rss

अमेरिकी विदेश विभाग और यूएसएड के वास्ते वित्तीय वर्ष 2020 के लिए राष्ट्रपति की बजट मांग पर उप विदेश मंत्री जॉन जे. सुलिवन, यूएसएड प्रशासक मार्क ग्रीन, और विशेषज्ञ

English English, اردو اردو, Français Français, Español Español, Português Português, Русский Русский

तत्काल जारी करने के लिए
मार्च 11, 2019
ऑन-द-रिकॉर्ड ब्रीफिंग
वाशिंगटन, डी.सी.

 

 

श्री पैलाडिनो:  धन्यवाद। विदेश विभाग और अमेरिकी अंतरराष्ट्रीय विकास एजेंसी (यूएसएड), दोनों के वास्ते राष्ट्रपति की वित्तीय वर्ष 2020 के लिए बजट मांग के लोकार्पण के मौके पर आज यहां उपस्थित होने के लिए आप सभी का धन्यवाद। आरंभिक टिप्पणी के लिए मैं सर्वप्रथम उप विदेश मंत्री जॉन जे. सुलिवन और यूएसएड के प्रशासक मार्क ग्रीन को आमंत्रित करना चाहूंगा. आखिर में, हम आपके कतिपय विस्तृत प्रश्नों के व्यापक जवाब के लिए इस विषय के कुछ जानकारों को आमंत्रित करेंगे.

धन्यवाद। उप विदेश मंत्री सुलिवन।

उप विदेश मंत्री सुलिवन:  धन्यवाद, रॉबर्ट, परिचय कराने के लिए। विदेश विभाग और यूएसएड के वास्ते वित्तीय वर्ष, 2020 की बजट मांग को प्रस्तुत करने यहां मेरे साथ उपस्थित होने के लिए मैं अपने मित्र और सहकर्मी यूएसएड के प्रशासक राजदूत मार्क ग्रीन का धन्यवाद करना चाहता हूं।

इससे पहले कि हम आरंभ करें, हम इथियोपियन एयरलाइंस की उड़ान संख्या 302 की दुखद दुर्घटना में मृत लोगों के परिवारों और प्रियजनों के प्रति हम विदेश विभाग की ओर से अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करना चाहते हैं। उस फ्लाइट में अनेक अमेरिकी नागरिक भी थे, संयुक्तराष्ट्र और संयुक्तराष्ट्र से जुड़े संगठनों में काम करने वाले लोग, हमारे मित्र, सहकर्मी और साझीदार। यह वास्तव में हमारे लिए अत्यंत उदासी और दुख का वक्त है। मृतकों के परिजनों को इस मुश्किल घड़ी में हर तरह की उचित कौंसुलर सहायता उपलब्ध कराने के लिए अदीस, नैरोबी एवं वाशिंगटन में हमारे सहकर्मी पूरा प्रयास कर रहे हैं।

जहां तक आज के विषय की बात है, विदेश विभाग और यूएसएड के वास्ते राष्ट्रपति की वित्तीय वर्ष 2020 के लिए बजट मांग 40 अरब डॉलर की है। इस स्तर की फंडिंग के सहारे हम स्वदेश और विदेशों में अपने नागरिकों की रक्षा करेंगे, अमेरिकी समृद्धि और मूल्यों को बढ़ाएंगे, और विदेशों में अपने मित्र राष्ट्रों और साझीदारों की मदद करेंगे।

आज अतिमहत्वपूर्ण विदेश नीति और अपने देश के समक्ष मौजूद राष्ट्रीय सुरक्षा चुनौतियों को लेकर विदेश विभाग और यूएसएड सबसे आगे तैनात हैं। इन दोनों ही एजेंसियों के कर्मचारी अमेरिकी स्वतंत्रता की रक्षा करने; चीन और रूस को एक नियमबद्ध अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था के तहत उत्तरदायी ठहराने; अपने देश में लोकतंत्र की शांतिपूर्ण बहाली के लिए काम कर रहे वेनेज़ुएला के लोगों की मदद करने; संक्रामक बीमारियों के प्रसार को हमारी सीमाओं तक पहुंचने से रोकने; विभिन्न देशों को आत्मनिर्भर आर्थिक और सुरक्षा साझीदार बनने में मदद करने; तथा ऐसे अन्य कार्यों के लिए रोज़ कड़ी मेहनत कर रहे हैं।

इन सब चुनौतियों के रहते, हमें अपने सहकर्मियों – अपनी पूरी टीम – को सुरक्षित, मुस्तैद, और पल भर की नोटिस पर किसी भी नई चुनौती का सामना करने के लिए तैयार रखने की ज़रूरत है। अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए निरंतर सतर्कता और पर्याप्त संसाधनों की दरकार होती है।

वित्तीय वर्ष 2020 के लिए हमारी बजट मांग में विदेशों में कार्यरत हमारे कूटनीतिक और विदेशी सहायता कर्मचारियों की सुरक्षा को प्रमुखता दी गई है। यह बजट मिशनकर्मियों के प्रमुख को उभरते खतरों से बचाता है और निरापद, सुरक्षित एवं क्रियाशील सुविधाओं में निवेश करता है। यह विदेश विभाग और यूएसएड, दोनों को कूटनीतिक और विकास कार्यों में शामिल अपने वैश्विक श्रमबल की नियुक्ति, उन्हें बनाए रखने और प्रशिक्षित करने में सक्षम बनाएगी। हमारी एजेंसियां 21वीं सदी के लिए नई क्षमताएं विकसित कर रही हैं।

अमेरिकी जनता के लिए इतने लक्ष्यों पर काम करने के मद्देनज़र विदेश विभाग और यूएसएड को कूटनीतिक और विदेशी सहायता कार्यक्रम, दोनों के लिए ही संसाधनों की आवश्यकता होती है। वित्तीय वर्ष 2020 की बजट मांग में इन संसाधनों का ध्यान रखा गया है और यह अमेरिकी विदेश नीति को भविष्य के लिए मज़बूत करने पर केंद्रित है। हमारी मांग इस सिद्धांत पर आधारित है कि करदाताओं के धन का बुद्धिमता से इस्तेमाल हो। हम अमेरिकी जनता के लगाए धन का अधिकतम क्षमता से उपयोग करना, और उनके लिए असाधारण परिणाम सुनिश्चित करना चाहते हैं।

राष्ट्रपति ट्रंप ने स्पष्ट किया है कि विदेशी सहायता अमेरिका के राष्ट्रीय हित में काम आने चाहिए और इससे उन देशों की मदद होनी चाहिए जो हमारे विदेश नीति लक्ष्यों को आगे बढ़ाने में मददगार होते हैं। इस बजट में इज़रायल, जॉर्डन, मिस्र और कोलंबिया समेत अमेरिका के प्रमुख मित्र राष्ट्रों को महत्वपूर्ण समर्थन को बनाए रखा गया है। सामरिक फंडिंग और कार्यक्रमों के ज़रिए, यह बजट अमेरिका को जीत के लिए तैयार करता है। इसका मतलब है हमारे राष्ट्र का दुनिया के उन क्षेत्रों से पूरी संबद्धता, जिन पर कि हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा और भविष्य की समृद्धि निर्भर करती है।

हाल के वर्षों में, हमने चीन को हिंद-प्रशांत क्षेत्र और उसके आगे अपना प्रभाव फैलाने के लिए अपनी ताक़त का आक्रामक इस्तेमाल करते देखा है। राष्ट्रपति ट्रंप के नेतृत्व में, अमेरिका ने चीन की आक्रामक कार्रवाइयों के खिलाफ निर्णायक कदम उठाए हैं। हमारा मानना है कि भविष्य में अमेरिका की सुरक्षा, समृद्धि और वैश्विक नेतृत्व एक मुक्त, खुले और सुरक्षित हिंद-प्रशांत क्षेत्र को बरकरार रखने पर निर्भर है। हिंद-प्रशांत रणनीति को आगे बढ़ाने के वास्ते बजट मांग में इस क्षेत्र के लिए अमेरिका की विदेशी सहायता और कूटनीतिक गतिविधियों के संसाधनों को लगभग दोगुना कर दिया गया है।

बजट मांग हमारे इस अहसास से भी निर्देशित है कि रूस का खतरा बाह्य या सैनिक खतरे से आगे निकल चुका है और अब इसमें अमेरिका और पश्चिमी जगत के भीतर विभिन्न प्रक्रियाओं को प्रभावित करने वाले अभियान भी शामिल हैं। यह बजट यूरोप, यूरेशिया और मध्य एशिया में रूस के घातक प्रभाव का मुकाबला करने को प्राथमिकता देता है।

अभी जब हम चर्चा कर रहे हैं, वेनेज़ुएला के लोग पद छोड़ने से इनकार कर रहे एक अत्याचारी और भ्रष्ट नेता के खिलाफ अपनी आज़ादी के लिए संघर्ष जारी रखे हुए हैं। वित्तीय वर्ष 2020 की बजट मांग में वेनेज़ुएला में लोकतंत्र के समर्थन के लिए फंडिंग की व्यवस्था है और इसमें लोकतांत्रिक संक्रमण काल के लिए, हस्तांतरण प्राधिकार हेतु 50 मिलियन डॉलर समेत, और धन उपलब्ध कराने की गुंजाइश रखी गई है।

पिछले साल भर के दौरान, अमेरिका मध्य-पूर्व और अन्य क्षेत्रों में उत्पीड़ित धार्मिक एवं जातीय अल्पसंख्यकों की सहायता के वैश्विक प्रयासों में आगे रहा है। गत वर्ष के उत्तरार्द्ध में इराक़ की यात्रा के दौरान मैंने स्वयं इस तरह की सहायता के सकारात्मक प्रभाव का अनुभव किया और देखा कि इसने उत्पीड़ित समुदायों के लिए कितना कुछ किया है। स्थानीय संगठनों और सामुदायिक नेताओं के सहयोग से कार्यान्वित हमारे सहायता कार्यक्रम, परिवारों को सुरक्षित रखने में मदद के लिए, युद्ध के विस्फोटक अवशेषों को हटाने, स्वास्थ एवं शिक्षा जैसी सुविधाओं को बहाल करने और आर्थिक अवसरों में इजाफा करने जैसे अनेक कार्यों को आगे बढ़ाते हैं। लेकिन अभी और अधिक काम किए जाने की ज़रूरत है।

वित्तीय वर्ष 2020 के बजट में धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यकों के सशक्तिकरण, जिसमें विभिन्न ज़रूरतमंद समुदायों के लिए नए अवसर पैदा करने हेतु धन की मांग सम्मिलित है, के लिए हमारे प्रयासों में वृद्धि, और दुनिया में धार्मिक आज़ादी को बढ़ाने में अमेरिका की अग्रणी भूमिका का समर्थन किया गया है।

साथ ही, वित्तीय वर्ष 2020 की बजट मांग में एक डिप्लोमेटिक प्रोगेस फंड की भी व्यवस्था है ताकि हम कूटनीतिक और शांति प्रयासों से संबंधित नए अवसरों और उभरती ईरान-रोधी ज़रूरतों के मद्देनज़र प्रभावी कदम उठा सकें।

आज हमारे समक्ष मौजूद कूटनीतिक चुनौतियां मीडिया और प्रौद्योगिकी में तीव्र और निरंतर प्रगति के कारण, खास तौर पर मुश्किल हैं। हमारे मानव संसाधनों और संगठनात्मक ढांचों को इन चुनौतियों के अनुरूप निरंतर विकसित होना पड़ेगा। वित्तीय वर्ष 2020 का बजट विदेश विभाग और यूएसएड के मौजूदा श्रमबल स्तर के लिए पूरा धन उपलब्ध कराते हुए हमें उभरती नीतिगत चुनौतियों का सामना करने में सक्षम बनाता है।

जिस सुरक्षा और बचाव को हम प्राथमिकता देते हैं उसमें भौतिक सुविधाओं से आगे नेटवर्क और डेटा भी शामिल हैं। बजट मांग में विदेश विभाग और यूएसएड की आईटी प्रणालियों को सुदृढ़ करने और साइबर सुरक्षा को बढ़ाने पर ज़ोर दिया गया है।

और, जहां तक अमेरिकी होमलैंड पर खतरे की बात है, इस प्रशासन के लिए अमेरिकी जनता की सुरक्षा के वास्ते हमारी सीमाओं को सुरक्षित रखने के प्रयासों जितना महत्वपूर्ण शायद ही कुछ और होगा। विदेश विभाग और यूएसएड के लिए बजट की मांग में वीज़ा जांच व्यवस्था को मज़बूत करने; अंतरराष्ट्रीय आपराधिक गिरोहों द्वारा पश्चिमी गोलार्द्ध से ड्रग्स, धन, हथियार एवं मानव तस्करी में इस्तेमाल अवैध रास्तों को बंद करने; तथा अवैध आप्रवास को हतोत्साहित करने हेतु सुशासन का विस्तार करने और स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा देने जैसे कदम शामिल हैं, जो अमेरिकी सीमा सुरक्षा को मज़बूत बनाएंगे।

वित्तीय वर्ष 2020 की हमारी बजट मांग में संक्रामक रोगों को रोकने, उन्हें चिन्हित करने और भविष्य के किसी भी संक्रामक प्रकोप का सामना करने, तथा महामारियों को रोकने की क्षमता को मजबूत करने के लिए धन की व्यवस्था की गई है। इन प्रयासों से स्वास्थ्य सहायता मामलों में विश्व के अग्रणी देश के रूप में हमारा स्थान सुरक्षित रहेगा। इस बजट के ज़रिए अमेरिका वैश्विक एचआईवी/एड्स सहायता प्रयासों में अकेला शीर्षस्थ दाता राष्ट्र बना रहेगा।

वित्तीय वर्ष 2020 की बजट मांग में कई अन्य अहम नए प्रावधानों से वैश्विक विकास में निजी सेक्टर का योगदान बढ़ेगा, हमारे मानवीय सहायता कार्यक्रमों की क्षमता बढ़ेगी, और सहभागी देशों की आत्मनिर्भरता की राह पर प्रगति में बढ़ावा मिलेगा। कुछ ही देर में मेरे सहकर्मी यूएसएड के प्रशासक राजदूत मार्क ग्रीन 2020 की बजट मांग के इन महत्वपूर्ण बिंदुओं पर चर्चा करेंगे।

इन तमाम प्रयासों के ज़रिए हमारा बजट अमेरिकी हितों को बढ़ावा देता है, साथ ही यह दुनिया के लिए आज़ादी के प्रकाशस्तंभ की हमारे देश की विरासत को कायम रखेगा। वित्तीय वर्ष 2020 के लिए राष्ट्रपति की बजट मांग हमारी एजेंसियों और हमारे देश को सफलता की राह पर खड़ा करती है। मुझे इसे आपके समक्ष पेश करने का मौका मिलने पर प्रसन्नता हो रही है।

एक  बार फिर, यहां उपस्थित होने के लिए आपका धन्यवाद। और, इसी के साथ मैं आगे की बात के लिए राजदूत मार्क ग्रीन को आमंत्रित करता हूं।

श्री ग्रीन:  धन्यवाद, उप विदेश मंत्री सुलिवन। मैं समझता हूं, जॉन ने यूएसएड और विदेश विभाग की साझा प्राथमिकताओं का वर्णन अच्छी तरह किया है, इसलिए मैं अपनी बात संक्षिप्त ही रखूंगा। पर मैं अपनी बात आरंभ करते हुए कल इथियोपियन एयरलाइंस की दुर्घटना में अनेक लोगों की मौत पर दुख के इजहार में उनका साथ देना चाहूंगा। जैसा कि बताया जा चुका है, हम समझते हैं कि मरने वालों में कम-से-कम आठ अमेरिकी नागरिक, तथा यूएसएड के सहयोगी संगठनों के कई सदस्य शामिल हैं। जैसा कि आप जानते हैं, मानवीय सहायता कार्यों के अनेक नायकों के प्रति मेरे मन में गहरी कृतज्ञता और प्रशंसा का भाव है, और खास कर ये रूट और ये फ्लाइट उस क्षेत्र के मानवीय सहायता और विकास संगठनों द्वारा नियमित रूप से काम में ली जाती थी। खतरों के बावजूद ये लोग ज़िंदगियां बचाने और दुनिया को थोड़ी बेहतर जगह बनाने के लिए रोज़ काम करते हैं। उन सभी लोगों के प्रति हम संवेदनाएं व्यक्त करते हैं जिन्होंने अपने प्रियजनों को खोया है, और इस मुश्किल घड़ी में हमारा चिंतन और हमारी प्रार्थनाएं उनके साथ हैं।

इसी के साथ, हम अब बजट के बोझिल विषय पर लौटते हैं।

वित्तीय रूप से रूढ़िवादी होते हुए भी, मुझे लगता है यह बजट मांग विभिन्न देशों को आत्मनिर्भरता की राह पर बढ़ाने के हमारे लक्ष्य में मददगार होगा। यह सहभागी देशों को क्षमतावान बनाने पर लक्षित है ताकि अंतत: वे विकास की चुनौतियों का अपने दम पर सामना कर सकें।

संघर्ष के दायरे को कम करने, महामारियों के प्रसार को रोकने तथा हिंसा, अस्थिरता और सुरक्षा चुनौतियों के अन्य कारकों के खिलाफ हमारे कार्यक्रमों पर केंद्रित यह बजट अमेरिकी राष्ट्रीय सुरक्षा को मज़बूत करेगा।

अमेरिकी उत्पादों के लिए बाज़ार बढ़ाने वाले निवेश में सहयोग कर, अमेरिकी व्यवसायों के लिए अवसरों की समानता सुनिश्चित कर, तथा अधिक स्थिर, अधिक टिकाऊ और अधिक लोकतांत्रिक समुदायों का साथ देते हुए यह बजट अमेरिकी आर्थिक नेतृत्व को भी मज़बूत करता है।

जैसा कि आप में से कइयों ने हाल के महीनों में देखा होगा, दुनिया के विभिन्न हिस्सों में शोषणकारी वित्तीय निवेश में भारी बढ़ोत्तरी हुई है, जिसे कि विदेशी सहायता के नाम पर आगे बढ़ाया जाता है।

यह बजट एकाधिकारवादी राष्ट्रों के वित्तीय साधनों तथा हमारे और हमारे मित्र दाता राष्ट्रों द्वारा प्रयुक्त तरीकों के बीच भारी अंतर को आक्रामकता के साथ दर्शाने के यूएसएड के प्रयासों का समर्थन करता है। हमारा तरीका सच्ची सहायता का है। यह सहभागी राष्ट्रों की उनके खुद के आत्मनिर्भर और अधिक गतिशील एवं निजी उद्यम प्रेरित भविष्य के लिए सहायता करता है।

हमारा उद्देश्य सहभागी देशों को वैकल्पिक मॉडलों, मसलन चीन और रूस से संबंधित, की असल लागतों की जानकारी पाने में मदद करना भी है। उनके तरीके में लोकतांत्रिक और मुक्त बाज़ार की प्रणालियों में विश्वास कम करना और देशों पर कर्ज का ना संभलने लायक बोझ डालना शामिल है। इससे अंतत: सामरिक संसाधनों पर इन देशों का नियंत्रण खत्म हो जाता है, और उन एकाधिकारवादी निवेशक राष्ट्रों की सैन्य आकांक्षाओं को बल मिलता है। आने वाले सप्ताहों में, हम एक फ्रेमवर्क की शुरुआत करेंगे जिसे हम क्रेमलिन के घातक प्रभावों, खास कर यूरोप, यूरेशिया और मध्य एशिया में, का मुकाबला करने में इस्तेमाल करेंगे। यह बजट इस पहल का समर्थन करता है।

इस साल आगे चलकर नए विकास वित्त निगम की स्थापना के बाद इस संबंध में हमारे प्रयास आसान हो सकेंगे।

इसे अधिक स्पष्ट भी किया जाएगा क्योंकि ट्रंप प्रशासन हिंद-प्रशांत में हमारी साझेदारियों की प्रक्रिया को तेज़ कर रहा है। मैं उप विदेश मंत्री से पूरी तरह सहमत हूं कि स्वेदश में हमारी सुरक्षा और समृद्धि स्थिर और मुक्त हिंद-प्रशांत क्षेत्र से बंधा हुआ है। विदेश विभाग और अन्य के साथ मिलकर, हमारे सामरिक निवेश पूरे हिंद-प्रशांत क्षेत्र में मुक्त, पारदर्शी और नागरिकों के प्रति उत्तरदायी शासन को बढ़ावा देंगे।

समावेशी आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के प्रशासन के प्रयास, खास कर जब यह दुनिया भर में महिलाओं की आर्थिक सहभागिता से जुड़ा हो, अपने तरीके को बिल्कुल अलग रोशनी में दिखाने का हमारा तीसरा ज़रिया बनेगा। राष्ट्रीय सुरक्षा रणनीति महिला सशक्तिकरण को आर्थिक समृद्धि और वैश्विक स्थिरता के एक अहम आयाम के रूप में चिन्हित करती है। पिछले महीने राष्ट्रपति ने सुरक्षा संबंधी एक कार्यकारी आदेश पर हस्ताक्षर किए, जो महिलाओं की अर्थव्यवस्था में पूर्ण और मुक्त भागीदारी की क्षमता को, अधिक वैश्विक शांति और समृद्धि से निर्णायक रूप से जोड़ता है।

हमने आधिकारिक रूप से वीमेंस ग्लोबल डेवलपमेंट एंड प्रोस्पेरिटी इनिशिएटिव, डब्ल्यूजीडीपी नाम से चर्चित, की भी शुरुआत की है, जिसका लक्ष्य वर्ष 2025 तक विकासशील देशों में 50 मिलियन महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करना है। यूएसएड में स्थापित डब्ल्यूजीडीपी फंड के लिए आरंभिक कोष के रूप में 50 मिलियन अमेरिकी डॉलर – वित्तीय वर्ष 2018 के लिए – उपलब्ध कराए गए। इस बजट प्रस्ताव में इस फंड में दोगुनी राशि यानि 100 मिलियन डॉलर उपलब्ध कराने की बात है, जो कि श्रमबल विकास और कौशल प्रशिक्षण, पूंजी की अधिक उपलब्धता, और सक्षमकारी माहौल को बेहतर बनाने में लगाए जाएंगे ताकि पूरी दुनिया में महिलाओं को अपनी पूर्ण आर्थिक क्षमताओं को हासिल करने के अवसर मिल सकें।

जैसा कि आपको पता है, यूएसएड ना सिर्फ विकास सहायता के क्षेत्र में हमारी अग्रणी एजेंसी है, बल्कि दुनिया भर में हमारा नाम मानवीय सहायता और आपदा राहत के लिए भी है। अमेरिका मानवीय सहायता के क्षेत्र में दुनिया के अग्रणी देश की अपनी भूमिका को निभाता रहेगा, लेकिन हम अन्य देशों से भी अपने हिस्से का योगदान करने की अपील करते हैं। हम यह सुनिश्चित करने के लिए अथक प्रयास करते रहेंगे कि सहायता कार्य यथासंभव प्रभावी ढंग से और कुशलता से किए जाएं।

नए मानवीय सहायता ब्यूरो के तहत हमारे विदेशी मानवीय सहायता कार्यक्रमों की फंडिंग का एकीकरण, विदेश विभाग और यूएसएड दोनों की क्षमताओं का इस्तेमाल कर मानवीय सहायता निवेश के बेहतर परिणाम हासिल करने की प्रशासन की प्रतिबद्धता के अनुरूप है।

मानवीय सहायता के क्षेत्र में अमेरिका की अग्रणी भूमिका की महत्ता, या स्पष्ट कहें तो सामयिकता, वेनेज़ुएला में मानव-निर्मित और शासन-संचालित संकट के संबंध में हमारे निरंतर प्रयासों से बेहतर और कहीं नहीं दिखती है। विदेश विभाग और यूएसएड वहां जारी मानवीय संकट से प्रभावित लोगों की मदद के लिए प्रतिबद्ध हैं। दोनों एजेंसियां वेनेज़ुएला में भावी लोकतांत्रिक संक्रमण काल में वहां की जनता की मदद के लिए समर्पित हैं। हम अपने हितों का प्रतिनिधित्व करने वाली और अपनी ज़रूरतों के प्रति उत्तरदायी सरकार के लिए संघर्ष कर रही वेनेज़ुएला की जनता के साथ खड़े होने की शपथ लेते हैं।

यह बजट एक अन्य प्रकार की आजादी – धार्मिक स्वतंत्रता, जिसका कि उप विदेश मंत्री ने ज़िक्र किया – के लिए हमारे निवेश में महत्वपूर्ण विस्तार करता है। खास कर, हम मध्य-पूर्व में उन धार्मिक और जातीय अल्पसंख्यकों को सहायता देना जारी रखेंगे, जिन्हें कि आइसिस ने मटियामेट करने की कोशिश की थी।

आखिर में, 2020 बजट यूएसएड की आंतरिक सुधार या परिवर्तन की पहल से निकटता से जुड़ा हुआ है और उसका समर्थन करता है। इससे हमारी मूल क्षमताओं को मज़बूत करने, हमारी कुशलता बढ़ाने, और अंतत: खर्च को कम करने में मदद मिलेगी। हम एक ऐसी एजेंसी विकसित कर रहे हैं जो मानवीय और विकास सहायता के तरीके में बदलाव के लिए हमारे प्रभाव और अधिकार का उपयोग करने में सक्षम है। और पूरी दुनिया के साथ, हम अपने समक्ष मौजूद कठिन चुनौतियों का मुक़ाबला करने के लिए कड़ी मेहनत और ज़ोरदार प्रयास करेंगे।

हालांकि कांग्रेस द्वारा उदारतापूर्वक दी गई फंडिंग दुनिया की हर मांग और हर ज़रूरत को पूरी करने के लिए कभी पर्याप्त नहीं होती, पर हम सुनिश्चित करेंगे कि यूएसएड दुनिया की प्रधान अंतरराष्ट्रीय सहायता एजेंसी बनी रहे और अमेरिका की भविष्य की सुरक्षा और समृद्धि की रक्षा के लिए अपना काम, जो हम हर दिन करते हैं, जारी रखे।

यहां पर आज उपस्थित होने का सम्मान देने के लिए आभार। आपका शुक्रिया।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/r/pa/prs/ps/2019/03/290265.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें