rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने हेतु मंत्रिस्तरीय वार्ता

English English, العربية العربية, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
टिप्पणियां
26 जुलाई 2018

 

लॉय हेंडरसन ऑडिटोरियम
वाशिंगटन, डी.सी.

सेक्रेटरी पोम्पेयो: आप सभी को मेरा नमस्कार और यहां उपस्थित होने के लिए धन्यवाद। स्टेट डिपार्टमेंट के लिए अब तक की पहली धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने हेतु मंत्रिस्तरीय वार्ता की मेज़बानी करना एक सम्मान की बात है। यह कार्यक्रम वास्तव में इस महत्वपूर्ण स्वतंत्रता की रक्षा के लिए राष्ट्रपति ट्रम्प की अटूट प्रतिबद्धता को प्रदर्शित करता है।

मैं उप राष्ट्रपति पेंस को यहां होने के लिए धन्यवाद देना चाहता हूं। मैं उन्हें निजी तौर पर गहन आस्था वाले व्यक्ति के रूप में जानता हूं, और धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा के लिए उनका समर्पण अद्वितीय है। मैं इस महत्वपूर्ण मिशन को क्रियान्वित करने और इस अद्भुत अनूठे कार्यक्रम का संयोजन करने के लिए महान राज्य कंसास से राजदूत ब्राउनबैक और पूरी अंतर्राष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता टीम का भी धन्यवाद करना चाहता हूं।

अपनी तरह के इस पहले कार्यक्रम के रूप में, हम नहीं जानते थे कि वास्तव में क्या प्रतिक्रिया होगी। अपने आसपास देखिए। यह शानदार है। प्रतिक्रिया वास्तव में जबर्दस्त ढंग से सकारात्मक रही है। और मैं अभी यह घोषणा करना चाहता हूं कि हम इसे अगले साल फिर करेंगे। (तालियाँ बजती हैं।)

इस साल, दर्जनों मंत्री-स्तरीय प्रतिनिधियों सहित, दुनिया भर से 80 से अधिक प्रतिनिधिमंडल, आज यहां मौजूद हैं। इस उद्देश्य को अपने देश में एक प्राथमिकता बनाने के लिए धन्यवाद और हमारे साथ काम करने के लिए आपका धन्यवाद।

मेरी स्वयं की आस्था का मेरे लिए व्यक्तिगत रूप से बहुत महत्व है। एक अमेरिकी के रूप में, मुझे जो मैं मानता हूं उसे मेरी सरकार से अत्याचार या प्रतिशोध के डर के बगैर जीने के अधिकार का वरदान मिला हुआ है। मैं चाहता हूं कि हर कोई इस इस वरदान का आनंद ले। राष्ट्रपति ट्रम्प की धार्मिक स्वतंत्रता के लिए अटल प्रतिबद्धता और पहली उन्नत धार्मिक स्वतंत्रता हेतु मंत्रिस्तरीय वार्ता का आयोजन करने का निर्णय मेरी व्यक्तिगत कहानी से प्रेरित नहीं है, बल्कि इसकी जड़ें अमेरिकी गाथा में हैं।

ट्रम्प प्रशासन मानता है कि धार्मिक स्वतंत्रता एक मूलभूत अमेरिकी स्वतंत्रता है, और यह प्रशासन के शुरुआती दिनों से स्पष्ट रहा है और बेशक हमारे राष्ट्र के शुरुआती दिनों से भी।

संयुक्त राज्य अमेरिका हमारी विदेश नीति में धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाता है क्योंकि यह सिर्फ और सिर्फ अमेरिकी अधिकार नहीं है। यह संपूर्ण मानव जाति को प्रदान किया गया ईश्वर-प्रदत्त सार्वभौमिक अधिकार है। सत्तर साल पहले, मानव अधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा ने इसकी पुष्टि की थी जब 48 देशों ने घोषणा की थी कि “हर किसी को विचार, अंतःकरण, और धर्म की स्वतंत्रता का अधिकार है।”

उप राष्ट्रपति थोड़ी देर में इसके बारे में और अधिक बोलेंगे, लेकिन इसमें यह दोहराव शामिल है: सभी आस्थाओं के लाखों लोग रोज़ाना पीड़ित हो रहे हैं। लेकिन ट्रम्प प्रशासन चुप नहीं बैठेगा। स्टेट डिपार्टमेंट के भाग के रूप में – इसका हिस्सा, स्टेट डिपार्टमेंट धार्मिक स्वतंत्रता को सुनिश्चित करने के लिए अच्छे कार्य करना जारी रखेगा जो कि इसने पहले ही कई सालों से किए हैं।

अभी, हम पैस्टर एंड्रू ब्रनसन को घर वापस लाने के लिए टर्की के साथ बातचीत जारी रखे हुए हैं। इस बारे में भी उप राष्ट्रपति और बात करेंगे।

मुझे यह घोषणा करने में प्रसन्नता है कि विभाग ईराक के निनेवेह में बारूदी सुरंगें हटाने के अतिरिक्त प्रयासों को अतिरिक्त $17 मिलियन प्रदान कर रहा है। (तालियाँ बजती हैं।) यह उस समूचे देश में हमारे द्वारा प्रदान किए गए 90 मिलियन के अलावा राशि है। यह अतिरिक्त वित्तपोषण हमें ISIS के जातीय नरसंहार का शिकार बने धार्मिक अल्पसंख्यकों की विशाल जनसंख्या वाले इलाकों से बारूदी सुरंगों की सफाई में और अधिक प्रगति करने में मदद करेगा।

उसी सुर में, मैं धार्मिक अत्याचार के शिकार उन लोगों का सम्मान करना चाहता हूं जो आज हमारे साथ हैं। हम आपके व्यक्तिगत साहस, गहन दृढ़ विश्वास का सम्मान करते हैं और यह कि आपने आप और आपके परिवार पर की गई भारी हिंसा के बावजूद ऐसा किया है। भगवान आपका भला करे। (तालियाँ बजती हैं।)

जब धार्मिक स्वतंत्रता फलती-फूलती है, तभी कोई देश फलता-फूलता है। आज एक उदाहरण के रूप में, हम उन कदमों की सराहना करते हैं जो उज़्बेकिस्तान अधिक स्वतंत्र समाज की तरफ बढ़ा रहा है। हमें पूरा विश्वास है कि पहले से अधिक धार्मिक स्वतंत्रता का एक स्तर का उनके देश, उनके समाज और साथ ही साथ इलाके पर एक सकारात्मक बहुगामी प्रभाव होगा।

हमने ऐसा कई खाड़ी देशों में भी देखा है। चूंकि यह इलाका एक आर्थिक केंद्र बन गया है और इसने विभिन्न आस्थाओं वाले विदेशियों को आकर्षित किया है, कई सरकारों ने महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। वे चर्चों और मंदिरों जैसे पूजा के स्थानों के निर्माण की अनुमति देने में काफी उदार रहे हैं, इसलिए यह अंतर्राष्ट्रीय निवेश के लिए और अधिक आकर्षक गंतव्य बन गया है।

स्टेट डिपार्टमेंट ने कुछ और चीज़ें की हैं और ऐसा ही संयुक्त राज्य अमेरिका की सरकार ने किया है। जो लोग धार्मिक स्वंतत्रता के मुद्दों पर अग्रिम पंक्ति में काम कर रहे हैं उन्हें दुनिया भर से संयुक्त राज्य अमेरिका में लाने के लिए हमने एक नया इंटरनेशनल विजिटर लीडरशिप प्रोग्राम बनाया है। यह एक दस दिवसीय परियोजना है और यह धार्मिक बहुलवाद को बढ़ावा देने और धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा पर केंद्रित होगी।

दूसरे, अक्टूबर में, स्टेट डिपार्टमेंट उन अभिनव सार्वजनिक-निजी साझेदारियों को सहयोग देने और मापने के लिए बोल्डलाइन नामक एक तीन-दिवसीय उत्प्रेरक कार्यशाला की मेज़बानी करेगा जो दुनिया भर में धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देती हैं और उसकी रक्षा करती हैं।

तीसरे, हम आज किए गए महत्वपूर्ण कार्य को दुनिया भर में जारी रखने की आशा करते हैं। यही कारण है कि हम विभिन्न देशों की ओर से प्रतिबद्धताओं को अंतिम रूप दे रहे हैं जो कि धार्मिक स्वतंत्रता के विषय को लेकर क्षेत्रीय अनुवर्ती सम्मेलनों की मेज़बानी करने के इच्छुक हैं। मैं प्रत्येक देश का धन्यवाद करना चाहता हूं जो हमें उसकी मेज़बानी करने में मदद के लिए तैयार है।

और अंत में, और शायद सर्वाधिक महत्वपूर्ण रूप से, आज बाद में हम पोटोमैक घोषणा और पोटोमैक कार्रवाई योजना जारी करेंगे। ये दस्तावेज़ धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने और रक्षा करने संबंधी संयुक्त राज्य अमेरिका की अटल प्रतिबद्धता की पुन: पुष्टि करते हैं। वे ऐसे ठोस तरीकों की सिफारिश करते हैं जो अंतर्राष्ट्रीय समुदाय और सरकारें धार्मिक स्वतंत्रता तथा कमज़ोर धार्मिक समुदायों की रक्षा करने के लिए और अधिक काम कर सकती हैं।

और विशिष्ट देशों – बर्मा, चीन, और ईरान पर – और आज हमारे विश्व में धार्मिक स्वतंत्रता के लिए कुछ बड़ी चुनौतियों का प्रतिनिधित्व करने वाले चुनिंदा मुद्दों पर हम कई बयान भी जारी करेंगे।

मैं हमारे प्रमुख वक्ता परिचय देकर समापन करने के लिए बहुत उत्साहित हूं। जन सेवा के अपने पूरे कार्यकाल में, उन्होंने बेआवाज़ों की आवाज़ बनने को एक प्राथमिकता बना दिया है। धार्मिक स्वतंत्रता के लिए उनकी प्रतिबद्धता सभी आस्थाओं के पुरुषों और महिलाओं को आश्वस्त करती है कि उनके पास एक महान दोस्त – और एक चैम्पियन है – उप राष्ट्रपति माइक पेंस के रूप में। कृपया उनके स्वागत में मेरे साथ शामिल हों। (तालियाँ बजती हैं।)


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/07/284550.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें