rss

राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप ईरानी शासन को उसकी आतंकवाद की वैश्विक मुहिम के लिए

Русский Русский, English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Español Español, اردو اردو

तत्काल जारी करने के लिए
अप्रैल 08, 2019

 
 

ईरानी शासन आतंकवाद का अग्रणी सरकारी प्रायोजक है। यह खतरनाक मिसाइलों का निर्यात करता है, पूरे मध्य पूर्व में संघर्षों को बढ़ावा देता है, और आतंकवादियों के प्रतिनिधियों का समर्थन करता है।– राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप


अधिकतम दबाव बनाने की कार्रवाई: राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप ने ईरान की वैश्विक आतंकी मुहिम को कार्यरूप देने वाले मुख्य प्रतिष्ठान को लक्षित कर ईरानी शासन को उत्तरदायी ठहरा रहे हैं।

  • ट्रंप प्रशासन ईरान की वैश्विक आतंकवाद मुहिम का सामना करने के लिए इस्लामिक रिवोल्युशनरी गार्ड कॉर्प्स (आईआरजीसी) को एक विदेशी आतंकवादी संगठन (एफटीओ) घोषित कर रहा है।
  • ट्रंप प्रशासन दुनिया भर में ईरान-समर्थित आतंकवाद के मुक़ाबले के एक व्यापक प्रयास के तहत यह अभूतपूर्व कदम उठा रहा है।
  • प्रशासन की कार्रवाई ईरान पर वित्तीय दबाव और उसके अलगाव को बढ़ाएगी, और ईरानी शासन को उन संसाधनों से वंचित करेगी जिनका कि वह अपनी आतंकवादी गतिविधियों में इस्तेमाल करता है।
  • यह कदम अन्य सरकारों और निजी क्षेत्र को आईआरजीसी के स्वरूप के बारे में आगाह करता है, जोकि आतंकवाद के वित्तपोषण के लिए पूरी दुनिया में प्रतिनिधि कंपनियों और संस्थानों का संचालन करती है।
    • वैध व्यावसायिक सौदे की तरह दिखते सौदों के मुनाफे ईरानी शासन के आतंकवादी एजेंडे के लिए इस्तेमाल हो सकते हैं।
  • ये पहली बार है कि अमेरिका ने किसी दूसरी सरकार के एक हिस्से को एक विदेशी आतंकवादी संगठन का दर्ज़ा दिया है।
    • दर्ज़ा देने का ये कदम इस बात को रेखांकित करता है कि आतंकवाद का इस्तेमाल ईरानी शासन को अन्य सरकारों से बुनियादी रूप से अलग साबित करता है।

ईरान की आतंकवाद की वैश्विक मुहिम का मुक़ाबला: ईरानी शासन अब भी दुनिया भर में आतंकवाद की मुहिम में संलग्न है।

  • ईरानी शासन आतंकवाद को अपने राज-कौशल के केंद्रीय तत्व के रूप में इस्तेमाल करता है और आईआरजीसी का उपयोग अपनी वैश्विक आतंकी मुहिम को निर्देशित करने और उसे कार्यरूप देने में करता है।
  • आईआरजीसी आतंकवादी संगठनों को धन, उपकरण, प्रशिक्षण और संचालन में सहयोग उपलब्ध कराती है।
  • आईआरजीसी अनेक देशों में आतंकवादी साज़िशों में सीधे तौर पर शामिल रही है।
    • वर्ष 2011 में आईआरजीसी के कुद्स फोर्स ने वाशिंगटन डी.सी. में अमेरिका स्थित सउदी राजदूत पर भीषण हमले की साज़िश रची थी, जिसे पता लगाकर नाकाम कर दिया गया।
    • आईआरजीसी के कुद्स फोर्स की गतिवथियों को जर्मनी, बोस्निया, बुल्गारिया, कीनिया, बहरीन, तुर्की और अन्य देशों में पता लगाकर बाधित कर दिया गया।
  • ईरानी शासन अब भी आतंकवाद का दुनिया का प्रमुख सरकारी प्रायोजक बना हुआ है, जो आतंकवाद के समर्थन में सालाना करीब एक अरब डॉलर खर्च करता है।
    • ईरानी शासन अनेक आतंकवादी गुटों को वित्तीय मदद देता है, जिनमें हिज़बुल्ला, हमास, फलस्तीनी इस्लामिक जिहाद, कताइब हिज़बुल्ला, अल-अशतर ब्रिगेड, और अन्य संगठन शामिल हैं।

अमेरिका की सुरक्षा की हिफाजत: राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरानी शासन की दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों की एक पूरी श्रृंखला के खिलाफ कार्रवाई की है और यह सुनिश्चित किया है कि वह कभी भी परमाणु हथियार हासिल नहीं कर सके।

  • राष्ट्रपति ट्रंप अस्वीकार्य ईरान समझौते से निकल गए क्योंकि उसमें अमेरिका के राष्ट्रीय सुरक्षा हितों की हिफाजत नहीं हो रही थी।
  • राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरान समझौते के तहत हटाए गए सभी प्रतिबंधों को फिर से लगा दिया और ईरान पर लगाए गए अब तक के सबसे सख्त प्रतिबंधों को कार्यान्वित किया।
    • ये प्रतिबंध उस राजस्व को खत्म करने में मददगार हैं जिसका कि ईरानी शासन आतंकवाद के वित्तपोषण में, वैश्विक अस्थिरता को बढ़ावा देने में, परमाणु और बैलिस्टिक मिसाइल कार्यक्रमों की फंडिंग में और अपने नेताओं को धनवान बनाने के लिए इस्तेमाल करता है।
  • ट्रंप प्रशासन ने अपनी कार्रवाइयों का लक्ष्य ईरानी शासन को बनाया है, नाकि ईरानी जनता को, जोकि शासन के सबसे दीर्घकालिक पीड़ित हैं।

यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें