rss

राष्ट्रपति ट्रंप की नई ईरान रणनीति की पहली वर्षगांठ

اردو اردو, English English, العربية العربية, Русский Русский, Français Français


तत्काल जारी करने के लिए
मई 8, 2019


साल भर पहले आज के दिन, राष्ट्रपति ट्रंप ने घोषणा की थी कि अमेरिका संयुक्त व्यापक कार्ययोजना में भाग लेना बंद कर देगा और इसकी बजाय ईरान के अस्थिरकारी रवैये को खत्म करने के लिए एक नई आक्रामक रणनीति को अपनाएगा और ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकेगा। राष्ट्रपति ट्रंप ने वादा किया कि अमेरिका कभी भी ईरानी शासन के परमाणु ब्लैकमेल का शिकार नहीं बनेगा और हम ईरान की तमाम अस्थिरकारी गतिविधियों का आक्रामकता के साथ सामना करेंगे।

एक साल बाद, राष्ट्रपति ट्रंप अधिकतम दबाव डालने वाला एक व्यापक अभियान चलाकर ईरान का मुकाबला करने के अपने वादे पर खरा उतरे हैं। हमने ईरानी शासन के खिलाफ अब तक के सबसे कड़े प्रतिबंध लगाए हैं, और पिछले साल भर में करीब 1,000 ईरानी व्यक्तियों और संस्थाओं को आतंकवादी घोषित किया है। ट्रंप प्रशासन ने ईरान के तेल निर्यात को अब तक के न्यूनतम स्तर पर पहुंचा दिया है, और प्रभावी रूप से ईरानी तेल की खरीद को शून्य के स्तर पर लाने के लिए ईरानी तेल के आयातकों को रियायतें, सिग्निफिकेंट रिडक्शन एक्सेप्शंस, जारी करना बंद कर दिया है। मई में, प्रतिबंधों को और सख्त करने की विदेश मंत्री पोम्पियो का कदम ईरान के लिए उसके पुराने परमाणु हथियार कार्यक्रम को फिर से शुरू करना दुष्कर बनाता है और उसे परमाणु हथियार के लिए नाभिकीय पदार्थों के उत्पादन की अवधि को कम करने से रोकता है। आज, राष्ट्रपति ट्रंप ने ईरानी धातु व्यापार को रोकने के लिए नए प्रतिबंधों की घोषणा की। ये ईरान के तेल से इतर अन्य निर्यातों पर लक्षित हैं तथा आतंकवाद और मध्यपूर्व में अस्थिरता का वित्तपोषण करने की उसकी क्षमता को और सीमित करते हैं।

अपने परमाणु कार्यक्रम के विस्तार के इरादे की ईरान की आज की घोषणा अंतरराष्ट्रीय मानदंडों की अवहेलना करती है और स्पष्ट तौर पर यह दुनिया को बंधक बनाने का उसका एक प्रयास है। परमाणु हथियार विकसित करने में लगने वाले समय को कम करने वाली परमाणु गतिविधियां दोबारा शुरू करने की ईरान की धमकी दुनिया भर में शांति और सुरक्षा को ईरानी शासन से मिल रहे खतरे को रेखांकित करती है।

अमेरिका ईरानी शासन के परमाणु हथियार तक पहुंचने के सारे रास्तों को बंद करने के लिए प्रतिबद्ध है। उसके अपनी अस्थिरकारी इरादों को छोड़ने तक हम अधिकतम दबाव डालना जारी रखेंगे। हम परमाणु कार्यक्रम के विस्तार की धमकी के लिए ईरानी शासन को दोषी ठहराने के लिए अंतरराष्ट्रीय समुदाय का आह्वान करते हैं।

ईरान का सामना करने में अमेरिका अकेला नही है। समझौते से हमारे बाहर निकलने के बाद से, हमारे मित्र राष्ट्रों और साझेदारों ने ईरान विरोधी आक्रामकता में हमारा साथ दिया है। ईरान की समुद्र मार्ग होकर तेल बेचने की अवैध कार्रवाई के खिलाफ हमने दुनिया के लगभग हर महादेश के देशों के साथ मिलकर कदम उठाए हैं। गत वर्ष नाकाम किए गए दो आतंकवादी साजिशों की प्रतिक्रिया में यूरोपीय संघ ने ईरानी प्रतिष्ठानों के खिलाफ नए प्रतिबंध लगाए हैं। ईरान की कुत्सित गतिविधियों के जवाब में अन्य राष्ट्रों ने भी अपने राजदूत वापस बुलाने, ईरानी राजनयिकों को निष्कासित करने, ईरानियों की वीज़ा-मुक्त यात्रा सुविधा को बंद करने और ईरानी विमान सेवा महान एयर को अपने यहां नहीं उतरने देने जैसे कदम उठाए हैं।

आगे भी हम ईरान पर दबाव बढ़ाने के अपने अभियान, जो पहले ही महत्वपूर्ण सफलताएं हासिल कर चुका है, का विस्तार करना जारी रखेंगे। जैसा कि 21 मई 2018 के मेरे भाषण में उल्लिखित 12 मांगों में स्पष्ट किया गया है, जब तक ईरानी नेता अपने विध्वसंक रवैये को छोड़ नहीं देते, ईरानी जनता के अधिकारों का सम्मान नहीं करते और वापस वार्ताओं में शामिल नहीं होते, हम ईरानी शासन पर अधिकतम दबाव डालना जारी रखेंगे।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary/remarks/2019/05/291563.htm
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें