rss

अमेरिका-भारत रणनीतिक सुरक्षा संवाद पर संयुक्त वक्तव्य

English English

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
आधिकारिक
अवर्गीकृत
तत्काल रिलीज़ के लिए
मीडिया नोट
13 मार्च 2019

 
 

यू.एस.-इंडिया स्ट्रैटजिक सिक्योरिटी डायलॉग के मौके पर निम्नलिखित बयान का पाठ संयुक्त राज्य अमेरिका और भारत की सरकारों द्वारा जारी किया गया था।

पाठ की शुरुआत:

यू.एस.-इंडिया स्ट्रैटजिक सिक्योरिटी डायलॉग का 9वां दौर वाशिंगटन, डी.सी. में 13 मार्च, 2019 को आयोजित किया गया था। भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व विदेश सचिव विजय गोखले ने किया, जबकि अमेरिकी प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व एंड्रिया थॉम्पसन, अंडर सेक्रेटरी ऑफ स्टेट्स फॉर आर्म्स कंट्रोल एंड इंटरनेशनल सिक्योरिटी ने किया। दोनों पक्षों ने वैश्विक सुरक्षा और अप्रसार चुनौतियों के एक व्यापक दायरे में विचारों का आदान-प्रदान किया और सामूहिक विनाश के हथियारों तथा उनकी डिलीवरी प्रणालियों के प्रसार को रोकने और आतंकवादियों तथा राज्येतर कर्ताओं के हाथों में ऐसे हथियारों को न पहुंचने देने के लिए एक साथ काम करने की अपनी प्रतिबद्धता की तस्दीक की। उन्होंने भारत में छह अमेरिकी परमाणु ऊर्जा संयंत्रों की स्थापना समेत द्विपक्षीय सुरक्षा और असैन्य परमाणु सहयोग को मज़बूत करने के लिए प्रतिबद्धता जताई। संयुक्त राज्य अमेरिका ने परमाणु आपूर्तिकर्ता समूह में भारत की जल्दी ही सदस्यता के लिए अपने मज़बूत समर्थन की फिर से पुष्टि की।

इससे पहले, 12 मार्च, 2019 को भारत सरकार के विदेश मंत्रालय में निरस्त्रीकरण और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा मामलों के अतिरिक्त सचिव इंद्र मणि पांडे और शस्त्र नियंत्रण, सत्यापन एवं अनुपालन के लिए अमेरिकी असिस्टेंट सेक्रेटरी ऑफ स्टेट डॉ. यलीम डी.एस. पॉबलीट ने यू.एस.-इंडिया स्पेस डायलॉग के तीसरे दौर की सह-अध्यक्षता की, जहां उन्होंने अंतरिक्ष के खतरों, आपसी राष्ट्रीय अंतरिक्ष प्राथमिकताओं और द्विपक्षीय रूप से और बहुपक्षीय मंचों पर सहयोग के अवसरों पर चर्चा की।

पाठ का अंत।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/r/pa/prs/ps/2019/03/290335.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें