rss

सेक्रेटरी पोम्पेयो द्वारा वक्तव्य मानवाधिकार दिवस

Facebooktwittergoogle_plusmail
English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए
10 दिसम्बर 2018

 

 

सत्तर साल पहले, संयुक्त राष्ट्र परिषद ने मानवाधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा को अपनाया था।  एक विश्व युद्ध से उभरते समय, जिसने अपनी क्रूरता से मानवता को हिला दिया था, दुनिया के स्वायत्त देश उन अधिकारों को निर्दिष्ट करने के लिए एकजुट हुए, जो सभी लोगों को जन्मजात प्रदत्त हैं, और उनके बाद से उनके बढ़ावे और संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध हैं।

घोषणा के बुनियादी सिद्धांत आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं जितने कि वे सत्तर साल पहले थे।   आज भी, सरकारें धार्मिक या आस्था और व्यक्त करने संबंधी स्वतंत्रता का हनन करती हैं।   मुक्त, निष्पक्ष और विशुद्ध चुनावों में भाग लेने के नागरिकों के अधिकार अनिश्चित बने हुए हैं।   प्राधिकारियों का कैदियों पर अत्याचार और उनसे अमानवीय व्यवहार करना जारी है।   सभी व्यक्तियों के अविच्छेद्य अधिकारों की वैश्विक मान्यता को लगातार प्रोत्साहित किया जाना और उनकी पुन: पुष्टि की जानी ज़रूरी है।

संयुक्त राज्य अमेरिका की विदेश नीति इस समझ में निहित है कि सरकारें जो व्यक्तिगत अधिकारों और मौलिक स्वतंत्रता का सम्मान करती हैं वे समृद्धि, स्थिरता और शांति के लिए सबसे अच्छे वाहक हैं।  इस अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस पर, संयुक्त राज्य अमेरिका अपने देश और दुनिया भर में मानवीय स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए अपनी प्रतिबद्धता पर बल देता है।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2018/12/287970.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें