rss

अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता गठबंधन के रात्रिभोज में विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो का संबोधन

English English, اردو اردو

अमेरिकी विदेश विभाग
प्रवक्ता का कार्यालय
माइकल आर. पोम्पियो, विदेश मंत्री
वाशिंगटन, डी.सी.
बेन फ़्रैंकलिन कक्ष
तत्काल जारी करने के लिए
फरवरी 05, 2020

 

विदेश मंत्री पोम्पियो: शुभ संध्या। आप सभी का स्वागत है। ये एक महत्वपूर्ण अवसर है, बहुत दिनों से प्रयास जारी था, बहुत काम किया गया – बहुत सारा काम आपने और हमारी टीमों ने किया है, इसलिए सबसे पहले मैं इस विशेष अवसर पर यहां उपस्थिति होने के लिए आप सबका आभार व्यक्त करूंगा। इस खूबसूरत और ऐतिहासिक बेंजामिन फ़्रैंकलिन कक्ष कक्ष– में आपका स्वागत करना वास्तव में सम्मान की बात है. कई असाधारण रूप से महत्वपूर्ण घटनाएं जो दुनिया में हुई हैं, उन्हें यहीं शुरू किया गया था, और इसलिए हमने सोचा कि ये बहुत ही उपयुक्त रहेगा कि आज रात अपने प्रयास को शुरू करने के लिए हम यहीं एक साथ भोजन करें।

यह अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता गठबंधन की आधिकारिक शुरुआत है – समान विचारधारा वाले उन साझेदारों का एक गठबंधन, जो हर इंसान के लिए अंतरराष्ट्रीय धार्मिक स्वतंत्रता को महत्व देते हैं, और उसके लिए संघर्ष करते हैं।

हमने इस महत्वपूर्ण प्रयास के लिए तब से ही कोशिशें तेज़ कर दी थीं जब मैंने, इसी इमारत में पिछले साल जुलाई में आयोजित, धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के दूसरे मंत्रिस्तरीय बैठक में इसका इरादा व्यक्त किया था।

लगभग पांच महीने पहले राष्ट्रपति ट्रंप ने संयुक्तराष्ट्र में गठबंधन की हमारी परिकल्पना को और विस्तार से बताया था। यह संयुक्तराष्ट्र में किसी अमेरिकी राष्ट्रपति द्वारा धार्मिक स्वतंत्रता पर आयोजित पहला समारोह था। मुझे पता है कि आप में से कई उस दिन हमारे साथ उपस्थित थे।

अपने अंत:करण के अनुसार जीवन जीने के सबके अधिकार की रक्षा करना इस प्रशासन की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में से एक है।

मैं अभी-अभी पूर्वी यूरोप और मध्य एशिया की यात्रा से वापस आया हूं।

मैं यूक्रेन के ऑर्थोडॉक्स चर्च के धार्मिक नेताओं से मिला, जो बिना रूसी सरकार के हस्तक्षेप के आज़ादी के साथ उपासना करने के अधिकार के लिए संघर्ष कर रहे हैं।

कज़ाखस्तान में मैं शिनजियांग में चीनी कम्युनिस्ट पार्टी द्वारा हिरासत में लिए गए जातीय कज़ाखों के परिजनों से मिला।

मैंने बेलारूस और उज़बेकिस्तान के नेताओं का आह्वान किया कि वे अपनी जनता को अधिकाधिक धार्मिक स्वतंत्रता देने के अपने अच्छे काम जारी रखें।

ये एक वास्तविक मिशन है। हमें इस अमेरिकी मूल्य का पक्षधर होने पर गर्व है, हम इसे वैश्विक मूल्य मानते हैं।

क्योंकि धार्मिक स्वतंत्रता की रक्षा निश्चित ही सिर्फ एक अमेरिकी प्राथमिकता नहीं है। दूसरे देशों, संगठनों और नेटवर्कों की विविधता को देखें जोकि आज यहां हमारे साथ जुड़ रहे हैं। हमारा मिशन राष्ट्रीयताओं, राजनीतिक प्रणालियों और धार्मिक मतों तक विस्तृत है। एकजुट होकर, हम कहते हैं कि धर्म या आस्था की स्वतंत्रता एक पश्चिमी आदर्श नहीं है, बल्कि यह समाज की बुनियाद है।

हमारे सिद्धांतों की घोषणा से यह स्पष्ट है। यह मानवाधिकारों की सार्वभौमिक घोषणा में शामिल है। प्रत्येक मनुष्य को यह अधिकार है कि वह चाहे जिसमें भी आस्था रखे, अपना धर्म बदल सके, या फिर किसी भी धर्म में आस्था नहीं रखे।

वास्तव में, हमें अब पहले से कहीं अधिक, इस सच्चाई पर ज़ोर देना चाहिए और इसके लिए लड़ना चाहिए। आज दुनिया में दस में से आठ से अधिक लोग ऐसे स्थानों में रहते हैं जहाँ वे अपने धर्म का खुल कर पालन नहीं कर सकते।

हम आतंकवादियों और हिंसक चरमपंथियों की निंदा करते हैं, जो धार्मिक अल्पसंख्यकों को निशाना बनाते हैं, चाहे वे इराक में यज़ीदी हों, पाकिस्तान में हिंदू हों, पूर्वोत्तर नाइजीरिया में ईसाई हों या बर्मा में मुसलमान हों।

हम ईशनिंदा और धर्मत्याग संबंधी कानूनों की निंदा करते हैं जो अंत:करण से जुड़े मामलों का अपराधीकरण करते हैं।

और, हम सभी धर्मों के प्रति चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की शत्रुता की निंदा करते हैं। हम जानते हैं कि आपमें से कइयों ने इस गठबंधन का हिस्सा बनने के लिए सहमत होकर चीनी दबाव को साहसपूर्वक ठुकराया है, और इसके लिए हम आपका आभार व्यक्त करते हैं।

अंत में, हमारे गठबंधन की अच्छी शुरुआत हुई है क्योंकि इस मिशन को आगे बढ़ाने के लिए विभिन्न देश अपनी जिम्मेदारी निभा रहे हैं।

आज रात, मुझे ये घोषणा करते हुए अपार हर्ष हो रहा है कि पोलैंड इसी साल जुलाई में धार्मिक स्वतंत्रता को आगे बढ़ाने की अगली मंत्रिस्तरीय बैठक की मेज़बानी करेगा। धन्यवाद।

मुझे पता है कि 2021 के मेज़बान को लेकर बातचीत होने लगी है। हम जल्दी ही इस बारे में घोषणा की उम्मीद करते हैं।

और अमेरिका मंत्रिस्तरीय बैठक को दोबारा यहां वाशिंगटन में आयोजित करने के लिए प्रतिबद्ध है।

हमें इस बात की भी खुशी है कि कोलंबिया अगले महीने दक्षिण अमेरिका के लिए पहली क्षेत्रीय मंत्रिस्तरीय बैठक की मेज़बानी करेगा।

यह बहुपक्षवाद मुक्त समाजों के मूल्यों को दर्शाता है।

आज यहां उपस्थित हमारे सभी दोस्तों के लिए:

स्वतंत्रता के आह्वान पर आगे बढ़ने के लिए धन्यवाद।

उत्पीड़ित जनों के समर्थन में खड़े होने के लिए धन्यवाद।

और सच्चा नेतृत्व प्रदर्शित करने के लिए धन्यवाद।

भगवान आप सभी को आशीष दे, और आइए हम इसे जारी रखें।

धन्यवाद। (तालियां।)


यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें