rss

नो मैन्स लैंड की यात्रा करना

English English, العربية العربية, اردو اردو

“नो मैन्स लैंड (No Man’s Land)” का दृश्य जहाँ हज़ारों भटके हुए व्यक्ति बर्मा की सीमा की बाड़ और बांग्लादेश के बीच रहते हैं। (एन्ना स्लैटरी, USAID)
नो मैन्स लैंड की यात्रा करना
17 जुलाई, 2018 मार्क ग्रीन द्वारा।

 
 

संयुक्त राज्य और बांग्लादेश भागीदारी, सहयोग और मित्रता का एक लंबा इतिहास साझा करते हैं। USAID की बांग्लादेश में विशेष रूप से गहरी जड़ें हैं। जब मैं पिछले महीने ढाका में था, तब कुछ बांग्लादेशियों ने मुझे बताया कि उन्हें 1971 में स्वतंत्रता के तुरंत बाद के वे दिन याद हैं जब उन्हें भोजन सहायता मिली जिस पर USAID का लोगो था।

तब से चीज़ों में बदलाव हुआ है: बांग्लादेश में ज़बरदस्त विकास हुआ है और यह 2021 तक मध्य आय वाला देश बनने के लिए प्रतिबद्ध है। अमेरिका, बांग्लादेश की विकास यात्रा पर बांग्लादेश के साथ खड़ा है और हम एक साथ मिलकर वैश्विक स्वास्थ्य और खाद्य सुरक्षा के साथ-साथ आर्थिक विकास और लोकतांत्रिक प्रशासन पर काम करना जारी रखेंगे।

बेशक, हम एक जारी त्रासदी पर ध्यान देने के लिए भी सहयोग कर रहे हैं जैसा कि मैंने मई में देश में अपने दौरे पर स्वयं देखा। 25 अगस्त, 2017 से, बर्मा के 700,000 से अधिक व्यक्ति वहाँ जातीय हिंसा से भागकर बांग्लादेश में शरण लेने के लिए आए हैं। यह व्यापक प्रवास अब विश्व में विशालतम मानवीय त्रासदियों में से एक है।

सीमा पर रोहिंग्या बच्चे। (एन्ना स्लैटरी, USAID)

इस संकट से सभी पीड़ित व्यक्तियों को हमारी सहायता सच्ची भागीदारी है। विश्व इन घिरे हुए लोगों का स्वागत करने के लिए बांग्लादेश द्वारा प्रकट की गई उदारता के लिए उसका ऋणी है। ऐसा कीमत चुकाए बिना नहीं हुआ है, विशेष रूप से बांग्लादेश के उन स्थानीय समुदायों ने कीमत चुकाई है जो कॉक्स बाज़ार के पास रहते हैं जो अब विश्व के विशालतम शरणार्थी शिविर का केंद्र है।

हम सभी यह मानते हैं कि किसी दीर्घकालीन समाधान की जल्द पहचान करनी होगी, लेकिन ठीक इस समय इन परिवारों का जीवित बचना अंतरराष्ट्रीय समुदाय की सहायता और सहयोग पर निर्भर करता है।

मेरे हालिया दौरे की एक गहन याद कुटुपलोंग शरणार्थी शिविर के बाहर से आती है। मेरी टीम और मैं वाहन में सीमा क्रॉसिंग पर गए जहाँ हज़ारों लोग एक ऐसे क्षेत्र में अस्थायी शिविर में रह रहे हैं जिसे “नो मैन्स लैंड” माना जाता है – बर्मा की नवनिर्मित सीमा बाड़ के पार, लेकिन आधिकारिक रूप से बांग्लादेश में नहीं।

सीमा पर, USAID प्रशासक मार्क ग्रीन, बाएं से तीसरे, ने बांग्लादेश की सुरक्षा के लिए रखीने में हिंसा से भाग रहे लोगों की लहरों के बारे में बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश से सुना। हम उन्हें धन्यवाद देते हैं कि उन्होंने सीमा खोल दी और लोगों को सुरक्षित जगह खोजने दी। (एन्ना स्लैटरी, USAID)

हम बॉर्डर गार्ड्स बांग्लादेश (BGB) के सदस्यों से मिले जो एक ऐसी प्रभावशाली टीम थी जिसे एक चुनौतीपूर्ण मिशन सौंपा गया था। मैंने काफी देर तक एक कर्नल से बात की जो पिछले वर्ष अगस्त में पलायन से बस कुछ सप्ताह पहले चौकी पर आए थे।

उन्होंने मुझे बताया कि उन्हें उस दिन उठने पर गोलियों और विस्फोटों की आवाज़ सुनाई दी। जब उन्होंने बाहर देखा, तब उन्हें सैंकड़ों लोग भागते हुए दिखाई दिए। वरिष्ठ अधिकारियों से किसी निर्देश के बिना, कर्नल ने सबसे अधिक संभव मानवीय तरीके से प्रतिक्रिया की: उन्होंने परेशान लोगों का भीतर स्वागत किया।

वे जानते थे कि इससे उनकी नौकरी खतरे में पड़ सकती है लेकिन जब उन्हें बारूदी सुरंगें फटने की आवाज़ सुनाई दी और जब उन्होंने जलते हुए गाँवों से धुएं को रात के आकाश में जाते हुए देखा, तब वे जानते थे कि उनकी दया बहुत से लोगों के लिए जीवन और मृत्यु के बीच का अंतर होगी।

अमेरिका इस कर्नल, सीमा के पास अथक रूप से कार्यरत BGB अधिकारियों और ऐसे संकट की अग्र पंक्तियों में बहुत से गुमनाम बांग्लादेशी नायकों की प्रशंसा करता है जिनकी उदारता और खुले दिल से प्रतिदिन ज़िंदगियाँ बच रही हैं।

लेखक के बारे में: मार्क ग्रीन USAID के प्रशासक हैं। उन्हें फॉलो करें @USAIDMarkGreen। हमारे विकास प्रयास वैश्विक सुरक्षा, समृद्धि और आत्मनिर्भरता को बढ़ावा देकर अमेरिकी हितों को प्रोत्साहित करते हैं।

संपादक की टिप्पणी: यह प्रविष्टि मूल रूप से USAID के 2030: में छपी थी इस पीढ़ी में बेहद गरीबी का खात्मा करना मीडियम पर प्रकाशन। 


मूल सामग्री देखें: https://blogs.state.gov/stories/2018/07/17/en/journeying-no-man-s-land
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें