rss

वित्त विभाग ने लश्कर-ए तैयबा के वित्तीय सहायकों के विरुद्ध प्रतिबंध जारी किए

English English, اردو اردو

प्रेस विज्ञप्ति
31 जुलाई 2018

 

घोषणाओं के परिणामस्वरूप आतंकवादियों द्वारा धन उगाहने और सहायता नेटवर्क पर दबाव पड़ना और इनका बेनकाब होना जारी है

वॉशिंगटन – आज, अमेरिकी वित्त विभाग के विदेशी सम्पत्ति कार्यालय (OFAC) ने कार्यकारी आदेश (E.O.) संख्या 13224 के अनुसार विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी (SDGTs) के रूप में समूह के दो वित्तीय सहायकों, हमीद उल हसन (हसन) और अब्दुल जब्बार (जब्बार) को आतंकवादी घोषित करके लश्कर-ए-तैयबा (LeT) के धन उगाहने और सहायता नेटवर्कों को नियंत्रित करने के लिए आज कार्रवाई की।  OFAC पाकिस्तान में स्थित एक आतंकवाद संगठन –  लश्कर-ए-तैयबा के लिए और उसकी ओर से काम करने वाले हसन और जब्बार को आतंकवादी घोषित कर रहा है।

“लश्कर-ए-तैयबा के ये वित्तीय सहायक इस आतंकवादी समूह की सहायता करने के लिए धन एकत्र करने, इसका प्रेषण और वितरण करने के लिए ज़िम्मेदार हैं और आतंकवादियों को वेतन प्रदान करते हैं,” सिगल मंडेलकर, आतंकवाद और वित्तीय खुफिया जानकारी विभाग के अंडर सेक्रेटरी सिगल मंडेलकर ने कहा।  “वित्त विभाग की घोषणाओं का प्रयोजन न केवल लश्कर-ए तैयबा के वित्तीय नेटवर्क को बेनकाब करना और इसे बंद करना है, बल्कि हिंसक आतंकवादी हमले करने के लिए धन उगाहने के लिए इसकी योग्यता को भी कम करना है।”

अमेरिकी अधिकार क्षेत्र के अधीन हसन और जब्बार की सारी संपत्ति और संपत्ति में हितों को अब अवरुद्ध कर दिया गया है और अमेरिकी व्यक्तियों को आमतौर पर उससे किसी लेन-देन में संलग्न होने की मनाही है।

हमीद उल हसन

हसन LeT का वित्तीय सहायक है।  2016 के अंतिम समय की स्थिति के अनुसार, हसन ने पैसा एकत्र करने और इसे सीरिया में भेजने के लिए फलाह-ए इंसानियत फाउंडेशन जो LeT का एक उपनाम है, के साथ काम किया।  इसके अलावा, 2016 के आरंभ में, हसन ने LeT की ओर से पाकिस्तान में पैसा भेजने के लिए अपने भाई मुहम्मद इजाज़ सफराश और खालिद वालिद के साथ काम किया।  OFAC ने पहले सफराश और वलीद को LeT के साथ उनके संबंध के कारण क्रमश: मार्च, 2016 और सितंबर, 2012 में SDGTs घोषित किया।  इसके अतिरिक्त, हसन का एक सक्रिय ट्विटर खाता है जो उसकी आज़ाद कश्मीर में जमात-उद दावा (LeT का एक उपनाम) के अगुआ के रूप में उसकी पहचान कराता है।

अब्दुल जब्बार

जब्बार LeT का वित्तीय सहायक है और आतंकवादी समूह के लिए वेतन का वितरण करता है।  जब्बार ने लगभग 2000 से LeT के वित्त विभाग में काम किया है।  इसके अतिरिक्त, 2016 के मध्यकाल की स्थिति के अनुसार, जब्बार ने फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन, जो LeT का एक उपनाम है, की ओर से धन का वितरण किया।

दिसंबर, 2001 में, डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने प्रवास और राष्ट्रीयता अधिनियम की धारा 219, यथा संशोधित और कार्यकारी आदेश 13224 के अनुसार SDGT के रूप में LeT के विदेशी आतंकवादी संगठन होने की घोषणा की।  LeT को मई, 2005 में UN सुरक्षा परिषद की 1267/1989 प्रतिबंध सूची में भी जोड़ा गया।

जमात-उद-दावा को अप्रैल, 2006 में E.O. 13224 के अनुसार LeT के उपनाम के रूप में घोषित किया गया और दिसंबर, 2008 में UN सुरक्षा परिषद की 1267/1989 प्रतिबंध सूची में जोड़ा गया।  नवंबर, 2010 में, डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट ने उपनाम फलाह-ए इसानियत फाउंडेशन को सम्मिलित करने के लिए LeT की अपनी घोषणाओं में संशोधन किया।  और मार्च, 2012 में, UN ने फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को LeT का एक मोर्चा मानने के लिए अपनी प्रतिबंध सूची में संशोधन किया।

आज घोषित किए गए व्यक्तियों के संबंध में पहचान कराने वाली जानकारी


मूल सामग्री देखें: https://home.treasury.gov/news/press-releases/sm448
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें