदूत बोल्टन: खैर, वे अभी तक समझौते से बाहर नहीं आए, क्योंकि उन्होंने सौदे को ठीक करने के प्रयास के लिए कई बार मौके दिए। लेकिन मैं समझता हूं, जैसा कि हमने विभिन्न ईरानी नेताओं की टिप्पणियों में पिछले कई सप्ताहों में देखा है, ईरान सरकार को इस समझौते को बदलने में कोई दिलचस्पी नहीं है। और वे क्यों चाहेंगे? यह एक बेहतरीन समझौता था।

मैं समझता हूं कि राष्ट्रपति सभी प्रयासों को आगे बढ़ने देना चाहते थे, और उन्होंने 12 मई की समय सीमा से कुछ दिनों पहले तक यही किया। और मुझे लगता है कि ज़बर्दस्त सबूतों के सामने आने के बाद कि समझौते के मूल दोष दूर नहीं किए जा सकते, उन्होंने आगे बढ़ने का निर्णय लिया।

प्र. श्रीमान राजदूत महोदय, कुछ त्वरित प्रश्न। एक, क्या आप इसे गलत ठहरा सकते हैं — कुछ ऐसे लोग हैं जो मानते हैं कि यह संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए ईरान की ज़मीन पर अपने पैर जमाने की सिर्फ एक शुरुआत भर है। क्या यह सही है?

राजदूत बोल्टन: वे बुरी तरह से गलत माने जाएंगे यदि वे ऐसा सोचते हैं।

प्र. और दूसरा, हालांकि हम इस समझौते से बाहर निकल आए हैं, आपके पास योजनाएं हैं — क्या हम ईरान वापस जाकर चर्चा करने की योजना बना रहे हैं — हालांकि आपने डीन एकेसन का उल्लेख किया; वह वियतनाम और कोरिया का मामला था, और हमें अब बेहतर सफलता की उम्मीद है —

राजदूत बोल्टन: मुझे नहीं लगता कि डीन वियतनाम में बहुत ज्यादा शामिल थे, लेकिन जारी रखें।

लेकिन फिर भी, क्या हम उनके साथ बैठने वाले हैं और मज़बूत स्थिति से बातचीत करने की कोशिश करने वाले हैं?

राजदूत बोल्टन: हां। देखिये, राष्ट्रपति ने अपने भाषण में जो कहा, मुझे लगता है, वह काफी स्पष्ट था — मुझे नहीं पता कि मैं उस पर और क्या वर्णन दे सकता हूँ — वह यह कि हम तैयार हैं, यूरोपीय देशों और अन्यों के साथ, ईरान के आचरण के सभी पहलुओं को संबोधित करते हुए एक बहुत व्यापक सौदे के बारे में बात करने के लिए जो हमें आपत्तिजनक लगता है। हम अभी शुरुआत करने के लिए तैयार हैं।

प्रश्न लेकिन क्या उन्होंने कहा है कि वे हमसे बात करेंगे? क्या आपने उनसे बात की है?

राजदूत बोल्टन: राष्ट्रपति ने अपने भाषण में स्पष्ट तौर पर ऐसा कहा है। उन्होंने कहा कि वे कहते हैं कि वे ऐसा नहीं करना चाहते, और फिर उन्होंने कहा, यदि मैं उनकी जगह होता तो मैं भी ऐसा ही कहता। लेकिन वह उम्मीद करते हैं कि वे ऐसा करेंगे। और हम सभी के साथ इस बारे में बात करेंग़े।

हाँ, मैडम।

प्रश्न आज की राष्ट्रपति ज़ी की फोन कॉल के बारे में एक सवाल। क्या राष्ट्रपति ट्रम्प की राष्ट्रपति ज़ी के साथ विचार-विमर्श किये गये परमाणु समझौते के संबंध में की गई घोषणा? और क्या चीन को किन्हीं भविष्य की वार्ताओं का हिस्सा बनाने के लिए कोई प्रयास किये गये थे?

राजदूत बोल्टन: हाँ, यह मुद्दा सामने आया था, लेकिन मैं इस बारे में कोई विवरण बताना नहीं चाहूंगा।

जॉन।

प्रश्न धन्यवाद राजदूत महोदय। मुद्दों में से के बात जो इरानियन आजादी की शिखर-वार्ता में बार-बार सामने आई, ईरानी निर्वासन की निर्वाचिका, वह शासन परिवर्तन था। और एक बिंदु पर, मेयर गियुलिआनी ने कहा: यदि आप शासन परिवर्तन चाहते हैं, तो अपने आस-पास देखें। यह कमरे में ही मौजूद है। क्या प्रशासन ने ईरान निर्वासन समुदाय से कोई सम्पर्क किया है, जैसे कि नैशनल काउंसिल फॉर इरानियन रेस्टिटेंस? और क्या वे निर्वासन में एक सरकार या ईरान में भविष्य में सरकार बनाने के तौर पर उनकी बात करते हैं?

राजदूत बोल्टन: मैं इन सबसे अवगत नहीं हूँ, और यह कुछ ऐसा नहीं था जो कभी सामने आया हो।

हाँ, मैडम।

प्रश्न धन्यवाद राजदूत महोदय। शासन में परिवर्तनों के बारे में कुछ और बात करते हुए, जब राष्ट्रपति मैकरॉन यहाँ मौजूद थे, उन्होंने ईरान सौदे में सफलता के लिए अपने चार स्तंभों के बारे में बात की, और उनमें से बहुत कुछ सीरिया के सबंध में थे और सीरिया को राजनीतिक तौर पर स्थायी बनाने के संबंध में थे। क्या यह प्रशासन सोचता है कि आप बशर अल-असाअद के तहत शांति और राजनीतिक स्थिरता प्राप्त कर सकते हैं? या वहाँ भी, यह प्रशासन एक शासन के बदलाव का संभावित रूप से समर्थन करता है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि राष्ट्रपति ने कुछ हफ्ते पहले अपने संबोधन में स्पष्ट किया था जब उन्होंने सीरियाई रासायनिक हथियार हमले की प्रतिक्रिया की घोषणा की थी, कि वहां सैन्य बल का उपयोग और हमारे राजनयिक प्रतिक्रिया द्रव्यमान के विनाश के हथियारों के उपयोग के सवाल तक ही सीमित थीं। हम स्पष्ट रूप से ISIS क्षेत्रीय खलीफा को मिटाने का काम पूरा करने के लिए चिंतित हैं, लेकिन ईरान के माध्यम से अपने प्रभाव को विस्तारित करने, सीरिया में असाद शासन के साथ जुड़ने और लेबनान में हेज़बुल्लाह के बारे में बहुत चिंतित हैं। ऐसा कुछ है कि राष्ट्रपति मैकरॉन, चांसलर मार्केल, प्रधानमंत्री मई ने सभी ने ऐसा कहा है।

इसलिए मध्य पूर्व में स्थायी शांति और सुरक्षा की संभावना बहुत जटिल कारकों को संबोधित करने पर निर्भर करती है, लेकिन निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण भूमिका यह है कि ईरान ने अस्थिरता और संघर्ष का समर्थन करने में भूमिका निभाई है। और जैसा कि मैंने कहा है, राष्ट्रपति ने कई यूरोपीय नेताओं के साथ बातचीत की है, यह है कि क्या हम ईरान के व्यवहार को रोकने के समग्र प्रयास के हिस्से के रूप में इसे संबोधित कर सकते हैं। और यही चल रहा है।

हाँ, श्रीमान।

प्रश्न हाँ, मैं उम्मीद कर रहा था कि आप प्रतिबंधों की समय-सीमा को स्पष्ट कर पाएँ। आपने कहा कि प्रतिबंध अब प्रभावी हैं। ट्रेज़री सेक्रेटरी ने अभी-अभी एक बयान दिया, जबकि आपने बात की, कि एक 90 दिनों की विंड-डाउन और 180 दिन की विंड-डाउन के बारे में बात की। तो क्या ऐसा है कि वापस लेने की कार्रवाई अभी हुई है, और फिर प्रतिबंध 90 या 180 दिनों पर आते हैं? या क्या इस सेकेंड पर ही वास्तव में प्रतिबंध लगाये जा रहे हैं?

राजदूत बोल्टन: आइये मैं फिर से कोशिश करता हूँ। हमने इस सौदे से बाहर निकलने की घोषणा की। तो हम इस सौदे से बाहर हैं। राष्ट्रपति ने एक निर्णय ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए जो विभागों और एजेंसियों को इसे प्रभावित करने के लिए निर्देश देता है। और इसका एक हिस्सा ओबामा प्रशासन द्वारा छोड़े गए परमाणु से संबंधित सभी प्रतिबंधों को बहाल करना है। इसलिए जैसे ही वे प्रक्षेपित होते हैं, वे प्रतिबंध लागू हो जाते हैं।

इसका अर्थ यह है कि, किसी भी नए या संभावित अनुबंध के संबंध में जो इसके अंतर्गत आता है – हमारे अधिकार क्षेत्र द्वारा कवर की गई संस्थाओं के साथ, कि वे प्रतिबंधित हैं। तो, दूसरे शब्दों में, निर्धारित क्षेत्रों में कोई नये अनुबंध नहीं हैं।

पहले से मौजूद अनुबंधों के लिए, अनुबंध की व्यवस्थित समाप्ति की अनुमति देने के लिए एक विंड-डाउन अवधि है, ताकि लोग जो — प्रतिबंधों की छूट पर भरोसेमंद निर्भरता में — व्यवसाय में लगे हुए हैं, पूरी तरह से आश्चर्यचकित नहीं होते।

अब, जैसा कि मैंने कहा है, वस्तुओं की प्रकृति के आधार पर अलग-अलग विंड-डाउन अवधियाँ होने जा रही हैं, लेकिन मुझे नहीं लगता कि व्यवसाय की दुनिया में कोई भी इस कार्रवाई से हैरान है।

प्रश्न श्रीमान राजदूत —

राजदूत बोल्टन: जी हां।

प्रश्न मेरे पास आपके लिए दो सवाल हैं। तो पहला यह कि, क्या आप विवाद पर बहस करेंगे कि, सभी तकनीकी लक्ष्यों और उद्देश्यों के लिए, यह अमेरिका ही है, जो इस कार्रवाई के साथ, JCPOA का उल्लंघन कर रहा है?

राजदूत बोल्टन: नहीं मुझे नहीं लगता कि हम उल्लंघन कर रहे हैं; मुझे लगता है कि हम बाहर निकल रहे हैं।

प्रश्न लेकिन आप यह भी स्वीकार करते हैं कि ईरान तो अनुपालन कर रहा था? यह प्रशासन —

राजदूत बोल्टन: मैं नहीं मानता। नहीं। मुझे लगता है कि ऐसे कई मामले हैं जहां हम कहने में असमर्थ हैं कि वे अनुपालन में हैं या नहीं। ऐसे कुछ मामले भी हैं जहां मुझे लगता है कि वे स्पष्ट रूप से उल्लंघन में हैं।

उदाहरण के लिए, भारी पानी के उनके उत्पादन ने JCPOA के तहत अनुमत सीमाओं को बार-बार पार किया है। वे लगभग भारी जल उत्पादन व्यवसाय में हैं। उन्होंने ओमान को भारी मात्रा में बेचा है। उन्होंने इसे यूरोपीय देशों को बेचा है। यह भारी जल उत्पादन सुविधाओं को जीवित रखने का एक तरीका है। वे गर्म हैं। और वह खतरे का हिस्सा है। और उन्होंने सीमाएँ पार कर ली है।

मैं दूसरों के बारे में भी बता सकता हूँ।

प्रश्न: मेरे पास उत्तरी कोरिया पर भी आपके लिए एक और सवाल है। लेकिन बस उस पर अनुवर्ती प्रश्न के तौर पर, यह प्रशासन – मेरा मतलब है, इस प्रशासन में इंटेल अधिकारी, जैसा कि आप जानते हैं, ने कहा कि ईरान तकनीकी रूप से अनुपालन में है।

राजदूत बोल्टन: नहीं, मुझे लगता है कि उन्होंने कहा है तकनीकी —

प्रश्न तो क्या यह कानून के तात्पर्य का मुद्दा है।

राजदूत बोल्टन: नहीं, नहीं। मुझे लगता है कि उन्होंने कहा है कि — उन्होंने इसे एक गैर-तकनीकी मुद्दे के रूप में विशेषीकृत किया है। मुझे लगता है कि आपको इस बात पर ध्यान देना चाहिए, कि इस सौदे की शर्तों की सीमाओं पर दबाव डालने के ईरानी व्यवहार का समग्र पैटर्न है, और हमारी बुनियादी अनिश्चितता, चाहे हम सबकुछ जानते हों। आप यह नहीं कह सकते कि ईरान अनुपालन में है जबतक कि आप 100 प्रतिशत निश्चित नहीं हैं कि IAEA और हमारी खुफिया जानकारी अचूक है।

प्रश्न: मैं उत्तरी कोरिया के बारे में भी पूछना चाहता हूं, यह देखते हुए कि यह सब संबंधित है। सेक्रेटरी —

राजदूत बोल्टन: काश कि हम ऐसा कह पाते। लेकिन मैं किसी को भी नहीं जानता जो ऐसा चाहता है।

प्रश्न: क्या आप उत्तरी कोरिया के बारे में यह कहने में सक्षम होंगे, उदाहरण के लिए, यदि आप उनके साथ सौदा करते हैं?

राजदूत बोल्टन: देखो, नहीं, यह है – किसी भी प्रसार या हथियार नियंत्रण सौदे के सत्यापन और अनुपालन पहलू बिल्कुल ज़रूरी हैं। और यहां, ईरान सौदे में, जैसा कि राष्ट्रपति ने कहा था, वे पूरी तरह से अपर्याप्त थे।

प्रश्न जल्दी से, बंदियों पर। सेक्रेटरी पोम्पेयो संवाददाताओं को बता रहे हैं कि वह इस मुद्दे को प्योंगयांग में अपनी बातचीत में लाएंगे। अगर उन बंदियों को रिहा नहीं किया जाता है, तो क्या इसका मतलब यह है कि राष्ट्रपति किम के साथ बातचीत नहीं करेंगे? क्या यह सौदा करवाने में महत्वपूर्ण है?

राजदूत बोल्टन: देखो, मैं उस पर अटकलें नहीं चाहूंगा। सेक्रेटरी पोम्पेयो उत्तरी कोरिया में लगभग ज़मीन पर है, और वह राष्ट्रपति का वार्ताकार है, और मुझे लगता है कि हम निर्णय के लिए उसे देखेंगे कि यह कैसे बाहर जा रहा है।

हाँ, मैडम।

प्रश्न आपका धन्यवाद। तो जब आप कहते हैं कि इस सौदे से पहले मौजूद प्रतिबंधों को वापस स्थापित किया गया है, तो क्या इसका मतलब यह है कि 2015 के सौदे से पहले हम यथास्थिति में वापस आ गए हैं? और प्रशासन ईरान को मेज पर आने के लिए मजबूर करने के लिए और अधिक प्रतिबंध लगाने या अधिक करने की योजना बना रहा है?

राजदूत बोल्टन: खैर, मुझे लगता है कि अमेरिकी परिप्रेक्ष्य से कौन से प्रतिबंध लागू हैं, इस मामले में हम वापस अपने स्थान पर हैं। लेकिन जैसा कि आप अपने प्रश्न में पूछते हैं, मुझे लगता है कि यह पूरी तरह से संभव है कि अतिरिक्त प्रतिबंधों का पालन किया जाएगा क्योंकि नई जानकारी प्रकाश में आती है। और यह कुछ ऐसा है जो हमें दृढ़ता से आगे बढ़ाना चाहिए क्योंकि हम ईरान पर जितना अधिक आर्थिक दबाव डाल सकते हैं, और उन राजस्वों से इनकार कर सकते हैं जिन्हें वे अब लेनदेन से प्राप्त कर चुके हैं जो हम अब खत्म कर रहे हैं।

प्रश्न तो अमेरिका सौदा से बाहर है; यह अभी बहुत स्पष्ट है। लेकिन क्या राष्ट्रपति ट्रम्प ने नए समझौते शुरू करने के लिए एक राजनयिक पहल के लिए समय सीमा की तरह आगे बढ़े? क्योंकि वह एक अभी भी एक सौदे पर जाना चाहते हैं।

राजदूत बोल्टन: हाँ, यह आज की घोषणा से पहले यूरोपीय और अन्य सहयोगियों के परामर्श से पहले ही शुरू हो चुका है, क्योंकि हम यह सुनिश्चित करने के लिए कि वे वापसी के तहत एक लाइव विकल्प थे, हम उनकी सोच के बारे में पूरी तरह से पारदर्शी होने की कोशिश कर रहे थे। और मुझे लगता है कि राष्ट्रपति के पास आज कुछ कॉल हैं; मुझे यकीन है कि आने वाले दिन में वह और अधिक होगा। मैं कल अपने ब्रिटिश, फ्रेंच और जर्मन समकक्षों के साथ इस बारे में चर्चा करने जा रहा हूं, इसलिए हम पहले ही चल रहे हैं।

ठीक है, आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।

समाप्ति दोपहर 03:01 EDT


यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें