rss

सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो

English English, Français Français, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو

अमेरिकी डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट
प्रवक्ता कार्यालय
तत्काल रिलीज़ के लिए 15 मार्च, 2019
टिप्पणियाँ
सेक्रेटरी ऑफ स्टेट माइकल आर. पोम्पेयो
15 मार्च, 2019
प्रेस ब्रीफिंग कक्ष
वाशिंगटन, डी.सी.

 
 

सेक्रेटरी पोम्पेयो: आप सभी को मेरा नमस्कार। आज मैं दो विदेशी मुद्दों के बारे में संक्षिप्त टिप्पणियाँ करना चाहूँगा। लेकिन पहले, मैं क्राइस्टचर्च में मस्जिद में किए गए भयंकर हमलों के संबंध में न्यूज़ीलैंड राष्ट्र के प्रति अपनी निजी संवेदनाएं व्यक्त करना चाहता हूँ। अमेरिकी लोगों के विचार और प्रार्थनाएं आज पीड़ितों और उनके परिवारों के साथ हैं। अमेरिका इस घृणास्पद आक्रमण की निंदा करता है। हम संकट के इस समय न्यूज़ीलैंड की सरकार और लोगों के प्रति हमारी अटल एकजुटता व्यक्त करते हैं और हम कोई भी और सभी प्रकार की सहायता प्रदान करने के लिए तत्पर हैं।
अब मैं यमन में सउदी नेतृत्व वाले गठबंधन में लड़ाई के लिए सहायता समाप्त करने के लिए इस सप्ताह सेनेट मतदान पर टिप्पणी करना चाहूँगा। हम सभी चाहते हैं कि यह टकराव समाप्त हो जाए। हम सभी खौफनाक मानवीय स्थिति में सुधार करना चाहते हैं। लेकिन ट्रम्प प्रशासन मूलभूत रूप से इससे असहमत है कि सउदी-नेतृत्व वाले गठबंधन के लिए हमारी सहायता समाप्त करना इन लक्ष्यों को पूरा करने का तरीका है। जिन सेनेटरों ने “हाँ” के रूप में मतदान किया है, वे कहते हैं कि वे यमन में बमबारी समाप्त करना चाहते हैं और वे मानव अधिकारों का समर्थन करते हैं। लेकिन हमें यह वास्तव में सोचने की आवश्यकता है कि किनके मानव अधिकारों की बात की जा रही है।

यदि आप यमनी ज़िदगियों के बारे में वास्तव में परवाह करते हैं, तो आप यमन को भ्रष्ट, क्रूर ईरान इस्लामी गणराज्य के कठपुतली राज्य में बदले जाने को रोकने के लिए सउदी-नेतृत्व के प्रयास का समर्थन करेंगे। यदि हम सउदी ज़िंदगियों के बारे में वास्तव में परवाह करते हैं, तो आप ईरान के समर्थन वाले हाउथियों को रियाध पर मिसाइलें दागने से रोकना चाहेंगे। यदि आप क्षेत्र में अरब ज़िदगियों के बारे में वास्तव में परवाह करते हैं, तो आप ईरान को अपने आधिपत्य वाले शासन का तेहरान से भूमध्यसागर और इससे आगे यमन तक विस्तार करने को रोकने के संयुक्त प्रयासों का समर्थन करेंगे। और यदि हम वास्तव में अमेरिकी ज़िदगियों और आजीविकाओं की और पूरे विश्व में लोगों की ज़िदगियों और आजीविकाओं की परवाह करते हैं, तो आप यह समझेंगे कि ईरान और उसके सहयोगियों को यमन से लगने वाली शिपिंग लेनों को नियंत्रित करने की अनुमति नहीं दी जा सकती।
हमें यमन में मानवीय संकट की गहन जानकारी है और हम इसकी निंदा करते हैं। अमेरिका ने टकराव के शुरू होने के बाद से यमनी लोगों की सहायता करने के लिए 2 बिलियन डॉलर से अधिक की धनराशि दी है और सउदी अरब ने केवल 2018 में 500 मिलियन डॉलर से अधिक की धनराशि दी है और इस वर्ष अतिरिक्त 500 मिलियन डॉलर धनराशि देने का वचन दिया है। ईरान इस्लामिक गणतंत्र ने मानवीय सहायता के लिए एक भी डॉलर नहीं दिया है।

यमनी लोगों के दुखों को दूर करने का तरीका युद्ध में हमारे भागीदारों को पंगु बनाने के द्वारा टकराव को लंबा खींचना नहीं है, बल्कि ऐसा सउदी-नेतृत्व वाले गठबंधन को ईरानी समर्थन वाले विद्रोहियों को हराने के लिए आवश्यक सहायता देकर और न्यायोचित शांति सुनिश्चित करके किया जा सकता है। हम आशा करते हैं – मैं मार्टिन ग्रिफिथ्स से कल मिला – हम आशा करते हैं कि लड़ाई समाप्त करने के लिए करार लागू किए जा सकते हैं, लेकिन हमें सुनिश्चित करना होगा कि यह संकट समाप्त हो जाए।

जिस दूसरे विषय पर मैं आज बात करना चाहता हूँ, वह अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय के बारे में है। ब्रसेल्स में पिछले वर्ष एक भाषण में, मैंने यह स्पष्ट किया कि ट्रम्प प्रशासन अंतरराष्ट्रीय संस्थाओं में सुधार करने, उन्हें वापस उनके मुख्य मिशनों पर केंद्रित करने और उन्हें तब जवाबदेह ठहराने पर विश्वास रखता है जब वे उन लोगों को सेवा प्रदान करने में विफल रहते हैं जिनकी सहायता करने की वे मंशा रखते हैं। हम यह सुनिश्चित करने के लिए ज़िम्मेदार राष्ट्रों के साथ भागीदारी करना चाहते हैं कि अंतरराष्ट्रीय निकाय स्वतंत्रता, संप्रभुता और कानून के शासन के सिद्धांतों का सम्मान करें। राष्ट्र-राज्य इन संस्थाओं का गठन करने के लिए एकजुट होते हैं और उनकी सहमति से ही ये संस्थाएं मौजूद हैं।

1998 से अमेरिका ने ICC की व्यापक, गैर-जवाबदेह अभियोग संबंधी शक्तियों और इसके द्वारा अमेरिकी राष्ट्रीय संप्रभुता को पेश किए जाने वाले खतरे के कारण इससे जुड़ने से मना कर दिया है। हम अपने महान राष्ट्र की रक्षा करने के लिए की गई कार्रवाइयों के लिए अनुचित मुकदमे के डर में रहने से अमेरिकी और सहायक सैन्य और सिविलियन कर्मचारियों की रक्षा करने के लिए दृढ़संकल्प हैं। हमें डर था कि न्यायालय अंततः अमेरिकनों के राजनीतिक रूप से प्रेरित मुकदमों पर कार्रवाई कर सकता है और हमारे डर न्यायसंगत थे।

2017 के नवंबर में, ICC के अभियोजक ने उद्धरण “अफगानिस्तान में स्थिति” की जाँच-पड़ताल आरंभ करने के अनुमोदन का अनुरोध किया। ऐसे मुकदमों और सज़ा के लिए अमेरिकी कर्मचारियों को अवैध रूप से निशाना बना सकता था। 2018 के सितम्बर में, ट्रम्प प्रशासन ने ICC को चेतावनी दी कि यदि इसने अमेरिकियों की जाँच-पड़ताल करने का प्रयास किया, तो इसके नतीजे होंगे। मैं समझता हूँ कि किसी जाँच-पड़ताल के लिए अभियोजक का अनुरोध लंबित है।

इस प्रकार आज, ऐसे विदेशियों, उद्धरण, “अमेरिका में जिनका प्रवेश या प्रस्तावित गतिविधियों के संभावित रूप से गंभीर प्रतिकूल विदेशी नीति परिणाम होंगे” उद्धरण की समाप्ति, पर वीज़ा के बाद के प्रतिबंध लगाने के लिए मौजूदा कानूनी प्राधिकार के अनुसरण में, मैं उन व्यक्तियों पर अमेरिकी वीज़ा प्रतिबंधों की नीति की घोषणा कर रहा हूँ जो अमेरिकी कर्मचारियों की किसी ICC जाँच-पड़ताल के लिए ज़िम्मेदार हैं। इसमें वे व्यक्ति सम्मिलित हैं जो किसी ऐसी जाँच-पड़ताल का अनुरोध करने या इसमें सहायता करने के लिए कोई कार्रवाई करते हैं या कर चुके हैं। इन वीज़ा प्रतिबंधों का सहयोगियों की सहमति के बिना इज़रायलियों सहित सहायक कर्मचारियों के पीछे लगे रहने के ICC के प्रयासों को रोकने के लिए भी उपयोग किया जा सकता है। इस नीति को लागू किया जाना पहले ही आरंभ हो चुका है। अमेरिकी कानून के अंतर्गत, वैयक्तिक वीज़ा रिकॉर्ड गोपनीय हैं, इसलिए मैं इसका ब्यौरा प्रदान नहीं करूँगा कि कौन प्रभावित हुआ है और कौन प्रभावित होगा।

लेकिन यदि आप अफगानिस्तान में स्थिति के संबंध में अमेरिकी कर्मचारियों की प्रस्तावित ICC जाँच-पड़ताल के लिए उत्तरदायी हैं, तो आपको यह नहीं मानना चाहिए कि आपके पास अभी भी वीज़ा होगा या आप इसे प्राप्त कर लेंगे, या यह कि आपको अमेरिका में प्रवेश करने की अनुमति दी जाएगी। अमेरिका संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय करार के तहत हमारे दायित्वों सहित लागू कानून के अनुरूप इन उपायों को लागू करेगा। ये वीज़ा प्रतिबंध हमारे प्रयासों का अंत नहीं होंगे। अगर ICC अपनी कार्यशैली नहीं बदलता है, तो हम आर्थिक प्रतिबंधों सहित अतिरिक्त कदम उठाने के लिए तैयार हैं।
हमारी सरकार का पहला और सर्वोच्च दायित्व अपने नागरिकों की सुरक्षा करना है और यह प्रशासन उस कर्तव्य को पूरा करेगा। कानून के शासन, जवाबदेही और न्याय के प्रति अमेरिका की स्थायी प्रतिबद्धता दुनिया के लिए ईर्ष्या है, और यह हमारे देश की सफलता के मूल में है जब अमेरिकी सेवा सदस्य हमारे सख्त सैन्य आचरण का पालन करने में विफल रहते हैं, तब उन्हें फटकार लगाई जाती है, उनका कोर्ट-मार्शल किया जाता है, और सज़ा सुनाई जाती है यदि वह इसके योग्य है। अमेरिकी सरकार, जहाँ भी संभव हो, अंतरराष्ट्रीय अपराधों के लिए जिम्मेदार लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाई करती है। अमेरिका विदेशी राष्ट्रों की घरेलू न्याय प्रणाली को मजबूत करने के लिए विदेशी सहायता देता है, जो दंड मुक्त के विरुद्ध रक्षा की पहली और सबसे अच्छी व्यवस्था है।

अमेरिका अंतर्राष्ट्रीय हाईब्रिड कानूनी तंत्रों का भी समर्थन करता है जब वे प्रभावी ढंग से काम करते हैं और हमारे राष्ट्रीय हित के अनुरूप होते हैं। उदाहरण के लिए, इनमे रवांडा और यूगोस्लाविया के अत्याचारों का सामना करने और सीरिया और बर्मा दोनों में अंतरराष्ट्रीय साक्ष्य संग्रह प्रयास करने वाला तंत्र शामिल होंगे। लेकिन ICC अमेरिका के कानून के शासन पर हमला कर रहा है। न्यायालय को व्यवस्था बदलने में बहुत देर नहीं हुई है और हम आग्रह करते हैं कि वह तुरंत ऐसा करे। धन्यवाद।

प्रश्न: ICC के फैसले पर बहुत संक्षेप में, क्या आप आज ऐसा कर रहे हैं क्योंकि उन्होंने अफगानिस्तान की लंबित जाँच-पड़ताल को बंद नहीं किया है या छोड़ा नहीं है या कोई अन्य कारण है?
और फिर दूसरी बात, मैं जानने को उत्सुक हूँ कि क्या आपको यह देखने का मौका मिला है और क्या आप पिछली रात उत्तर कोरिया के उप-विदेश मंत्री ने अमेरिका के प्रति जो कहा है उसका उत्तर दे सकते है, जिसमे हनोई में अलग हटकर और इस शत्रुतापूर्ण माहौल को बनाने के लिए आपको व्यक्तिगत रूप से तथा राजदूत बोल्टन को दोषी ठहराते हुए एक सुनहरा अवसर त्यागा है।
सेक्रेटरी पोम्पेयो: इसलिए आज हम जो कार्रवाई कर रहे हैं, उसके कारण के संबंध में, यह ICC को अपनी संभावित जाँच-पड़ताल एवं अफगानिस्तान में अमेरिकियों को उनकी गतिविधियों और हमारे सहयोगियों की गतिविधियों के लिए संभावित मुकदमे के प्रति व्यवस्था को बदलने के लिए मनाने के निरंतर प्रयास का हिस्सा है जो ICC के लिए तैयार कार्रवाई व्यवस्था के अनुसार कार्य करने से उन्हें रोकने का प्रयास कर रहे है, उन्हें कार्रवाई करने से रोकने की कोशिश कर रहे हैं जो, हमारे विचार में, बहुत असंगत हैं, चाहे हम सदस्य न हों । यह एक ऐसा मॉडल है जिसके बारे में हमने पहले बात की थी, और हम अब वही लागू कर रहे हैं जो हमने पहले ही कहा था कि हम करेंगे।

मुझे चोई सोन हुई द्वारा पिछली रात की गई टिप्पणियों को देखने का अवसर मिला है। सिंगापुर में, काफी चर्चा के बाद, दोनों नेता एक साथ आए और कार्रवाई शुरू की जिसके कारण उत्तर कोरिया के खिलाफ सबसे कठोर प्रतिबंधों लगे- वैश्विक प्रतिबंध, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के संकल्प प्रतिबंध जो प्रभावी हैं। उन प्रतिबंधों की माँगें उत्तर कोरिया का संपूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण है, जिसमें मिसाइलें, उनकी हथियार प्रणालियाँ, पूरा WMD कार्यक्रम शामिल है। यही अपेक्षा संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् द्वारा की गई है।
दोनों नेताओं ने मुलाकात की। चेयरमैन किम ने परमाणु निरस्त्रीकरण की प्रतिबद्धता जताई। हमने इसे सम्पन्न करने के लिए हमने सिंगापुर और हनोई के बीच काम करना जारी रखा। हम बंधकों को वापस लाए। हमने उन्हें मिसाइल परीक्षण और परमाणु परीक्षण करने से रोका है। हमें आशा है कि हम बातचीत, और विचार विमर्श जारी रख सकते हैं। मैंने वह टिप्पणियाँ देखी हैं जो उन्होंने की थीं। उन्होंने यह संभावना बनाए रखी कि बातचीत निश्चित रूप से आगे जारी रहे। यह प्रशासन की इच्छा है कि हम इस संबंध में बातचीत जारी रखें। जैसा कि राष्ट्रपति ने तब कहा कि जब वे हनोई में थे, तो उन्होंने जो प्रस्ताव किया था, वह उस स्तर तक नहीं बढ़ पाया, जो स्वीकार्य हो, ऐसा यह देखते हुए था जिसे वे इसके बदले में माँग रहे थे।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2019/03/290394.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें