rss

विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो की प्रेस वार्ता

Русский Русский, English English, العربية العربية, Français Français, Português Português, Español Español, اردو اردو

अमेरिकी विदेश विभाग
तत्काल जारी करने के लिए
मार्च 17, 2020

 

प्रेस ब्रीफ़िंग कक्ष
वाशिंगटन, डी.सी.

विदेश मंत्री पोम्पियो:  नमस्कार। जैसा कि आप जानते हैं ट्रंप प्रशासन वुहान वायरस का मुक़ाबला करने और अमेरिकी लोगों की रक्षा के काम में लगातार भारी ऊर्जा लगा रहा है। इस अहम मिशन को लेकर यहां विदेश विभाग में हम बहुत सक्रिय हैं। मैं आगे इस बारे में थोड़ा विस्तार से बात करूंगा और विदेश विभाग के कार्यों के बारे में आपके सवालों के जवाब देकर मुझे खुशी होगी।

ये कहने के बावजूद, मैं आज यहां ये बताना चाहूंगा कि इस वैश्विक महामारी से निपटने के प्रयासों के साथ ही विदेश विभाग अन्य मामलों में भी पूरी तरह सक्रिय है। जीवन और स्वतंत्रता तथा खुशियां हासिल करने के अधिकारों की रक्षा के लिए कोई अन्य राष्ट्र अमेरिका जितना प्रयास नहीं करता, और हम दुनिया भर में ऐसा कर रहे हैं। ये काम निरंतर जारी है। आज यहां मैं आपको इस बारे में ही जानकारी देना चाहता हूं।

आइए, सर्वाधिक महत्वपूर्ण विषयों में से एक आतंकवाद से बात शुरू करते हैं। विदेश विभाग आज अमीर मोहम्मद सईद अब्दुलरहमान अल-मवला को विशेष रूप से नामित वैश्विक आतंकवादी करार देने के अपने इरादे की घोषणा कर रहा है। वह पहले अल-क़ायदा इन इराक़ में सक्रिय था और निर्दोष यज़ीदी धार्मिक अल्पसंख्यकों के उत्पीड़न के लिए जाना जाता था। पिछले वर्ष जब हमने अबू बकर अल-बग़दादी को मार गिराया तो उसके बाद उसे आइसिस का नेता घोषित किया गया था। हमने आइसिस के खिलाफ़त को नष्ट कर दिया है और हम उसे हमेशा के लिए पराजित करने को लेकर प्रतिबद्ध हैं, भले ही वे किसी को भी अपना नेता चुनें।

आतंकवादियों को नामित करने और आतंकवादी समूहों की वित्तीय गतिविधियों को रोकने के प्रयासों में अपनी अग्रणी भूमिका को जारी रखते हुए विदेश विभाग आज ईरान के तीन किरदारों के साथ-साथ दक्षिण अफ़्रीका, हांगकांग और चीन की नौ कंपनियों पर प्रतिबंध लगा रहा है। ये सभी इरादतन दुनिया में आतंकवाद के सबसे बड़े सरकारी प्रायोजक ईरान से तेल उत्पादों की खरीद, अधिग्रहण, बिक्री, परिवहन या विपणन को लेकर बड़ी लेनदेन में शामिल रही हैं। 

इस कार्रवाई के तहत ईरान की सशस्त्र सेनाओं की सामाजिक सुरक्षा निवेश कंपनी और इसके निदेशक पर भी प्रतिबंध लगाए गए हैं, जो अपने संसाधनों का प्रतिबंधित कंपनियों में निवेश कर रहे थे।

आज मैं इस बात का भी उल्लेख करना चाहूंगा कि परमाणु गतिविधियां तेज़ करने के ईरान शासन के अस्वीकार्य रवैये को देखते हुए वाणिज्य विभाग पांच ईरानी परमाणु वैज्ञानिकों को भी नामित किरदारों की सूची में शामिल कर रहा है।

ये पांचों लोग ईरान के 2004 से पहले के परमाणु कार्यक्रम में शामिल थे जिसे अमाद कार्यक्रम कहा जाता था, और ये आज तक ईरानी शासन के लिए काम कर रहे हैं। अमाद योजना पर काम रोके जाने के बाद भी ईरान ने उससे संबंधित दस्तावेज़ों तथा इन लोगों समेत परमाणु हथियारों पर काम करने वाले वैज्ञानिकों के दल को सुरक्षित बचाए रख रहा है।

ईरान की अतीत की अघोषित परमाणु गतिविधियों के बारे में अनेक सवाल अब भी अनुत्तरित हैं। इसलिए आज ईरानी किरदारों को नामित करने के वाणिज्य विभाग का कदम ईरान से उसके पूर्व के परमाणु क्रिया-कलापों के बारे में पूर्ण और ईमानदार जवाबदेही और हिसाब-किताब की मांग करने के महत्व की पुनर्पुष्टि होती है।

मैं वुहान वायरस की उत्पत्ति को लेकर ईरानी शासन द्वारा चलाए जा रहे दुष्प्रचार अभियान की ओर भी आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं। ईरानी लोगों की ज़रूरतों पर ध्यान देने और मदद के ईमानदार प्रस्तावों को स्वीकार करने के बजाय वरिष्ठ ईरानी अधिकारी वुहान वायरस के प्रकोप को लेकर कई सप्ताहों तक झूठ बोलते रहे हैं।

ईरानी नेतृत्व अपने घोर अक्षम और घातक शासन की जवाबदेही से बचने की कोशिश कर रहा है। अफ़सोस की बात है कि ईरानी लोग 41 वर्षों से इस तरह के झूठ को झेल रहे हैं। वे सच्चाई जानते हैं: वुहान वायरस एक हत्यारा है और ईरानी शासन उसका सहयोगी है।

हम मदद करने की कोशिश कर रहे हैं। हम विभिन्न तरीकों से ईरान को मदद देने का प्रस्ताव करते रहे हैं और हम ऐसा करना जारी रखेंगे।

वैध लेनदेन के लिए हमारे पास मानवीय सहायता का एक माध्यम मौजूद है, भले ही हम ये सुनिश्चित कर रहे हों कि हमारा अधिकतम दबाव अभियान आतंकवादियों को धन से वंचित करे।हम वैश्विक परमाणु निगरानी संस्था आईएईए और उनके निरीक्षकों की मदद कर रहे हैं, जो ये सुनिश्चित करने का प्रयास करते हैं कि ईरान परमाणु अप्रसार संधि का पालन करना जारी रखे।

हमने कोरोना वायरस की जांच के उपकरणों और संबंधित प्रशिक्षणों की मांग करने वाले सदस्य राष्ट्रों के लिए आईएईए के ज़रिए 10 लाख डॉलर का आवंटन किया है।

मानवीय भावनाओं के अनुरूप अमेरिका, ईरान से अपने यहां गलत तरीके से हिरासत में लिए गए सभी लोगों को तुरंत रिहा करने की मांग भी करता रहा है। हम ईरानी शासन को उसके आतंक के लिए ज़िम्मेदार ठहराते रहेंगे और ईरानी लोगों की सहायता करना जारी रखेंगे।

और अब बात सीरिया और सीरियाई लोगों को हमारी सहायता के बारे में:

इससे पहले आज अमेरिका ने सीरिया में हिंसा और विनाशकारी मानवीय संकट की स्थिति के लिए ज़िम्मेवार असद शासन के रक्षा मंत्री लेफ़्टिनेंट जनरल अली अब्दुल्ला अयूब को प्रतिबंधों के लिए नामित किया। दिसंबर 2019 के बाद से ही उनकी इरादतन की गई कार्रवाइयों के कारण सीरिया में युद्धविराम नहीं हो पाया। इस अवरोध के कारण इदलिब में मानवीय सहायता की सख्त ज़रूरत वाले लगभग एक लाख लोगों को कड़ाके की ठंड में विस्थापन के लिए मजबूर होना पड़ा।

रूस तथा ईरान समर्थित बलों के सहयोग से असद शासन के सुरक्षा बल, स्कूलों और अस्पतालों को तबाह करने वाली अनवरत बमबारी के लिए ज़िम्मेवार हैं। बमबारी में आम नागरिकों की मौत हो रही है जिसमें दूसरों की ज़िंदगी बचाने के वास्ते सीरिया में अपनी जान की बाजी लगाने वाले चिकित्साकर्मी और आपात सहायताकर्मी शामिल हैं।

हम इस क़त्लेआम पर तुरंत रोक लगाने और सीरिया के संघर्ष के राजनीतिक समाधान की मांग करते हैं।

साथ ही, हमारा मानना है कि अपने सैन्य अभियानों के दौरान रूस ने तुर्की के दर्जनों सैनिकों की जान ली है, और हम अपने नैटो सहयोगी तुर्की के साथ खड़े हैं। हम तुर्की की सहायता करने तथा इदलिब में तथा व्यापक रूप से सीरिया में हिंसा को ख़त्म करने के लिए अतिरिक्त उपायों पर विचार करना जारी रखेंगे।

और अब बात आईसीसी की, उस तथाकथित अदालत की बात जो खुद को एक घोर राजनीतिक संस्था साबित कर रही है:

जैसा कि मैंने आपसे पिछली मुलाक़ात में कहा था, हम आईसीसी द्वारा अमेरिकी कार्मिकों पर अपने अधिकार क्षेत्र के दावे के हर प्रयास का विरोध करते हैं। हम अमेरिकियों की जांच करने या उन पर मुक़दमे चलाने के इसके अनुचित और अन्यायपूर्ण प्रयासों को सहन नहीं करेंगे। जब हमारे कार्मिकों पर अपराध के आरोप लगते हैं तो उन्हें हमारे देश की न्याय व्यवस्था का सामना करना पड़ता है।

हाल ही में मुझे बताया गया है कि अभियोजक के मुख्य सलाहकार सैम शोआमनेश और क्षेत्राधिकार, संपूरकता एवं सहयोग प्रभाग के प्रमुख फकीसो मोशोचोको अमेरिकियों की जांच के आईसीसी अभियोजक फ़तू बेनसूदा के प्रयासों में मदद कर रहे हैं। मैं अब इस सूचना की जांच कर रहा हूं और इन व्यक्तियों तथा अमेरिकियों को जोख़िम में डाल रहे बाक़ी लोगों के खिलाफ़ अमेरिका के भावी कदमों पर विचार कर रहा हूं।

हम इस पक्षपातपूर्ण जांच के लिए ज़िम्मेवार लोगों और उनके परिवार के सदस्यों की पहचान करना चाहते हैं जोकि अमेरिका की यात्रा कर सकते हैं या जो अमेरिकियों की रक्षा सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों से असंगत गतिविधियों में संलग्न हैं।

यह न्यायालय, आईसीसी, शर्मिंदगी का कारण है। यह उजागर हो रहा है – हम इसकी अनुचित गतिविधियों को उजागर कर रहे हैं और ये सुनिश्चित करने में अमेरिका नेतृत्व का एक बेहतरीन उदाहरण पेश कर रहा है कि बहुपक्षीय संस्थाएं वास्तव में वो काम करें कि जिनके लिए उन्हें स्थापित किया गया है।

दक्षिण अमेरिका की एक संक्षिप्त चर्चा और उसके बाद मैं आपके कुछेक सवालों के जवाब दूंगा: 

अमेरिका गुयाना में 2 मार्च को हुए चुनाव के वोटों की गिनती प्रक्रिया पर करीब से नज़र रख रहा है। हम सटीक गिनती के ओएएस, राष्ट्रमंडल, यूरोपीय संघ, कैरिकॉम और अन्य लोकतांत्रिक साझेदारों के आह्वान में शामिल हैं। हम एक त्वरित लोकतांत्रिक समाधान सुनिश्चित करने में कैरिकॉम की भूमिका की सराहना करते हैं, और इस बात का उल्लेख महत्वपूर्ण है कि जो व्यक्ति चुनावी धोखाधड़ी से लाभान्वित होने और अवैध सरकार या शासन स्थापित करना चाहते हैं, उन्हें अमेरिका के हाथों कई तरह के गंभीर परिणामों को भुगतना पड़ेगा।


मूल सामग्री देखें: https://www.state.gov/secretary-michael-r-pompeo-remarks-to-the-press-6/
यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें