rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो MSNBC के ह्यूग हैविट के साथ

English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, اردو اردو, Español Español

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज के लिए
इंटरव्यू
22 जून 2018
ट्रीटी कक्ष
वाशिंगटन, डी.सी.

 

प्रश्न: सेक्रेटरी पोम्पेयो, हमारे साथ बात करने के लिए शुक्रिया।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: ह्यूग, आपके साथ होना बहुत अच्छा है। स्टेट डिपार्टमेंट में आपका स्वागत है।

प्रश्न: मैं व्यावहारिकता से शुरुआत करना चाहूंगा। यहाँ आकर मुझे बहुत खुशी है। मैं व्यावहारिक रहकर बात करूंगा: यहाँ स्टेट डिपार्टमेंट में आपके पास कुछ कार्यालय खाली पड़े हैं। क्या सेनेट उन्हें भरने के लिए आपके साथ काम कर रही है ताकि आपके पास दुनिया भर में सर्वोत्तम राजनयिक बलों को स्थापित करने के लिए नेतृत्व मौजूद हो।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: तो जवाब ये है कि हमें यहाँ गति तेज करनी होगी। इस प्रक्रिया में शामिल हरेक व्यक्ति को। हमें दुनिया के हर कोने में हमारे राजनयिकों को पहुंचाना होगा और ऐसा जितना तेजी से किया जा सके, करना होगा। जब से मैंने कार्यभार संभाला है, स्थिति ऐसी ही है, कुछ महत्वपूर्ण स्थानों पर ऐसे बड़े अंतराल को देखने को मिल रहे थे। जल्द ही हम दक्षिणी कोरिया और ऐसे कुछ स्थानों में अपने राजदूत नियुक्त करेंगे जो सबसे अधिक आवश्यक है। लेकिन हमारे लिए यह आवश्यक है कि हर कोई सहायता करे और मैं आश्वस्त हूँ कि सेनेटर मेनेन्ड्रेज़ और कॉर्कर उसे साकार करने में मेरी सहायता करेंगे।

प्रश्न: नेता के बारे में क्या विचार है? क्या आप इसके बारे में नेता मैककॉनेल से भी बात करते हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हां। वे पूरी तरह से उपलब्ध हैं। वे यथासंभव शीघ्रता से हमारे व्यक्ति भेज रहे हैं। हम अगस्त में कुछ अतिरिक्त सप्ताह प्राप्त कर सकते हैं जब हमारे पास वहाँ कुछ अतिरिक्त व्यक्तियों को ले जाने का थोड़ा अवसर होगा जो वे कार्य करेंगे जो राष्ट्रपति चाहते हैं, ठीक है? – दुनिया के हर कोने में उनकी विदेश नीति का प्रसार करने के लिए नेतृत्व करना।

प्रश्न: आप पूर्व काँग्रेसमैन हैं। आप हमारे सेनेट सहयोगियों के अगस्त में यहाँ ठहरने से ईर्ष्या नहीं कर सकते, ठीक है न?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: तब गर्मी होगी, लेकिन मैं ठीक उनके पास मौजूद हूँगा।

प्रश्न: ठीक है।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हमारे राजनयिक भी मौजूद होंगे।

प्रश्न: आइए हम भूराजनीति की बात करें। चालीस वर्ष पहले, अलेक्ज़ेंडर सोलझेनिटसिन ने इस महीने विश्व के विखंडन और सोवियत संघ के बारे में बात की। इकहत्तर वर्ष पहले, सेना से संबंधित एक अन्य व्यक्ति, जॉर्ज मार्शल ने मार्शल प्लैन दिया। वे दोनों सोवियत संघ के बारे में बात कर रहे थे। क्या हमारे लगभग साथी या साथी-प्रतिस्पर्धी रूस – या इसके बाद सोवियत संघ – अब PRC का फिर से रुख करने का समय आ गया है? क्या वे हमारे प्रतिस्पर्धात्मक वातावरण में पहले स्थान पर हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मेरे विचार में वे सबसे अधिक गंभीर चुनौती प्रस्तुत करते हैं, और यदि खुलकर कहूँ, तो अमेरिका के लिए अवसर प्रदान करते हैं यदि हम इसे सही से प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप सोवियत संघ नहीं, बल्कि रूस और चीन के बीच दोनों की तुलना और अंतर करें, तो हमारे पास वह है जिसके पास धन और संसाधन हैं, और दूसरा वह है जिसके पास शक्ति है जो अत्यंत संघर्ष कर रहा है।

हम यह सुनिश्चित करना होगा कि हम यह समझें कि चीन क्या कर रहा है। हमारी संपत्ति, हमारी बौद्धिक संपदा और अन्य चीज़ों को चुराने की उनकी इच्छा से अमेरिका के लिए जुड़े जोखिम के बारे राष्ट्रपति बहुत स्पष्ट रहे हैं। दक्षिण चीनी समुद्र और विश्व में अपेक्षा बहुत बड़ा, सुदृढ़, कड़ा देश बनाने में रूस के प्रयासों के संबंध में आँखें पूरी तरह खुली हैं। ऐसी चीज़ें हैं जो हमें उनके साथ-साथ करने की ज़रूरत है और जहाँ हमारे साझा हित हैं, लेकिन जहाँ नहीं हैं, वहाँ हमें यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि अमेरिका हमारे दोनों देशों में से प्रत्येक की विश्व के भीतर भूमिका के बारे में बात करने के लिए उचित स्थिति में हो।

प्रश्न: जब आप थोड़े समय पहले राष्ट्रपति झी के साथ बैठे, तब क्या यह सौहार्दपूर्ण रहा था? क्या यह मैत्रीपूर्ण था? वे राष्ट्रपति ट्रम्प से बहुत अच्छी तरह घुलमिल जाते हैं। आप राजनयिक हैं, हो सकता है कि आप राष्ट्रपति के अच्छे पुलिस अधिकारी की तुलना में खराब पुलिस अधिकारी हैं। यह कैसा रहा?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: यह शानदार रहा। उनका मेरे साथ जाना उनकी सहृदयता थी। शाम को देर का समय था। मैं अमेरिका लौट रहा था लेकिन में यह सुनिश्चित करना चाहता था और मैं रुका। ऐसे समय जब हम उत्तर कोरिया को परमाणु हथियारों से रहित करने के चुनौतीपूर्ण मुद्दे से गुज़र रहे हैं, तब चीन को एक महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी और मैं सुनिश्चित करना चाहता था और उन्हें उन वार्ताओं के बारे में बताना चाहता था जो राष्ट्रपति ने चेयरमैन किम के साथ की थीं जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि वे समझें कि हमारे द्वारा उनसे क्या अपेक्षित था, जो इस समय यह सुनिश्चित करना जारी रखना है कि जो आर्थिक प्रतिबंध वर्तमान में लागू हैं, वे बरकरार रहें। और इसके बाद हमने कुछ ऐसे अन्य मुद्दों पर बात की जिनके बारे में मैं राष्ट्रपति झी के साथ बात करना चाहता था। यह अच्छी, गर्मजोश, सौहार्दपूर्ण बैठक थी। मेरे विचार में हम दोनों ने अपने मत व्यक्त किए और मैंने अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट से मिलने के लिए उनके द्वारा समय निकालने के लिए उनके प्रति आभार व्यक्त किया।

प्रश्न: जब आप उनके बारे में सोचते हैं, वे अब तब तक राष्ट्रपति हैं जब तक हम देख सकते हैं – आप माओ और डेंग के बारे में सोचते हैं। क्या हम राष्ट्रपति झी के साथ 20, 25 वर्षों के बारे में बात कर रहे हैं, और क्या अमेरिकी लोग पूरी तरह यह समझते हैं कि वे अब कितने महत्वपूर्ण व्यक्तित्व हैं, न केवल इस वर्ष के लिए बल्कि अगले एक या दो दशकों के लिए भी?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हाँ, निसंदेह रूप से ऐसा ही है। उन्होंने एक ऐसे तरीके से सत्ता को समेकित किया है जैसा उनके प्रत्यक्ष पूर्ववर्तियों ने नहीं किया था, एक तरीके से यह वास्तव में ऐतिहासिक है। और अमेरिका तथा क्षेत्र में अन्य देशों को इसे स्वीकार करने की आवश्यकता है। मुझे लगता है कि कुछ ऐसे तरीकों में इस संबंध में सजग हो रहे हैं जैसा उन्होंने दो या पाँच वर्ष पहले नहीं किया होता। हम सभी को उसे स्वीकार करने की आवश्यकता है जो चीन अवसर और चुनौती – दोनों के संबंध में प्रस्तुत करता है।

प्रश्न: 1972 में राष्ट्रपति निक्सन ने माओ से मिलने जाकर सोवियत संघ पर स्क्रिप्ट को एक प्रकार से पलट ही दिया, हालाँकि माओ 20वीं शताब्दि में सबसे बड़े हत्यारे थे। क्या यह संभव है कि आप और राष्ट्रपति स्क्रिप्ट को एक बार पलटने और रूस से संभवतः बढ़िया व्यवहार कर रहे हैं क्योंकि चीन अमेरिका के लिए एक अधिक बड़ा प्रतिस्पर्धी है।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: राष्ट्रपति पदभार संभालने के बाद से स्पष्ट रहे हैं कि ऐसे स्थान हैं जहाँ रूस अमेरिका के विरुद्ध काम कर रहा है लेकिन ऐसे बहुत से स्थान हैं जहाँ हम एक साथ काम करते हैं। मुझे CIA निदेशक के रूप में अपनी पिछली भूमिका में ऐसा करने का अवसर मिला जहाँ हमने आतंकवाद का सामना करने के मुद्दों पर रूसियों से बात की, जहाँ दोनों राष्ट्रों के साझा हित थे। और इसलिए हम अपने रूसी साथियों के साथ बातचीत कर रहे हैं और उन स्थानों को खोजने का प्रयास कर रहे हैं जहाँ हमारे अतिव्यापन हित हैं लेकिन हम वहाँ अमेरिकी हितों की रक्षा कर रहे हैं जहाँ हमारे ऐसे हित नहीं हैं।

प्रश्न: क्या आप इस गर्मी में मॉस्को जा रहे हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मुझे पता नहीं है कि क्या मैं मॉस्को जाऊँगा। मुझे विश्वास है कि मैं अपने रूसी साथी से कहीं मिलूँगा। मैं सेक्रेटरी ऑफ स्टेट के रूप में सर्जी लेवरॉव से कुछ बार पहले ही बात कर चुका हूँ। बातचीत अच्छी रही हैं, हममें से प्रत्येक ने विभिन्न चीज़ों के संबंध में एक-दूसरे के साथ अपनी अप्रसन्नता व्यक्त की है, इसी के साथ-साथ उन चीज़ों को सुनिश्चित किया है जो अमेरिका के लिए सबसे अधिक महत्वपूर्ण हैं, ठीक है – आप अमेरिकी चुनावों में बेकार का रवैया नहीं अपना सकते। ऐसे कुछ व्यवहार जो वे सीरिया और यूक्रेन जैसे स्थानों में अपना रहे हैं, बस – वे सहायक नहीं हैं, वे उन आदर्शों के लिए रचनात्मक नहीं हैं जिन्हें अमेरिकी अत्यधिक महत्व देते हैं। और उन स्थानों में, हम यह सुनिश्चित करने के लिए काम करना जारी रखेंगे कि उन्हें हमारे हितों और हमारी चिंताओं की जानकारी हो। और तब ऐसे स्थान हैं जहाँ हम साझा हित खोज सकते हैं, हम निश्चित रूप से प्रयास करेंगे —

प्रश्न: यदि राष्ट्रपति ट्रम्प इस गर्मी में मॉस्को में हों, तो क्या हमें आश्चर्य होगा?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मुझे इस बारे में जानकारी नहीं है कि राष्ट्रपति का कार्यक्रम क्या होने जा रहा है। मैं यह जानता हूँ कि राजदूत बोल्टन रविवार या सोमवार को मॉस्को की यात्रा करने की योजना बना रहे हैं। वे वहाँ के राजदूत से मिलेंगे, और मेरे विचार में इसकी संभावना है कि राष्ट्रपति ट्रम्प उस बैठक के बाद निकट भविष्य में वहाँ के राष्ट्रपति से मिलेंगे।

प्रश्न: दिलचस्प बात है। मुझे राष्ट्रपति झी के बारे में पूछने दें। चेयरमैन उन की तुलना में और समझौते के संबंध में उनकी क्या भूमिका है? क्या उनके पास उस संबंध में वीटो है जो उत्तर कोरिया आपकी बातचीत में आपके साथ कर रहा है?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच बातचीतें द्विपक्षीय वार्ताएं रही हैं जिनमें केवल हम दोनों रहे हैं। हम एक समझौता करने का प्रयास कर रहे हैं, एक ऐसा समझौता जिसके लिए चेयरमैन किम ने साइन अप किया है, जहाँ सौदेबाज़ी होगी, जहाँ वे स्वयं को पूरी तरह परमाणु हथियारों से रहित कर देंगे, वे हमें उस परमाणु निशस्त्रीकरण का सत्यापन करने की अनुमति देंगे और इसके बदले में, हम सुरक्षा आश्वासन प्रदान करेंगे।

आप कहानी अच्छी तरह जानते हैं। कई दशकों से उत्तर कोरिया का नेतृत्व – चेयरमैन किम, उनके पिता और उन्हीं की तरह दादा – ने यह माना कि परमाणु कार्यक्रम उनकी सुरक्षा था; इसने उन्हें शासन स्थिरता और सुरक्षा प्रदान की। और अब हमने उस सोच को बदल दिया है। मेरे विचार में हमने उन्हें आश्वस्त कर दिया है कि परमाणु कार्यक्रम, वास्तव में, उनके लिए खतरा उत्पन्न करता है और उस कार्यक्रम को त्यागना उत्तर कोरिया के लोगों के लिए उज्ज्वल भविष्य का मार्ग है।

प्रश्न: सेक्रेटरी महोदय, उनका रवैया तब कैसा होता है जब कैमरे ऑन न हों और दरवाज़े बंद हों। जब आप पहली बार प्योंगयैंग गए, तब – क्या उनमें हास्य-बोध है? क्या उन्होंने आपसे मज़ाक किया?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हाँ, उनमें हास्य बोध है। वे पश्चिमी चीज़ों से परिचित हैं, इसलिए वे उस पर अत्यधिक ध्यान दे रहे हैं जो कुछ घटित हो रहा है। मैं आश्वस्त हूँ कि वे यह शो देखेंगे। वे उन चीज़ों को देख रहे हैं जो अमेरिकी कह रहे हैं। वे यह निर्धारित करना चाहते हैं कि क्या, वास्तव में, अमेरिकी इस बारे में गंभीर है?

यदि वे ऐसा करते हैं, यदि वे यह कार्य करते हैं और रवैया बदलते हैं, यदि वे उत्तर कोरिया के लिए एक ऐसी नई कार्यनीतिक दिशा तय करते हैं जहाँ वे युद्ध उत्पन्न करने की मशीन के विपरीत अपनी अर्थव्यवस्था और अपने लोगों पर बल देते हैं – यदि आप ऐसा कार्यनीतिक परिवर्तन संभव कर पाते हैं, तो क्या अमेरिका उनका ऐसा विश्वसनीय भागीदार होगा जो उस तरीके से बर्ताव करेगा जैसा राष्ट्रपति ट्रम्प ने प्रतिबद्धता व्यक्त की थी जब वे सिंगापुर में मिले थे?

इसलिए, वे सजग हैं। वे फाइल जानते हैं। वे विषय को बहुत, बहुत अच्छी तरह जानते हैं। वे परामर्श के लिए अन्यों का रुख नहीं कर रहे हैं। ये चेयरमैन किम ही थे जो स्पष्ट रूप से वह कह रहे थे जो आपने उन्हें तब कहते हुए सुना जब वे सिंगापुर में था, वे पूरी तरह से परमाणु निशस्त्रीकरण के लिए तैयार हैं।

प्रश्न: सेक्रेटरी पोम्पेयो, जब आप चेयरमैन किम या राष्ट्रपति झी जैसे किसी व्यक्ति के साथ बैठते हैं, तब आप ऐसे व्यक्तियों के साथ बैठ रहे होते हैं जिनके ऐसे मानव अधिकार रिकॉर्ड रहे हैं जो भयावह हैं। लेकिन FDR स्टालिन के साथ, और निक्सन माओ के साथ बैठे और राष्ट्रपति रीगेन गोर्बाचेव के साथ बैठे। आपके दिमाग में तब क्या चल रहा होता है जब आप किसी ऐसे व्यक्ति के संपर्क में होते हैं जिसके बारे में आप जानते हैं कि उसका व्यक्तित्व नकारात्मक है लेकिन जिससे हमें डील करना होता है?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हाँ, हम इतिहास जानते हैं। प्रशासन मानवाधिकारों की रक्षा करने के बारे में बहुत स्पष्ट रहा है। हम जहाँ कहीं भी जाते हैं, वहाँ हम इसके बारे में बात करते हैं, जब हमे ऐसे देशों से मिलते हैं जो मानव अधिकारों का उस तरीके से पालन नहीं कर रहे हैं जैसा हम चाहते हैं, जो हमारे आदर्शों से अनरूप नहीं हैं। हमने चेयरमैन किम के साथ ऐसा किया है। मैं जानता हूँ कि राष्ट्रपति ने झी के साथ भी उस बारे में बात की है।

लेकिन आपको वे मानव अधिकार चुनौतियाँ याद रखनी होती हैं जो इस प्रशासन के आने से बहुत पहले से मौजूद थीं, जब उन देशों के संबंध में हमारी नीतियाँ बहुत भिन्न थीं; अर्थात उन मानव अधिकार परिस्थितियों में सुधार करने के पिछले प्रयास विफल हो गए थे। हम आश्वस्त हैं कि हम अमेरिका के लिए सबसे बड़ा खतरा, चेयरमैन किम का परमाणु कार्यक्रम, वह स्थान है जहाँ हमें आरंभ करने की आवश्यकता है। और यदि हम सफल रहते हैं, यदि हम वह नतीजा प्राप्त कर लेते हैं जिसे पाने की हम आशा करते हैं, तो हमारे विचार में हम इसकी अधिक संभावना उत्पन्न करते हैं कि न केवल उत्तर कोरिया बल्कि पूरे विश्व में मानव अधिकार की स्थितियों में भली-भाँति सुधार हो सकता है।

प्रश्न: क्या सिंगापुर शिखर-वार्ता की विज्ञप्ति के बारे में ऐसे हस्ताक्षरित प्रोटोकॉल हैं जिनके बारे में हमें जानकारी नहीं है?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मैं उन वार्ताओं के ब्यौरे में नहीं जाना चाहता जो सिंगापुर में पहले की गई हैं और तब से जारी रही हैं। मेरे विचार में यह कहना उचित है कि ऐसी बहुत-सी चीज़ें हैं, ऐसे बहुत से सिद्धान्त हैं जिन पर सहमति हुई है, जिन्हें मेरे विचार में दोनों देश समझते हैं, चेतावनियाँ, ऐसी चीज़ें – कोई भी देश उससे पार जाने के लिए तैयार नहीं है जिससे हमें यह मानने का अवसर मिले कि हम पहली बार – यह उत्तरी कोरिया के साथ वार्ता करने वाला पहले रोडियो नहीं है – इस बार संभवतः समय भिन्न है।

हम भी यह जानते हैं कि हम गलत हो सकते हैं और राष्ट्रपति ने ऐसा बहुत स्पष्ट रूप से कहा है। यदि यह ऐसा नहीं है – यदि यह मामला नहीं है कि चेयरमैन किम परमाणु निशस्त्रीकरण के लिए या तो असमर्थ हैं या इसके लिए तैयार नहीं हैं, तो प्रतिबंध जारी रहेंगे, उन प्रतिबंधों को लागू करना जारी रहेगा, और यदि वार्ताएं या तो सद्विश्वास में नहीं रहतीं या विफल रहती हैं, तो हम इस पर कड़ी कार्रवाई करेंगे।

प्रश्न: एक या दो अतिरिक्त प्रश्नों के लिए वापस राष्ट्रपति झी पर। हम हमेशा ताइवान में हमारे मित्रों के बारे में चिंतित रहते हैं। क्या आप यह मानते हैं कि राष्ट्रपति झी जिन्होंने तब ढाई-तीन घंटे का भाषण दिया जब वे आजीवन चीन के राष्ट्रपति बने, क्या आप यह मानते हैं कि उन्होंने ताइवान के संबंध में बल को नकार दिया है, और क्या अमेरिका ताइवान की रक्षा के संबंध में उसके साथ अपने ऐतिहासिक करारों पर कायम है?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: बिल्कुल। राष्ट्रपति ट्रम्प ने चीन के संबंध में अपनी नीति में कोई परिवर्तन नहीं किया था। “एक चीन” नीति, उसके बाद आई तीन विज्ञप्तियाँ लागू रहेंगी। मैं जानता हूँ कि राष्ट्रपति ने अनके अवसरों पर इस बारे में झी के साथ बात की है। हमने उन्हें यह बता दिया है कि आगे का मार्ग है, एक अहिंसक मार्ग आगे का सही मार्ग है, और मेरे विचार में हममें से प्रत्येक देश एक-दूसरे की स्थिति को वहाँ बहुत स्पष्ट रूप से समझता है।

प्रश्न: बल के उपयोग के बारे में बात करते हुए, आइए हम ईरान का रुख करते हैं जो रोज़ाना के आधार पर विश्व में हिंसा का सबसे बड़ा निर्यातक है (अस्पष्ट)। यदि वे परमाणु हथियारों के मार्ग पर बने रहते हैं, तो क्या आप बल का उपयोग करने का पूर्वानुमान लगाते हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मैं आश्वस्त हूँ और मुझे आशा है कि ऐसा नहीं होगा। मैं आशा करता हूँ कि अयातुल्लाह और सुलेमानी, ईरानी खतरे की मुद्रा के प्रमुख प्रेरक, मैं आशा करता हूँ कि वे यह मानते हैं कि अन्य देश JCPOA में रहने के बारे में चाहे जो भी निर्णय करें या वे चाहे जैसी भी कार्रवाई करें, मुझे आशा है कि वह – वे समझते हैं कि यदि वे अपना परमाणु कार्यक्रम सुदृढ़ करना आरंभ करते हैं, तो पूरा विश्व उनसे क्रुद्ध हो जाएगा। और इसलिए उसे आरंभ करना उनके व्यावहारिक सर्वोत्तम हित में नहीं है।

JCPOA के साथ जो कुछ भी होता है, मेरे विचार में ईरानी उसे समझते हैं। यह इससे पूरी तरह भिन्न होगा कि क्या वे कुछ अतिरिक्त सेंट्रफ्यूज घुमाएंगे, यदि वे किसी हथियार कार्यक्रम की ओर बढ़ना आरंभ करते हैं, तो यह ऐसी बात होगी जिसे पूरा विश्व अस्वीकार्य मानेगा, और अंततः हम ऐसे मार्ग पर पहुंच जाएंगे जो मेरे विचार में ईरान, मध्य पूर्व में अन्य पक्षों या वास्तव में विश्व के सर्वोत्तम हित में नहीं है।

प्रश्न: जब आप “पूरे विश्व का क्रोध” कहते हैं, तब मैं नई सन्धि के बारे में सोचता हूँ – और मैं इसके बाद केवल इज़रायल के नहीं, बल्कि बहरीन, मिस्र, जॉर्डन और इराक या सउदी अरब के श्रोताओं के लाभ के लिए बात कर रहा हूँ। संयुक्त अरब अमीरात मध्य पूर्व में बढ़िया मित्र हैं। क्या वे उस स्थिति में अमेरिकी सैन्य कार्रवाई के रूप में ईरान पर प्रकट होने वाले क्रोध का समर्थन करेंगे यदि ये इस मार्ग पर चलते हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: हाँ, जब मैं “क्रोध” कहता हूँ, तब इसे सैन्य कार्रवाई न मानें। जब मैं “क्रोध” कहता हूँ, तब मेरा मतलब उस नैतिक अनादर और आर्थिक शक्ति से है जिसका वे सामना कर रहे हैं। मैं इसकी बात कर रहा हूँ। मैं यहाँ सैन्य कार्रवाई की बात नहीं कर रहा हूँ। मैं वास्तव में आशा करता हूँ कि ऐसा मामला कभी भी नहीं है। यह उसके लिए हर किसी के सर्वोत्तम हित में नहीं है। लेकिन कोई गलती न करें, राष्ट्रपति ने बहुत स्पष्ट कहा है: ईरान इस राष्ट्रपति की निगरानी में कोई परमाणु हथियार प्राप्त नहीं करेगा और न ही अपना परमाणु कार्यक्रम चलाएगा।

और मैंने कुछ को यह कहते हुए सुना है कि हम ईरान के इस मुद्दे पर हमारे सहयोगियों से अलग हो गए हैं। मेरे विचार में ऐसी बात नहीं है। जब मैं अपने अरब मित्रों, इज़रायलियों, उस क्षेत्र में उन सभी से बात करता हूँ, वे ठीक हमारे साथ हैं। और यहाँ तक कि जब मैं उन यूरोपियनों से बात करता हूँ जिनके साथ JCPOA के बारे में हमारा मतभेद है, वे भी उस खतरे को समझते हैं जो ईरान प्रस्तुत करता है, चाहे यह हिज़्बल्लाह के साथ या यमन में या सीरिया में या इराक में दुर्भावनापूर्ण गतिविधि हो, या इसका मिसाइल कार्यक्रम हो, अर्थात उन हवाई अड्डों पर मिसाइलें दागना जहाँ से पाश्चात्य देशों के लोग यात्रा करते हैं। ईरान के अनिष्टकारी व्यवहार की एकीकृत समझ है और यदि ईरान परमाणु हथियारों का मार्ग अपनाता है, तो विश्व अविश्वसनीय रूप से एकजुट हो जाएगा।

प्रश्न: आपने जनरल सुलेमानी का ज़िक्र किया। वे कभी-कभी बल को ही समझते हैं। वे सीरिया में प्रवेश करने का प्रयास कर रहे हैं जहाँ उन्होंने फिर से रेवोल्यूशनरी गार्ड और क्यूऑड्स को तैनात किया है, लेकिन आप कह रहे हैं – मैं बस यह समझना चाहता हूँ – यदि आवश्यक हो, तो अमेरिका वह सब कुछ करने के लिए तैयार है जो इसे उन्हें परमाणु हथियार अपनाने से रोकने के लिए करना है।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: राष्ट्रपति ट्रम्प अपने वक्तव्यों में उस बारे में स्पष्ट रूप से कहते रहे हैं जिनमें यह कहा गया है कि ईरान कोई परमाणु हथियार प्राप्त नहीं कर पाएगा।

प्रश्न: अब —

सेक्रेटरी पोम्पेयो: ह्यूग, यह भी याद रखें, आपके दर्शकों को उस पिछले करार के बारे में याद दिलाना भी महत्वपूर्ण है जिसमें उन्हें यूरेनियम को समृद्ध करना जारी रखने की अनुमति दी गई थी, ठीक है? हमने परमाणु शक्ति के संबंध में ईरानियों की तुलना में हमारे सहयोगियों, एमिरेटिस के साथ अधिक कड़ा समझौता किया। मैंने उन दर्ज़न मदों को प्रस्तुत किया जिन्हें हम ईरान को करने के लिए कह रहे हैं। यदि आपके दर्शक उन्हें देखते हैं, तो ये सभी सामान्य चीज़ें हैं।

वे बस यही कह रहे हैं कि राष्ट्रों के समुदाय के सदस्य बन जाएं, ठीक है? गैर-शत्रु राष्ट्रों पर मिसाइलें दागना बंद करें, पूरे विश्व में आतंकवाद का समर्थन बंद करें, परमाणु हथियारों की प्रणाली का मार्ग न चुनें। ईरान द्वारा राष्ट्रों के समुदाय में लौटने के लिए अमेरिका की माँग यह है कि हम पूरे विश्व के अन्य देशों का आह्वान करें कि वे अंतरराष्ट्रीय प्रणाली का भाग बन जाएं।

प्रश्न: जो कोई भी आपके ट्विटर फीड को फॉलो करता है – और मैं इसे फॉलो करता हूँ, सेक्रेटरी पोम्पेयो – वह यह जानता है कि पिछले दो सप्ताहों में आपने पिछले प्रशासन के अंतर्गत हरित क्रांति के दौरान की तुलना में ईरान में अधिक लोकतांत्रिक समर्थन किया है। क्या यह स्टेट में सेक्रेटरी पोम्पेयो के वर्षों का प्रतीक होने जा रहा है, कि आप बस ईरान में लोकतांत्रिक आंदोलन का समर्थन करने जा रहे हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: मेरे विचार में यह राष्ट्रपति ट्रम्प और हमारे प्रशासन का प्रतीक है। हम बहुत आशान्वित हैं कि लोकतांत्रिक मूल्यों और ईरान इस्लामी गणराज्य के भीतर ईरानियों के लिए अपने मन की बात कहने की क्षमता में वृद्धि होगी।

प्रश्न: अंत में मुझे इस प्रश्न पर आने दें कि कूटनीति कैसे बदली है। आप सेनाओं या मिसाइलों या किसी विमान को गिनने में समर्थ हुआ करते थे; अब हथियार दिखाई नहीं देते। आप CIA के निदेशक के रूप में अपने समय में उन्हें लैंगले पर देखा करते थे। हम यह कैसे जानते हैं कि साइबर विश्व में किसके पास हथियार हैं, आप उन हथियारों की तुलना में कूटनीति का आकलन और उपयोग करने के लिए सेक्रेटरी मैटिस के साथ कैसे काम कर रहे हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: तो यह बढ़िया प्रश्न है, ह्यूग। साइबर गतिविधियों के प्रकट हो जाने के बाद से युद्धभूमि के साधनों की किस्म में परिवर्तन हुआ है। अच्छा समाचार यह है कि चूँकि बुरे व्यवहार की पहचान करने की अमेरिका की क्षमता का कोई सानी नहीं है – क्या इसका यह अर्थ नहीं है कि हम उन सभी को चुनते हैं, क्या इसका यह अर्थ नहीं है कि हमें भ्रमित नहीं किया जा सकता – लेकिन हमारे पास अविश्सनीय रूप से योग्य साइबर टीमें हैं जो पूरी अमेरिकी सरकार में फैली हैं, डिपार्टमेंट ऑफ डिफेंस में भी और अन्य कहीं भी जो देख रहे हैं। वे यह देख रहे हैं कि व्यक्ति साइबर स्पेस में पूरे विश्व में क्या कर रहे हैं। हमारे पास उत्तर देने का सामर्थ्य है।

एक राजनयिक के रूप में, एक ऐसी मूलभूत चीज़ जिस पर सेक्रेटरी मैटिस दोनों पर सहमत हैं, वह यह है कि साइबर हमले का आवश्यक रूप से केवल साइबर माध्यमों से उत्तर देने की आवश्यकता नहीं है। अर्थात यदि वे किसी ऐसी चीज़ में संलग्न होते हैं जो युद्ध के किसी वास्तविक कार्य के समीप आती है या ऐसा बन जाती है, तो अमेरिका द्वारा की जाने वाली आवश्यक कार्रवाई केवल साइबर उत्तर तक सीमित नही है। ऐसे समय होंगे जब अमेरिकी सरकार यह निर्णय करे कि यह सबसे उपयुक्त स्थान है क्योंकि आप वास्तव में इसे बहुत शांत रूप से कर सकते हैं। आप साइबर विश्व में ऐसा संदेश भेजकर उत्तर दे सकते हैं जिसे पूरा विश्व आवश्यक रूप से न देख पाए, लेकिन आपके शत्रु भली-भाँति देख सकते हैं। लेकिन ऐसे समय भी होते हैं जब साइबर स्पेस में उत्तर हमारी सरकार की ओर से कूटनीतिक उत्तर या अन्य प्रकार के उत्तरों का आह्वान करेंगे।

प्रश्न: कुछ अंतिम प्रश्न। क्या लोगों को तब जानने की आवश्यकता है जब हम पर आक्रमण किया गया हो? हमें सुनवाइयों में इस सप्ताह यह पता लगा कि हमें चुनाव में रूसी हस्तक्षेप के दौरान त्यागने को कहा गया था – हमारी सेनाएं। क्या जनता को यह जानने की ज़रूरत है कि हम तब ऐसी चीज़ें कर रहे हैं जब हम उन्हें इसका मूल्यांकन करने के लिए करते हैं कि राष्ट्रपति और आपके उत्तरों और सेक्रेटरी मैटिस के उत्तरों का निर्णय कैसे करें?

सेक्रेटरी पोम्पेयो: यह सटीक रूप से पता लगाने के लिए कठिन चुनौती है – उसी तरीके से जिस तरीके से खुफिया समुदाय के पास ऐसी चीज़ें हैं जिन्हें हम साझा नहीं करते क्योंकि हमारे द्वारा ऐसा करने पर ये अमेरिकी हितों के विरुद्ध काम करती हैं, या डिपार्टमेंट ऑफ डिफेंस ऐसी गतिविधियाँ करता है जिसे वह ऐसे तरीके से करना चाहता है जो शांत हो, जिसे संभवतः केवल हमारे शत्रु जानते हों और हम अमेरिकी रहस्यों की रक्षा करके अमेरिकी हितों की रक्षा कर सकते हैं। यह प्रकट करने की मात्रा और उन प्रकटनों के समय के बारे में प्रत्येक मामले में करने के लिए जटिल गणना है।

फिर भी, जब अमेरिकी घरेलू मुद्दों की बात आती है जैसा उस मामले में था, मेरे विचार में प्रकटन के लिए कोई पैंतरेबाज़ी नहीं है। अर्थात – मैं उन चीज़ों के बारे में अधिक बात कर रहा था जो पूरे सुरक्षा क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय रूप से घटित हुईं। जब हमारे चुनावों और अमेरिकी लोकतंत्र की बात आती है, तब मैं निश्चित रूप से ऐसा सोचता हूँ कि अमेरिकी लोगों पर मंडरा रहे खतरों को उनसे साझा करने के संबंध में कोई पैंतरेबाज़ी है।

प्रश्न: सेक्रेटरी माइक पोम्पेयो, आज के कार्यक्रम के लिए हमें सम्मिलित करने के लिए धन्यवाद।

सेक्रेटरी पोम्पेयो: बहुत-बहुत धन्यवाद। आपके बीच आना बहुत अच्छा रहा।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/06/283452.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें