rss

राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप ने विश्व स्वास्थ्य संगठन से जवाबदेही की मांग की

Français Français, English English, العربية العربية, Português Português, Русский Русский, Español Español, اردو اردو

तत्काल जारी करने के लिए
अप्रैल 15, 2020
व्हाइट हाउस
प्रेस सचिव का कार्यालय

 

मैं अमेरिकी जनता के जीवन, स्वास्थ्य और सुरक्षा के हित में हर आवश्यक क़दम उठाने से कभी नहीं हिचकूंगा। मैं हमेशा अमेरिका के कल्याण को सबसे आगे रखूंगा।

राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप


अमेरिकी करदाताओं के प्रति जवाबदेही: राष्ट्रपति डोनल्ड जे. ट्रंप अमेरिकी वित्तीय मदद रोककर विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की जवाबदेही तय कर रहे हैं।

  • राष्ट्रपति ट्रंप डब्ल्यूएचओ को दी जाने वाली सारी वित्तीय मदद को संगठन द्वारा कोरोना वायरस महामारी के कुप्रबंधन की जांच होने तक स्थगित कर रहे हैं।
  • अमेरिकी करदाता डब्ल्यूएचओ को हर साल 400 से 500 मिलियन डॉलर की वित्तीय मदद देते हैं, पर डब्ल्यूएचओ ने उन्हें निराश किया है।
    • इसके विपरीत चीन अमेरिकी मदद के क़रीब दसवें अंश के बराबर ही वित्तीय योगदान करता है।
  • अमेरिकी जनता डब्ल्यूएचओ से बेहतर व्यवहार की अपेक्षा करती है, और उसके कुप्रबंधन, लीपापोती और नाकामियों की जांच होने तक उसे और मदद नहीं दी जाएगी।
  • राष्ट्रपति ट्रंप कोरोना वायरस के प्रकोप के खिलाफ़ लड़ाई जारी रखेंगे और वैश्विक स्वास्थ्य सहायता को इस लड़ाई में प्रत्यक्षत: जुटे देशों के लिए पुनर्लक्षित करेंगे।

डब्ल्यूएचओ की नाकाम प्रतिक्रिया की जांच: कोरोना वायरस के प्रकोप के खिलाफ़ डब्ल्यूएचओ की प्रतिक्रिया ग़लतियों और लीपापोती के प्रयासों से भरी रही है।

  • इस तथ्य के बावजूद कि चीन वित्तीय सहायता के रूप में अमेरिका के मुक़ाबले अंश मात्र का योगदान करता है, डब्ल्यूएचओ ने चीनी सरकार के पक्ष में एक ख़तरनाक पूर्वाग्रह प्रदर्शित किया है।
  • डब्ल्यूएचओ ने निरंतर चीनी सरकार के इस दावे को आगे बढ़ाया कि कोरोना वायरस का मनुष्यों के बीच परस्पर प्रसार नहीं हो रहा है, जबकि डॉक्टर और स्वास्थ्य अधिकारी आगाह कर रहे थे कि ऐसा हो रहा है।
    • कोरोना वायरस के मानव-से-मानव में संक्रमण की रिपोर्टों से अवगत होने के बाद 31 दिसंबर को ताइवान ने डब्ल्यूएचओ को इसकी जानकारी दी थी, लेकिन डब्ल्यूएचओ ने इसे सार्वजनिक नहीं किया।
    • डब्ल्यूएचओ पूरे जनवरी के दौरान चीनी सरकार के प्रयासों की सराहना और इस बात का दावा करता रहा कि मानव-से-मानव स्तर पर संक्रमण नहीं हो रहा है, जबकि वुहान में डॉक्टर दावा कर रहे थे कि ऐसा हो रहा है।
    • डब्ल्यूएचओ ने 22 जनवरी को घोषित किया था कि कोरोना वायरस से अंतरराष्ट्रीय स्तर की सार्वजनिक स्वास्थ्य आपदा का ख़तरा नहीं है, साथ ही वह चीन के क़दमों की प्रशंसा करता रहा।
  • डब्ल्यूएचओ ने यात्रा प्रतिबंधों का विरोध करते हुए जीवनरक्षक उपायों के मुक़ाबले राजनीतिक यथार्थता को महत्व दिया।
    • डब्ल्यूएचओ ने चीन में आंतरिक यात्रा प्रतिबंधों की सराहना करने के बावजूद चीन और अन्य देशों से आवाजाही पर प्रतिबंधों के विरोध का घातक फ़ैसला किया, जिससे अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वायरस का और अधिक प्रसार हुआ।

संरचनात्मक समस्याएं और आवश्यक सुधार: डब्ल्यूएचओ की अपनी दीर्घकालिक संरचनात्मक समस्याएं हैं, और संगठन पर दोबारा भरोसा किया जा सके इसके लिए पहले उन्हें दूर किया जाना चाहिए।

  • डब्ल्यूएचओ ने साबित कर दिया कि वह एक गंभीर संक्रामक रोग के इस तरह के संकट को रोकने, उस पर नज़र रखने और क़दम उठाने के लिए तैयार नहीं था।
  • डब्ल्यूएचओ के पास सदस्य देशों से सही सूचना पाने और डेटा साझा करने में पारदर्शिता सुनिश्चित करने के लिए ज़रूरी ढांचा नहीं है, और इस कारण इसके ग़लत जानकारियों और राजनीतिक प्रभावों का शिकार बनने का ख़तरा है।
  • अमेरिका डब्ल्यूएचओ से तैयारी, प्रतिक्रियात्मक उपाय और हितधारकों के बीच समन्वय के अपने बुनियादी मिशन पर ध्यान केंद्रित करने की अपेक्षा करता है।
  • अमेरिका पारदर्शिता एवं डेटा साझाकरण को बढ़ावा देने, अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमों के प्रति सदस्य देशों की जवाबदेही सुनिश्चित करने, दवाइयों तक पहुंच बढ़ाने और संगठन पर चीन के सामान्य से अधिक प्रभाव को कम करने के लिए सुधारों की मांग भी करता है।

यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें