rss

सरकारें राजनयिक परिवारों में किस तरह घरेलू दासता का समाधान करती हैं

العربية العربية, English English, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو, 中文 (中国) 中文 (中国)

 

सरकारें राजनयिक परिवारों में घरेलू दासता का समाधान करने में चुनौतियों का सामना करती हैं, यह मानव तस्करी का एक प्रकार है जिसमें विदेशों में पदस्थ राजनयिकों और अंतराष्ट्रीय संगठनों के अधिकारियों द्वारा काम पर लगाए गए घरेलू कामगार शामिल हैं।  हालांकि यह दुर्लभ है कि राजनयिक घरेलू कामगारों को अनैच्छिक दासता या शोषण के अन्य प्रकारों के अधीन रखें, उन अवसरों पर जब ऐसा होता है, तो समस्या मेजबान सरकारों के समाधान करने के लिहाज से गंभीर और चुनौतीपूर्ण होती है।

विदेशी मिशन के कर्मचारी और उनके परिवार के सदस्य उनकी नियुक्ति वाले देश के न्यायाधिकार से मिली कई तरह की प्रतिरक्षा यानी छूट का लाभ उठाते हैं।  विशेष रूप से, विदेशी सरकारों के प्रतिनिधि, जो कि एक मेजबान देश में “राजनयिक प्रतिनिधि” के रूप में मान्यता प्राप्त हैं या उसके समकक्ष स्थिति में हैं (जैसे संयुक्त राष्ट्र के लिए स्थायी प्रतिनिधि), अपने जीवन साथी और बच्चों के साथ, आपराधिक और कई नागरिक न्यायाधिकारों से प्रतिरक्षा का लाभ लेते हैं, और उन पर तब तक अभियोग या मुकदमा नहीं चलाया जा सकता जब तक कि इनकी सरकारें इस प्रतिरक्षा को हटा नहीं देतीं।  राजनयिक और उनके निकटतम पारिवारिक सदस्य व्यक्तिगत अनुल्लंघनीयता का भी लाभ उठाते हैं, मतलब उन्हें गिरफ्तार या कैद में नहीं रखा जा सकता है।  अन्य विदेशी सरकारों के प्रतिनिधि जैसे दूतावास के प्रशासनिक और तकनीकी स्टाफ सदस्य, को कम मज़बूत विशेषाधिकारों और छूटों का लाभ लेते हैं, लेकिन वे भी मेजबान राष्ट्र के नागरिक, प्रशासनिक, और आपराधिक न्यायाधिकार से प्रतिरक्षित हो सकते हैं।

एक राजनयिक मिशन के सदस्यों के लिए विशिष्ट प्रतिरक्षा राजनयिक संबंधों के वियना कन्वेंशन में निहित है, जो कि उन सभी राष्ट्रों के पारस्परिक हितों पर आधारित एक संधि है जो विदेशी राजनयिकों की मेज़बानी और अपने राजनयिक विदेश भेजना दोनों काम करते हैं।  सम्मेलन राजनयिकों को मेज़बान राष्ट्र के कानूनों का सम्मान करने का उत्तरदायी भी बनाता है, और परोक्ष रूप से विदेशी घरेलू कामगारों को राजनयिक कार्य पर विदेश लाने के लंबे समय से चले आ रहे विशेषाधिकार को मान्य करता है।

घरेलू कामगार अक्सर उन परिस्थितियों का सामना करते हैं जो उन्हें उनके राजनयिक नियोक्ता के शोषण के लिए अत्याधिक संवेदनशील बनाती हैं।  वे आमतौर पर वैधानिक रूप से उस देश के निवासी होते हैं जिसमें वे सिर्फ राजनयिक द्वारा अपने रोज़गार के आधार पर काम करते हैं।  इसलिए, वे शोषक परिस्थितियों में बने रह सकते हैं क्योंकि वे महसूस करते हैं कि उनके पास और कोई विकल्प नहीं है।  इसके अलावा, ये कामगार अक्सर राजनयिक के परिवार से परे, जिस देश में वे नियोजित हैं वहां की भाषा, संस्थानों और संस्कृति से परिचय की कमी के कारण समुदाय से अलग भी रहते हैं।  एक राजनयिक, जो कि कुछ शक्तियों के साथ एक सरकारी अधिकारी है और एक घरेलू कामगार, जिसके पास संभवत: मामूली पृष्ठभूमि और हो सकता है कि सीमित शिक्षा और भाषाई कौशल हो, उनके बीच एक महत्वपूर्ण शक्ति असंतुलन है।  इसके अतिरिक्त, घरेलू कामगार आमतौर पर राजनयिकों की विशेष स्थिति से अवगत होते हैं और मान सकते हैं कि उत्तरदायित्व के नियम उनके नियोक्ता पर लागू नहीं हो सकते और यह कि मदद की उम्मीद करना व्यर्थ है।

हालांकि, एक अंतर्राष्ट्रीय सहमति ने आकार लेना शुरू कर दिया है, यह स्वीकार करते हुए कि राजनयिकों को घरेलू कामगारों के शोषण के लिए ज़िम्मेदार ठहराया जाना चाहिए।

उदाहरण के लिए, यह तेज़ी से समझा गया है कि राजनयिक और उनके परिवार द्वारा लाभ ली जाने वाली प्रतिरक्षा की एक अस्थायी सीमा है।  राजनयिक संबंधों पर वियना सम्मेलन व्यवस्था देता है कि जब एक राजनयिक अपना पद छोड़ता या छोड़ती है, तो वह राजनयिक प्रतिरक्षा के एक सीमित स्वरूप का लाभ लेता है जो कि राजनयिक के “आधिकारिक कार्यों” तक ही सीमित होता है जब तक कि उसे मान्यता प्राप्त होती है।  एक घरेलू कामगार का नियोजन व्यापक रूप से आधिकारिक कार्य नहीं माना जाता है, इसलिए घरेलू कामगारों ने सफलतापूर्वक राजनयिकों (और उनके जीवन साथियों) पर उसके बाद मुकदमे किये हैं जबकि राजनयिक की स्थिति उस समय किए गए दुर्व्यवहार के आरोप के लिए समाप्त कर दी गई है जब राजनयिक को मान्यता मिली थी।

निम्न खंड कुछ अभिनव पहलों को रेखांकित करते हैं जो कि हाल ही में अमेरिकी सरकार और दुनिया भर में अन्य मेजबान सरकारों द्वारा राजनयिक परिवारों में घरेलू दासता के समाधान की रोकथाम, सुरक्षा, और अभियोजन के लिए 3P प्रतिमान पर हैं।

रोकथाम

  • आवश्यक है कि राजनयिक द्वारा नियोजित किए गए विदेशी घरेलू कामगार के पास देश में आने से पहले उस भाषा में एक लिखित अनुबंध हो जिसे वह कामगार समझता है; अनुबंध में काम के घंटे, मजदूरी, छुट्टियाँ, चिकित्सा देखभाल, वगैरह का उल्लेख अनिवार्य है। कई सरकारें नियोक्ताओं को कामगार के यात्रा और पहचान दस्तावेज़ रखने से भी रोकती हैं।
  • आवश्यक है कि घरेलू कामगार का मेजबान सरकार (आमतौर पर विदेश मंत्रालय में प्रोटोकॉल अधिकारी) के पास व्यक्तिगत पंजीयन हो।  पंजीयन कामगार को उनके नियोक्ता की उपस्थिति के बगैर उनकी काम की परिस्थितियों की चर्चा करने और अपने अधिकारों और कर्तव्यों के बारे में सीखने के लिए मेजबान सरकार के प्रतिनिधियों से मिलने का अवसर प्रस्तुत करता है।  एक घरेलू कामगार को आमतौर पर पहचान पत्र उपलब्ध कराया जाता है जो कि समय-समय पर नवीनीकृत होता है और जिसमें यदि आवश्यकता हो तो सहायता के लिए संपर्क की जानकारी होती है।
  • जिन देशों में प्रभावी बैंकिंग प्रणाली है वहां मजदूरी का नगद भुगतान प्रतिबंधित करना, और इसके बजाय घरेलू कामगार के स्वयं के नाम के बैंक खाते में सीधे मजदूरी जमा करना या चेक से भुगतान करना आवश्यक होता है।  ये उपाय वेतन विवाद की स्थिति में वस्तुनिष्ठ साक्ष्य उपलब्ध कराते हैं।  इसके अतिरिक्त, कई सरकारों के पास न्यूनतम मजदूरी आवश्यकताएं हैं और संपूर्ण रूप से या विशिष्ट रूप से उस सीमा तक निषिद्ध हैं जहां पर रहने या खाने के खर्च मजदूरी से लिए जा सकते हैं, इसलिए अत्यधिक कटौती को सीमित करने से मजदूरी के कम भुगतान को रोका जा सकता है।
  • घरेलू कामगारों की संख्या को सीमित करना जो कि कोई राजनयिक एक समय में नियुक्त कर सकता है ताकि यह सुनिश्चित करने में मदद मिले कि राजनयिक वादे के मुताबिक मजदूरी का भुगतान करने में समर्थ है, साथ ही कामगार के परिवार को उसके साथ आने से रोकना, क्योंकि परिवार के सदस्य खुद भी शोषण के अधीन हो सकते हैं।  परिवार के साथ वाले कामगारों की दुर्व्यवहार की शिकायत करने की संभावना इस डर से कम हो जाती है कि उसके जीवन साथी या बच्चे निवासी की स्थिति खो देंगे।
  • आवश्यक है कि वीज़ा जारी होने से पहले घरेलू कामगार यह प्रदर्शित करे कि वह मेजबान देश की कम से कम एक भाषा समझता हो।
  • विदेशी काम की ज़िम्मेदारी से पहले राजनयिक को घरेलू कामगारों से उपयुक्त व्यवहार का प्रशिक्षण प्रदान करना, और विदेश में तैनाती के दौरान घरेलू कामगार का दुरुपयोग करने वाले राजनयिक को दंडित करने के लिए विदेश मंत्रालय की आंतरिक मानव संसाधन नीतियों का विकास करना।

संरक्षण

  • किसी राजनयिक द्वारा घरेलू कामगार के शोषण के विश्वसीय आरोपों को भेजने वाले देश के मिशन के राजदूत के ध्यान में लाना और आरोपों के समयबद्ध जवाब का अनुरोध करना।  कुछ मेजबान सरकारें मिशन के सदस्यों द्वारा नियोजित किसी अतिरिक्त घरेलू कामगार के वीज़ा जारी करने को सीमित करने के लिए प्रतिबंधात्मक कदम भी उठा सकती हैं जब तक कि आरोपों का संतुष्टिजनक समाधान न हो जाए।
  • उनके राजनयिको में से किसी एक के खिलाफ मौजूदा निर्णयों सहित, दीवानी मुकदमे में अंतिम अदालती फैसले के निपटारे और/या भुगतान को प्रोत्साहित करने के लिए विदेशी सरकारों के साथ राजनयिक रूप से संलग्न होना। जैसा कि ऊपर वर्णित किया गया है, राजनयिक और उनके परिवार के सदस्यों पर, उनकी राजनयिक स्थिति समाप्त होने के बाद, उनके घरेलू कामगारों द्वारा सफलतापूर्वक मुकदमा किया गया है।
  • घरेलू कामगारों द्वारा गंभीर आरोपों का विषय बने राजनयिक कर्मचारियों को समस्या के समाधान के लिए प्रोत्साहित करना, और यदि उचित हो, घरेलू कामगार को मुआवजा प्रदान करना, भले ही असाइनमेंट वाले देश में कोई औपचारिक कानूनी उपाय उपलब्ध नहीं है।
  • राजनयिक और घरेलू कामगारों के बीच विवाद में मध्यस्थता के प्रयास में एक वैकल्पिक विवाद समाधान तंत्र स्थापित करना।
  • यह सुनिश्चित करने के लिए कि मानव तस्करी से पलायन करने वाले घरेलू कामगारों की पहुंच आश्रय और समर्थन तक हो, समुदाय में कानून प्रवर्तन और एनजीओ के बीच साझेदारी निर्मित करना।

अभियोजन

  • राजनयिकों को ज़िम्मेदार ठहराने के लिए गंभीर कार्रवाई करना।  उदाहरण के लिए, यदि मेजबान राष्ट्र में कानून प्रवर्तन प्राधिकारी सलाह देते हैं कि यदि राजनयिक के पास प्रतिरक्षा नहीं है तो वे राजनयिक को किसी गंभीर अपराध (मानव तस्करी सहित) के लिए अभियोजित करेंगे, तब मेजबान राष्ट्र अनुरोध कर सकता है कि भेजने वाला राष्ट्र अभियोजन को आगे बढ़ाने के लिए प्रतिरक्षा हटा ले।  यदि ऐसी छूट प्राप्त नहीं होती है, तो राजनयिक और परिवार के सदस्यों को देश से बाहर निकालने की आवश्यकता हो सकती है।
  • जांच हेतु कानून प्रवर्तन के लिए किसी राजनयिक द्वारा एक घरेलू कामगार के शोषण के विश्वसनीय आरोपों को संदर्भित करना।
  • पूर्व विदेशी मिशन सदस्यों और, यदि उचित हो, तो परिवार के सदस्यों को इंटरपोल “रेड नोटिसों” के विषय के रूप में प्रस्तावित करते हुए, जो कि एक अंतर्राष्ट्रीय प्रणाली में फ्लैग हैं, जो दुनिया भर में कानून प्रवर्तन को सतर्क करेगा कि ये लोग एक गिरफ्तारी वारंट के आधार पर अभियोजन के लिए दूसरे देश की सरकार द्वारा वांछित हैं।

 


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/j/tip/rls/fs/2018/283545.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें