rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो संयुक्त राष्ट्र में स्थायी प्रतिनिधि निक्की हेली के साथ

English English, Français Français, Русский Русский, اردو اردو, العربية العربية, Español Español, Português Português

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
20 जुलाई 2018
टिप्पणियाँ

 

संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय
न्यूयार्क, न्यूयारk

सेक्रेटरी पोम्पेयो:  सभी को मेरा नमस्कार।  सबसे पहले मैं संयुक्त राष्ट्र में अपनी अच्छी मित्र राजदूत हेली और उनकी उत्कृष्ट टीम की सराहना करना चाहता हूं।  उत्तरी कोरिया और कई अन्य मुद्दों पर अमेरिकी हितों को आगे बढ़ाने में उनका नेतृत्व आज सुबह स्पष्ट हो गया है, और उन्हें उनकी मदद करने के लिए पीछे एक सर्वश्रेष्ठ टीम का साथ प्राप्त है।   तो धन्यवाद, निक्की।

मेरे आज यहां आने का मुख्य कारण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद – दक्षिण कोरिया और जापान के सदस्यों के साथ मिलना था – इस महीने की शुरुआत में उत्तरी कोरिया की यात्रा और मेरे द्वारा किए गए काम की प्रगति पर विवरण व्यक्त करने के लिए।  मुझे विषय और अन्य विषयों पर चर्चा करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव ग्युटेरेस से मिलने का अवसर भी मिला।

सुरक्षा परिषद के देश उत्तर कोरिया के अंतिम, पूरी तरह से सत्यापित परमाणु- निरस्तीकरण की आवश्यकता पर एकजुट हैं, जैसा कि अध्यक्ष किम द्वारा सहमति प्रदान की गई है।  इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रतिबंधों का सख्त प्रवर्तन महत्वपूर्ण है।

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्य, और संयुक्त राष्ट्र के सभी सदस्य-राज्यों ने विस्तार से उत्तर कोरिया पर प्रतिबंधों को पूरी तरह से लागू करने के लिए सहमति व्यक्त की है, और हम उम्मीद करते हैं कि वे उन प्रतिबद्धताओं का सम्मान जारी रखें।  जब प्रतिबंध लागू नहीं होते हैं, तो सफल परमाणु-निरस्तीकरण की संभावनाएं कम हो जाती हैं।  अभी, उत्तरी कोरिया अवैध रूप से देश में पेट्रोलियम उत्पादों को एक ऐसे स्तर पर तस्करी कर रहा है जो संयुक्त राष्ट्र द्वारा स्थापित कोटा से काफी आगे निकल चुका है।  ये अवैध शिप-टू-शिप स्थानान्तरण सबसे प्रमुख माध्यम हैं जिनके द्वारा यह हो रहा है।

ये स्थानान्तरण इस वर्ष के पहले पांच महीनों में कम से कम 89 बरा हुए और उनका होना जारी है।  संयुक्त राज्य अमेरिका गैरकानूनी शिप-टू-शिप स्थानांतरण को रोकने के लिए हर संयुक्त राष्ट्र के सदस्य-राज्य की ज़िम्मेदारी को याद दिलाता है, और हम उन्हें उनके प्रवर्तन प्रयासों को भी बढ़ाने के लिए आग्रह करते हैं।

हमें प्रतिबंधों के अन्य रूपों पर भी तलाशना होगा, जिसमें समुद्र द्वारा कोयले की तस्करी, ओवरलैंड सीमाओं द्वारा तस्करी, और कुछ देशों में उत्तरी कोरियाई अतिथि श्रमिकों की मौजूदगी शामिल है।  उत्तरी कोरियाई साइबर चोरी और अन्य आपराधिक गतिविधियाँ भी शासन के लिए काफी राजस्व पैदा कर रही हैं, और उन्हें रोका जाना होगा।

राष्ट्रपति ट्रम्प उत्तरी कोरिया के परमाणु-निरस्तीकरण की संभावनाओं के बारे में उत्साहित है।  तो क्या मैं, जबकि प्रगति हो रही है।  अब ट्रम्प प्रशासन को आशा है कि एक दिन DPRK हमारे बीच संयुक्त राष्ट्र में मौजूद हो सकता है – एक पैरायाह के रूप में नहीं, बल्कि एक दोस्त के रूप में।  कल्पना करें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की बैठकों में जहां DPRK के परमाणु और मिसाइल कार्यक्रम बार-बार एजेंडा नहीं रहते।  हम अपनी ऊर्जा को उन सारी तत्काल समस्याओं पर ध्यान केंद्रित करने में सक्षम होंगे जिनका हमारी दुनिया सामना करती है।

मेरा मानना है कि यह वास्तविकता संभव है, और राष्ट्रपति ट्रम्प भी ऐसा मानते हैं।  लेकिन वहां तक पहुंचने के लिए प्रतिबंधों का पूर्ण प्रवर्तन करना होगा।   इसके लिए अध्यक्ष किम को सिंगापुर में राष्ट्रपति ट्रम्प से की गई अपनी निजी प्रतिबद्धताओं पर पूरा उतरना होगा।  आगे का रास्ता आसान नहीं है; इसमें समय लगेगा।  लेकिन सभी के लिए एक सुरक्षित दुनिया की हमारी आशाएँ और उत्तरी कोरिया के लिए एक उज्ज्वल भविष्य, हमारा उद्देश्य बना हुआ है, और वह आशा सुदृढ़ है।

आपका धन्यवाद।  राजदूत हेली।

राजदूत हेली:  आपका बहुत-बहुत धन्यवाद।  और मैं अपने मित्र, सेक्रेटरी पोम्पेयो की यहां आने के लिए और आज सुरक्षा परिषद के साथ बैठक करने के लिए आभारी हूँ।

हम यह जानते हैं।   अट्ठारह महीने पहले, जब मैं यहां आई थी, हमारे सामने सबसे बड़ा मुद्दा उत्तरी कोरिया था।   हर कोई सोच रहा था कि वह नया परीक्षण कब होने वाला है, हर कोई सोच रहा था कि वह नया खतरा कब मंडरायेगा, और सम्पूर्ण अंतर्राष्ट्रीय समुदाय जानती थी कि कुछ ज़रूर होगा।   सुरक्षा परिषद द्वारा तीन बड़े प्रतिबंध पैकेजों, सभी निर्यातों से छुटकारा पाने, उनके व्यापार के 90 प्रतिशत, उनके तेल का 30 प्रतिशत को पारित करने, सभी श्रमिकों को निष्कासित करने और उन्हें काम से निकलना, और यह सुनिश्चित करना कि सभी संयुक्त उद्यम बंद हो जाएं।  वह सभी अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के साथ मिलकर एक साथ किया जा रहा है, और राजनयिकों को निष्कासित करना और संचार रोकना, और राष्ट्रपति के कठिन रुख के साथ, यह सब वास्तव में संयोजन था जो उत्तरी कोरिया को वार्ता की टेबल तक लाया था।

अब, उत्तरी कोरिया और अमेरिका ने वार्ता शुरू कर दी है।  और जबकि ये चीजें हो रही हैं, हम और सुरक्षा परिषद और अंतर्राष्ट्रीय समुदाय को उन वार्ताओं का समर्थन करना है।  और उन वार्ताओं का समर्थन करने का सबसे अच्छा तरीका प्रतिबंधों को ढीला न करना है।  और हमने ये देखा है कि कुछ विशिष्ट देश छूटें देना चाहते हैं, कुछ विशिष्ट देश कह रहे हैं, “आईये प्रतिबंध हटा दें” कुछ विशिष्ट देश और करना चाहते हैं।    और मैं सेक्रेटरी पोम्पेयो के यहां आने की सराहना करती हूं और हम यह सुदृढ़ रखना जारी रखेंगे कि हम एक चीज तब तक नहीं कर सकते जब तक कि उत्तरी कोरिया को परमाणु-निरस्तीकरण के अपने वादे पर प्रत्युत्तर नहीं करता।   हमें किसी प्रकार की कार्रवाई देखना बाकी है।  और जब तक कि वह कार्रवाई नहीं होती, तब तक सुरक्षा परिषद दबाव बनाये रखेगी, अंतर्राष्ट्रीय समुदाय – हम आपको आगे बढ़ने पर दबाव बनाये रखने के लिए कहते हैं।

जिस समस्या का हम सामना कर रहे हैं वह यह है कि हमारे कुछ मित्रों ने फैसला किया है कि वे नियमों को कम करना चाहते हैं।  आपने देखा कि तेल प्रतिबंध का उल्लंघन हुआ था।  जैसा कि सेक्रेटरी पोम्पेयो ने कहा, हमने 89 बार ऐसा होते देखा है।   हमारे पास शिप-टू-शिप स्थानांतरण के सबूत की तस्वीरें हैं।   और हमारे दोस्तों, हमने यह फैसला किया था कि आईये इकट्ठे हों और आईये यह पक्का करें कि इसे रोका जाता है।   इसलिए अमेरिका ने कल उत्तरी कोरिया में सभी अतिरिक्त परिष्कृत पेट्रोलियम शिपमेंटों को रोक दिया।  चीन और रूस ने इसे अवरुद्ध कर दिया है।

अब चीन और रूस इसे अवरुद्ध करके, हमें क्या बता रहे हैं?   क्या वे हमें बता रहे हैं कि वे इस तेल की आपूर्ति को जारी रखना चाहते हैं?   वे दावा करते हैं कि उन्हें और जानकारी चाहिए।   हमें किसी और जानकारी की जरूरत नहीं है।  प्रतिबंध कमेटी के पास वो है जिसकी उसे जरूरत है।   हम सभी जानते हैं कि यह आगे बढ़ रहा है।   हमने आज इस स्थिति के माध्यम से चीन और रूस को इसका पालन करने और अच्छे मददगार बनने के लिए दबाव डाला और हमें परमाणु-निरस्तीकरण जारी रखने में मदद करने के लिए दबाव डाला है।

और इसलिए मुझे लगता है कि यह सेक्रेटरी, दक्षिण कोरिया के विदेश मंत्री, हमारे जापानी मित्रों के साथ-साथ सुरक्षा परिषद के बीच बहुत स्पष्ट बातचीत का दिन था:  अगर हम सफलता देखना चाहते हैं, तो हमें अध्यक्ष किम की ओर से किसी प्रतिक्रिया को देखना होगा, और हमें तब तक लाइन पर दबाव बनाये रखना होगा जब तक कि ऐसा न हो।  और बहुत ही सफल दिन, फिर से, यह वादा करता कि सुरक्षा परिषद एकजुट रही है और हमारे सदस्यों पर दबाव डालना जारी रखेगी कि उस प्रक्रिया में असफल न हों।  आपका धन्यवाद।

प्रश्न:  श्रीमान सेक्रेटरी —

सुश्री न्यूअर्ट:  जल्दी से तीन – तीन संक्षिप्त सवाल।   रिच एडसन, फोक्स न्यूज़।

प्रश्न:  आपका धन्यवाद।  श्रीमान सेक्रेटरी, संयुक्त राष्ट्र राजदूत हेली ने उल्लेख किया कि रूस प्रतिबंधों के प्रवर्तन पर इतना मददगार नहीं हो रहा है।  राष्ट्रपति ने राष्ट्रपति पुतिन के साथ अपनी बैठक के बाद उल्लेख किया कि राष्ट्रपति पुतिन उत्तरी कोरिया पर सहायता करने वाला है।   क्या रूस राष्ट्रपति के साथ किए गए समझौते पर पुनर्विचार कर रहा है?  और क्या – जब दोनों राष्ट्रपति मिले थे तो दोनों राष्ट्रपति किन अन्य बातों पर सहमत थे?

सेक्रेटरी पोम्पेयो:  तो प्रतिबंधों का प्रवर्तन एक लगातार चलने वाली प्रक्रिया है।  ऐसे कई स्थान हैं जहां रूसी सहायक रहे हैं।   निश्चित रूप से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा प्रस्तावों के समय की शुरुआत के बाद से रूसियों ने इन प्रतिबंधों को लागू करने के लिए कई चीजें की हैं, और हम इसकी सराहना करते हैं।  हालांकि, हमें इस बात की जरूरत है कि ऐसा होना जारी रहे।   हमें यह सुनिश्चित करने की ज़रूरत है कि दुनिया यह देखना शुरू नहीं करेगी – कि उत्तरी कोरियाई लोगों के परमाणु-निरस्तीकरण की मांग अकेले अमेरिकी मांग नहीं है; यह दुनिया की मांग है और हमें विश्व के इसमें भाग लेने की जरूरत है।

और इसलिए जहां हमें कोई समस्या है, जहां कोई भी देश, चाहे वह रूस हो या कोई दूसरा, जो इसे लागू करने के लिए अपना कार्य नहीं कर रहा है, हम यह सुनिश्चित करेंगे कि हम उन्हें जानकारी प्रदान करें ताकि वे इसे देख सकें और दुनिया इसे देख सके, और हम मांग करेंगे कि दुनिया का हर देश में इसमें अपनी भूमिका निभाए।

सुश्री न्यूअर्ट:  कायली, CBS न्यूज़ से।

प्रश्न:  श्रीमान सेक्रेटरी, रूस पर एक फॉलो-अप प्रश्न, क्योंकि आज वाशिंगटन में हर कोई रूस के बारे में बात कर रहा है, मेरा इस पर एक सवाल है।   राष्ट्रपति का व्लादीमिर पुतिन को व्हाइट हाउस में बुलाना एक अच्छा आइडिया क्यों है?   संयुक्त राज्य अमेरिका को इससे क्या लाभ होगा?

सेक्रेटरी पोम्पेयो:  जी, मुझे खुशी है कि इन दो महत्वपूर्ण देशों के दो नेता आपस में मिलना जारी रखे हुए हैं।   यदि यह बैठक वाशिंगटन में होती है तो मुझे लगता है यह अच्छे के लिए ही होगा।   ये बातचीतें बहुत अधिक महत्वपूर्ण हैं।   दुनिया भर में हमारे वरिष्ठ नेता उन लोगों से मिल रहे हैं जिनसे हमारे गहरी असहमतियाँ हैं।    संयुक्त राज्य अमेरिका के लोगों के लिए यह अविश्वसनीय रूप से मूल्यवान है कि हमारे दोनों के बीच सामना किये जाने वाले कठिन मुद्दों को हल करने के लिए  राष्ट्रपति पुतिन और राष्ट्रपति ट्रम्प बातचीत में जुड़े रहते हैं।  मुझे लगता है कि यह अत्यधिक समझदारी की बात है, और मुझे उम्मीद है कि यह बैठक इस शरद ऋतु में होगी।

सुश्री न्यूअर्ट:  और अंतिम सवाल, रूयटर्स की मिशेल से।

प्रश्न:  आपका धन्यवाद।  श्रीमान सेक्रेटरी, आपको उत्तरी कोरिया की ओर से कौन से कदम उठाये जाते हुए देखने की जरूरत है जो यह दर्शाते हों कि वे परमाणु-निरस्तीकरण के लिए प्रतिबद्ध हैं।   और रूस पर, आज सुबह रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उन्होंने कई मिलियन सीरियाई शरणार्थियों को वापस भेजने के बारे में वाशिंगटन को प्रस्ताव भेजे हैं।   उन्होंने कहा कि यह एक समझौते के आधार पर किया गया है जो राष्ट्रपति पुतिन और राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच हुआ है।   क्या आपने उन प्रस्तावों को देखा है, और वे किस समझौते पर पहुंचे हैं?

सेक्रेटरी पोम्पेयो:  मैं पहले दूसरे सवाल का जवाब दूंगा।  तो कई वार्ताएँ चल रही हैं।   राष्ट्रपति पुतिन और राष्ट्रपति ट्रम्प के बीच सीरिया के समाधान पर और हम शरणार्थियों को वापस कैसे प्राप्त कर सकते हैं, इस बारे में एक बातचीत हुई थी।   राष्ट्रपति ने उस बातचीत को मेरे साथ साझा किया था जो उनके बीच हुई थी।   दुनिया के लिए यह महत्वपूर्ण है कि सही समय पर, एक स्वैच्छी तंत्र के माध्यम से, ये शरणार्थी अपने घरेलू देश को वापस लौटने में सक्षम हों।   हम इस पर काम कर रहे हैं।   संयुक्त राष्ट्र भी इसी पर काम कर रहा है, स्टाफन दी मिस्तूरा भी इसी समस्या पर काम कर रहे हैं।   और राष्ट्रपति पुतिन और राष्ट्रपति ट्रम्प ने इसके बारे में बातचीत की।   इस पर काफी काम किया जाना बाकी है कि इसे कैसे कार्यांवित किया जाए, लेकिन संयुक्त राज्य अमेरिका सीरिया में उस समाधान को प्राप्त करने में हिस्सा बनना चाहता है, इस बारे में कोई दो राय नहीं है।

आपका पहला सवाल था कि हम क्या होते देखना चाहते हैं।   यह बहुत सीधी सी बात है, है न?   और यह मेरी अपनी – यह मेरी अपना वर्णन नहीं है कि क्या होना चाहिए।   अध्यक्ष किम ने वादा किया था।   अध्यक्ष किम ने न केवल राष्ट्रपति ट्रम्प को यह कहा था, बल्कि राष्ट्रपति मून से भी कहा था कि वह परमाणु-निरस्तीकरण के लिए तैयार था।   उसका दायरा और स्केल पर सहमति हुई है।   उत्तरी कोरियाई समझते हैं कि इसका क्या मतलब है।   इस बारे में कोई गलती नहीं है कि परमाणु-निरस्तीकरण कैसा दिखना चाहिए।

तो हमें देखने की जरूरत है?  हमें यह देखने की जरूरत है कि अध्यक्ष किम वैसा करें जैसा कि उन्होंने दुनिया से वादा किया है कि वे करेंगे। यह बहुत पसंदीदा नहीं है, लेकिन यही सत्य है।

सुश्री न्यूअर्ट:  ठीक है।  आपका धन्यवाद।  आपका धन्यवाद।

प्रश्न:  श्रीमान सेक्रेटरी, एक और – एक और सवाल?

सुश्री न्यूअर्ट:  आप सबका धन्यवाद।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/07/284264.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें