rss

मानवाधिकार प्रथाओं पर 2018 देश आधारित रिपोर्टों की रिलीज पर टिप्पणियां

English English, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو, العربية العربية

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
टिप्पणियाँ
माइकल आर. पोम्पेयो
सेक्रेटरी ऑफ स्टेट
प्रेस ब्रीफिंग कक्ष
वाशिंगटन, डीसी
13 मार्च 2019

 

 

सेक्रेटरी पोम्पेयो: आप सभी को मेरा नमस्कार। अमेरिका की स्थापना के बाद से, व्यक्तिगत अधिकारों की अवधारणा को राष्ट्रीय ताने-बाने में बुना गया है। जैसा कि मेरी मित्र और विद्वान मैरी एन ग्लेंडन ने लिखा है, इसने हमारे समाज के कमजोर सदस्यों, उद्धरण, “उनकी आवाज़ को बुलंद बनाने का एक साधन” दिया है और हमें मानव जीवन, स्वतंत्रता, और गरिमा के भयावह उल्लंघनों पर उद्धरण, “एक स्पॉटलाइट को प्रशिक्षित करने” की भी अनुमति देता है, जो दुनिया के कई हिस्सों में हर रोज़ होते हैं।

हमारी मजबूत अधिकारों की परंपरा के अनुरूप, आज 2019 की मानवाधिकार रिपोर्ट जारी करने की घोषणा करना सेक्रेटरी ऑफ स्टेट के रूप में मेरे लिए सम्मान की बात है। अब, 1977 के बाद से हर साल, स्टेट डिपार्टमेंट ने इस रिपोर्ट के माध्यम से दुनिया को नोटिस दिया है कि वे जहां कहीं भी होते हैं, वे मानवाधिकारों के उल्लंघन को उजागर करेंगे। हमने उन लोगों को बताया है जो मानवीय गरिमा की अवधारणा का अपमान करते हैं, कि वे इसकी कीमत चुकाएंगे, कि उनके दुर्व्यवहारों को सावधानी से प्रलेखित किया जाएगा और फिर प्रचारित किया जाएगा।

दुरुपयोगों को साफ-साफ कह करके और अनुपालन न करने वाली सत्ताओं को दबाकर, हम परिवर्तन को प्रभावित कर सकते हैं। हमने यकीनन ऐसा देखा है। इन वर्षों में, इस रिपोर्ट ने सरकारों को तौर-तरीके बदलने और बर्बरता और अन्य दुरुपयोगों में संलिप्तता समाप्त करने के लिए मज़बूर किय है। हमें उम्मीद है कि इससे ऐसा करना जारी रहेगा और वैसी जगहों पर मानवाधिकारों का सम्मान करने के लिए दमनकारी सत्ताओं को मज़बूर करेगा जहां उन आवाजों को अक्सर खामोश कर दिया जाता है और जहां सहिष्णुता और सम्मान की गहरी आकांक्षाएं लंबे समय से अधूरी बनी हुई हैं।

इस वर्ष की रिपोर्ट करीब 200 देशों और क्षेत्रों की प्रथाओं का मूल्यांकन करती है। यह दुनिया भर के अमेरिकी मिशनों और यहां विभाग के सैकड़ों अधिकारियों के बीच बहुत बड़े सहकार का प्रतिनिधित्व करती है जो अपने साथी की गरिमा की रक्षा में ईश्वर का कार्य कर रहे हैं। मुझे उनमें से हर एक पर गर्व है।

काश, मैं कह सकता कि इस वर्ष की रिपोर्ट में मूल्यांकन किए गए प्रत्येक देश का रिकॉर्ड बेदाग है या कि बेहतर हुआ है, मगर ऐसा तो मामला ही नहीं है।

ईरान को ही लें। पिछले साल, ईरानी शासन ने 20 से ज्यादा लोगों की हत्या की और हजारों को बिना किसी उचित प्रक्रिया के सिर्फ अपने अधिकारों के लिए संघर्ष करने पर गिरफ्तार किया। सरकार ने मीडिया प्रतिष्ठानों को विरोध प्रदर्शनों को कवर करने से रोक दिया। यह क्रूरता के उसी ढर्रे को जारी रखना है जिससे सत्ता ने पिछले चार दशकों से ईरानी लोगों को सताया है।

इस बीच, दक्षिण सूडान में, सैन्य बलों ने नागरिकों को उनकी राजनीतिक निष्ठा और जातीयता के आधार पर यौन हिंसा का शिकार बनाया है।

निकारागुआ में, जब नागरिकों ने सामाजिक सुरक्षा लाभों का शांतिपूर्वक विरोध किया, तो उन्हें निशानेबाजों की गोलीबारी का सामना करना पड़ा। सरकार के आलोचकों को निर्वासन, जेल या मौत की नीति से जूझना पड़ा है।

फिर है चीन, जब भी मानवाधिकारों के उल्लंघन की बात हो तो वह अपने आप में एक अलग तरह के समूह में है। अकेले 2018 में, चीन ने मुस्लिम अल्पसंख्यक समूहों हिरासत में लेने के अपने अभियान को रिकॉर्ड तेज़ी दी। आज, 1 मिलियन से अधिक उइगुर, जातीय कज़ाकों और दीगर मुस्लिमों को उनकी धार्मिक और जातीय पहचान को मिटाने के लिए तैयार किए गए कथित पुनर्शिक्षा शिविरों में नजरबंद किया गया है। सरकार ईसाई, तिब्बती, और उन सभी पर अत्याचार बढ़ा रही है जो भी उन लोगों से अलग विचार रखता है या कि उससे अलग जिसकी सरकार वकालत करती है — या जो सरकार में बदलाव की वकालत करता है।

यहां तक कि दुनिया भर में हमारे कुछ दोस्त, सहयोगी और भागीदार भी मानवाधिकारों का उल्लंघन कर रहे हैं। हम उतने ही ज़ोर-शोर से उन रिपोर्टों के भी अभिलेख तैयार करते हैं। हमारा सदा से ही मकसद मानवाधिकारों की चुनौतियों की पहचान करना और अमेरिकी प्रभाव तथा शक्ति का उपयोग करके प्रत्येक राष्ट्र को बेहतर, अधिक सुसंगत मानवाधिकारों की प्रथाओं की ओर ले जाना रहा है।

जैसा कि मैंने शुरुआत में बताया था, मानवाधिकारों का हमारा प्रतिबद्ध बचाव अमेरिका के संस्थापक सिद्धांतों से उपजा है। यह हमारी परम्परा है। अमेरिका की स्थापना उन स्वयंसिद्ध सच्चाइयों के आधार पर हुई है कि हममें से प्रत्येक ऐसे अधिकारों से सुसज्जित है जिन्हें ज़ब्त नहीं किया जा सकता। वे वही हैं जिन्हें दुनिया में कहीं भी किसी भी सरकार को कुचलने की इजाज़त नहीं दी जानी चाहिए। हमारा संविधान उन अधिकारों को कानून के रूप में संहिताबद्ध करता है, और समय के साथ, वे अमेरिकी अधिकारों के रूप में नहीं जाने गए, बल्कि दुनिया भर में कहीं अधिक बुनियादी तौर पर मानवधिकारों के रूप में प्रतिष्ठित हैं।

वास्तव में, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उन्हें 30 छोटे लेखों में मानवाधिकारों के सार्वभौम घोषणापत्र में शामिल किया गया था। बीसियों देशों ने उस वक्त इन दस्तावेज़ों को अपनी प्रेरणा के लिए देखा जब उन्होंने अपना संविधान तैयार किया और अपने स्वयं के राष्ट्र स्थापित किए। आज, स्टेट डिपार्टमेंट दुनिया भर में मानवाधिकारों के समर्थन में, हमारे संस्थापकों के विज़न के सम्मान में और सभी लोगों के स्वतंत्र होने की हमारी चिरकालीन अमेरिकी आकांक्षा को व्यक्त करने में अग्रणी भूमिका निभाना जारी रखे हुए है।

आज की रिपोर्ट जारी करके, हम सच्चाई को तैनात करते हैं – दुनिया भर में होने वाले दुरुपयोगों के बारे में सच्चाई – यह अमेरिकी कूटनीतिक शस्त्रागार के सबसे शक्तिशाली हथियारों में से एक है। धन्यवाद, और मैं अब सवालों के लिए इसे राजदूत कोज़ाक के हवाले करता हूं।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2019/03/290320.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें