rss

आतंकवादी समूहों सहित सरकार से इतर समूहों द्वारा धार्मिक स्वतंत्रता के दमन पर वक्तव्य

English English, العربية العربية, Français Français, Русский Русский, اردو اردو, Português Português, Español Español

धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने के लिए मंत्रिस्तरीय वार्ता

 

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के प्रतिनिधियों के तौर पर हम आतंकी और हिंसक चरमपंथी समूहों द्वारा धार्मिक स्वतंत्रता के व्यवस्थागत, सतत और भीषण उल्लंघन की संयुक्त रूप से निंदा करते हैं, और हम हिंसक चरमपंथ को रोकने और उसका मुकाबला करने के लिए जारी अंतर्राष्ट्रीय प्रयासों का समर्थन करते हैं। हम आतंकवाद के शिकार लोगों के साथ एकजुटता से खड़े हैं और अधिकारियों से आह्वान करते हैं कि वे पीड़ितों को अंतर्राष्ट्रीय कानून के मुताबिक न्याय दिलाएं। हम आतंकी हिंसा के शिकार धार्मिक समूहों और दूसरे समुदायों को समर्थन देने के लिए अपने आप में प्रतिबद्ध हैं और आतंकवादियों को उनके अपराध के लिए जिम्मेदार ठहराने की दिशा में सुगमता पूर्वक आगे बढ़ रहे हैं।

इस बात को रेखांकित करते हुए कि आतंकवाद का रूप धारण करने वाला हिंसक चरमपंथ किसी एक राष्ट्रीयता, संस्कृति, धर्म, आर्थिक विकास के स्तर, या सभ्यता तक सीमित नहीं है, हम सभी सरकारों से अनुरोध करते हैं कि धार्मिक या अन्य समूहों के चरमपंथियों के दमन को रोकने के लिए वे सभी को साथ लेकर चलें, आतंकवादरोधी और राज्य के कानून के मुताबिक धार्मिक पहचान पर ध्यान दिए बगैर और सरकारी तंत्र का दुरुपयोग किए बिना ऐसा करें। हम नागरिक समाज और धार्मिक नेताओं से साथ आने और आपसी सौहार्द, बहुलता का सम्मान और सहिष्णुता, और वैश्विक मानवाधिकार तथा मानव गरिमा को मान्यता दिलाने के लिए काम करने की अपील करते हैं और हम सभी सरकारों से इस तरह के स्वतंत्र प्रयासों की अनुमति और समर्थन देने की भी अपील करते हैं।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/j/drl/irf/religiousfreedom/284560.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें