rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ कोरिया पर एक बैठक में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के सदस्यों के साथ

Español Español, English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
टिप्पणियां
27 सितम्बर 2018
संयुक्त राष्ट्र
न्यूयार्क, न्यूयार्क

 

सेक्रेटरी पोम्पेयो:  नमस्कार।  सुरक्षा परिषद की 8363वीं बैठक आयोजित की जा रही है।

इस बैठक की अनंतिम कार्यसूची परमाणु अप्रसार/जनतांत्रिक लोक कोरिया गणराज्य है।  कार्यसूची अगीकार कर ली गई है।

नियम 37 के अनुसरण में, मैं जापान और कोरिया गणराज्य के प्रतिनिधियों को बैठक में भाग लेने के लिए आमंत्रित करता हूँ।  ऐसा निर्णय लिया गया है।

मुझे आज यहाँ एकत्रित गणमान्य मंत्रियों और प्रतिनिधियों का स्वागत करने पर गर्व है।  सुरक्षा परिषद अब कार्यसूची की मद संख्या दो पर विचार-विमर्श आरंभ करेगी।

मैं अब संयुक्त राज्य अमेरिका के सेक्रेटरी ऑफ स्टेट के रूप में वक्तव्य दूँगा।

पिछली एक चौथाई शताब्दि से अधिक समय बार-बार संयुक्त राष्ट्र ने यह स्पष्ट किया है: विश्व एक परमाणु हथियारों से लैस उत्तरी कोरिया को स्वीकार नहीं कर सकता।  यह केवल अमेरिका की स्थिति नहीं है।  यह विश्व की स्थिति है।

उत्तरी कोरिया के परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल को रोकने के पिछले राजनयिक प्रयास असफल रहे थे।  लेकिन अब हम एक नए दिन की भोर में हैं।  पदभार ग्रहण करने के बाद से, राष्ट्रपति ट्रम्प ने अंतरराष्ट्रीय दबाव अभियान का नेतृत्व किया है जिसके परिणामस्वरूप दशकों में पहली महत्वपूर्ण कूटनीतिक सफलता प्राप्त हुई है।

राष्ट्रपति ट्रम्प और चेयरमैन किम की ऐतिहासिक शिखर-वार्ता के दौरान, चेयरमैन किम ने कोरियाई प्रायद्वीप के पूर्ण परमाणु निशस्त्रीकरण के लिए कार्य करने के संबंध में वचनबद्धता प्रकट की। दोनों नेताओं की इस संबंध में साझा निजी समझ है कि अमेरिका-DPRK रूपांतरण में क्या अवश्य किया जाना चाहिए।

अमेरिका सिंगापुर में दिए गए वचनों को कार्यरूप देने के लिए उत्तरी कोरिया से संवाद करता रहता है।  कल मेरी विदेश मंत्री रि योंग हो के साथ इस पर चर्चा करने के  लिए बहुत सकारात्मक बैठक हुई कि हम सिंगापुर संयुक्त वक्तव्य में समस्त चार वचनबद्धताओं के संबंध में कैसे आगे बढ़ सकते हैं।  हमने राष्ट्रपति ट्रम्प और चेयरमैन किम जोंग-उन के बीच दूसरी शिखर-वार्ता के बारे में भी चर्चा की।

हमें यह कतई नहीं भूलना चाहिए कि कौन-सी चीज़ हमें इतनी दूर तक ले आई है: ऐतिहासिक अंतरराष्ट्रीय दबाव अभियान जो इस परिषद ने इसके द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के माध्यम से संभव बनाया है।  जब तक DPRK का अंतिम परमाणु निशस्त्रीकरण नहीं हो जाता और इसका पूरी तरह से सत्यापन नहीं हो जाता, तब तक यह हम सभी की गंभीर सामूहिक ज़िम्मेदारी है कि हम उत्तरी कोरिया से संबंधित UN सुरक्षा परिषद के सभी संकल्पों को लागू करें।

राष्ट्रपति ट्रम्प ने यह पर्याप्त रूप से स्पष्ट कर दिया है कि यदि चेयरमैन किम अपने वचनों को निभाते हैं, तो उत्तरी कोरिया और इसके लोगों के लिए बहुत उज्ज्वल भविष्य होगा और अमेरिका उस उज्ज्वल भविष्य को संभव बनाने में अग्रणी होगा।

हम यह देखना चाहते हैं कि वह समय जल्द से जल्द आए।  लेकिन शांति और उज्ज्वल भविष्य का रास्ता केवल कूटनीति और परमाणु निशस्त्रीकरण से होकर जाता है।  इसका यह अर्थ है कि उत्तरी कोरिया द्वारा चुना गया कोई अन्य मार्ग अनिवार्य रूप से सदैव बढ़ते हुए अलगाव और दबाव का कारण बनेगा।

संयुक्त राष्ट्र के सदस्यों के लिए यह अनिवार्य है कि वे इसे भली-भाँति जान लें।  UN सुरक्षा परिषद के प्रतिबंध तब तक कठोरता से और निरंतर लागू रहने चाहिए जब तक हमें पूर्ण, अंतिम, सत्यापित परमाणु निशस्त्रीकरण की स्थिति प्राप्त न हो जाए।  इस परिषद के सदस्यों को उस प्रयास के संबंध में उदाहरण स्थापित करना होगा और हम सभी को एक-दूसरे को जवाबदेह ठहराना होगा।

विशेष रूप से, हम सभी को संकल्प 2397 को लागू करने के लिए जवाबदेह होना होगा जिसने उत्तरी कोरिया को परिष्कृत पेट्रोलियम के आयातों पर वार्षिक ऊपरी सीमा में कमी की थी।  अमेरिका ने आकलन किया है – और हम निश्चित रूप से कह सकते हैं – कि 500,000 बैरल की उच्चतम सीमा का इस वर्ष उल्लंघन किया गया है।

हम जहाज़-से-जहाज़ हस्तांतरणों का उपयोग करते हुए अतिरिक्त परिष्कृत पेट्रोलियम का निरंतर अवैध आयात देख रहे हैं जो UN संकल्प के अंतर्गत स्पष्ट रूप से निषिद्ध हैं।  UN सुरक्षा परिषद के सदस्यों के रूप में, हमें इन जहाज़ों के कप्तानों, उनके मालिकों, और इन हस्तांतरणों में संलग्न किसी अन्य व्यक्ति को यह सूचित करना होगा कि हम उन्हें देख रहे हैं और उन्हें अपनी अवैध गतिविधि बंद करनी होगी।

हम सभी को उत्तरी कोरिया के अवैध कोयला निर्यातों में कमी करने के लिए जवाबदेह होना होगा जो ऐसा धन प्रदान करते हैं जो सीधा WMD कार्यक्रमों में जाता है।

और हमें हमारी सीमाओं के भीतर उत्तरी कोरिया के अनुमत श्रमिकों की संख्या को सीमित करने के लिए भी जवाबदेह होना होगा।  संयुक्त राज्य हालिया रिपोर्टों से चिंतित है कि  सुरक्षा परिषद के सदस्यों सहित सदस्य राज्य उत्तरी कोरिया के श्रमिकों को नियुक्त कर रहे हैं।  यह सुरक्षा परिषद के उन संकल्पों के अर्थ और भाव का उल्लंघन करता है जिन्हें बरकरार रखने के लिए हम सभी सहमत हुए हैं।

और जबकि प्रतिबंध उस संपूर्ण पहल का भाग बने हुए हैं जिस पर हम कोरिया प्रायद्वीप को परमाणु हथियारों से मुक्त कराने के लिए कार्य कर रहे हैं, तब मैं सकारात्मक रूप से अपनी बात समाप्त करना चाहता हूँ।  हम भली-भाँति कूटनीतिक प्रक्रिया में हैं और हमें आशा है – वास्तव में – हम इसकी सफल समाप्ति  चाहते हैं।  मुझे प्रसन्नता है कि राष्ट्रपति ट्रम्प और चेयरमैन किम के बीच हाल के वार्तालाप के आधार पर, राष्ट्रपति ने मुझे चेयरमैन किम से मिलने और उस प्रक्रिया को तेज़ करने के लिए अगले महीने प्योंगयांग की यात्रा करने का निर्देश दिया है।

मैं यह दोहराना चाहता हूँ कि उत्तरी कोरिया के लिए उस स्थिति में भविष्य बहुत उज्ज्वल हो सकता है यदि यह अंतिम पूर्ण रूप से सत्यापित परमाणु निशस्त्रीकरण पर अपने वचन को निभाता है।  इससे U.S.-DPRK संबंधों का सकारात्मक रूपांतरण, उत्तरी कोरियाई लोगों के लिए अधिक समृद्धि और चिरस्थायी शांति का मार्ग प्रशस्त हो सकेगा।

मुक्त और खुले भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए हमारी संकल्पना में, राष्ट्र सुदृढ़, संप्रभु, संबंद्ध, समृद्ध और शांति की स्थिति में है।  लेकिन क्षेत्र के लिए वह संकल्पना तब तक कभी पूर्ण नहीं होगी यदि हम कोरियाई प्रायद्वीप में ऐसा रूपांतरण लाने में विफल रहते हैं।  कोरियाई लोग, क्षेत्र और विश्व भविष्य के पूर्ण अवसर का तब तक कभी लाभ नहीं उठा सकेगा यदि हम शांति के लिए इस अभूतपूर्व कूटनीतिक पहल का उपयोग न करें।

मैंने अपने वक्तव्य के आरंभ में कहा कि हम उत्तरी कोरिया के साथ विश्व के संबंध में एक नए दिन की भोर में हैं।  हम अभी तक यह नहीं जानते कि वह दिन क्या लेकर आएगा, लेकिन हम आशान्वित हैं कि कूटनीति में मौजूदा सफलता से उत्तरी कोरिया का भविष्य उज्ज्वल होगा और हम सभी के लिए अधिक सुरक्षित विश्व संभव हो सकेगा।

धन्यवाद, और मैं वार्ताओं की राह देख रहा हूँ।

अब मैं कुवैत के उप प्रधानमंत्री और मंत्री और विदेश मंत्री को मंच सौंप रहा हूँ।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/09/286265.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें