rss

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन पर शोक संदेश

English English, اردو اردو

अमेरिकी विदेश विभाग
प्रवक्ता का कार्यालय
प्रेस बयान
माइकल आर. पोम्पियो, विदेश मंत्री
सितंबर 1, 2020

 

भारत के पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के निधन के बारे में जानकर अमेरिका को गहरा दुख हुआ है। आधी सदी से भी अधिक के अपने विशिष्ट सार्वजनिक जीवन में राष्ट्रपति मुखर्जी ने सांसद, कैबिनेट मंत्री और दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के राष्ट्रपति के रूप में भारतीय जनता के लिए अथक कार्य किया था। उनके दूरदर्शी नेतृत्व ने एक वैश्विक शक्ति के रूप में भारत के उदय को गति दी और अधिक मज़बूत अमेरिका-भारत साझेदारी का मार्ग प्रशस्त किया।

राष्ट्रपति मुखर्जी की विभिन्न उपलब्धियों के कारण भारत अधिक समृद्ध और सुरक्षित बना। विदेश मंत्री और रक्षा मंत्री के रूप में उन्होंने ऐतिहासिक अमेरिका-भारत परमाणु समझौते, जो अमेरिका-भारत सामरिक साझेदारी का एक आधार बना, की हिमायत की और डिफ़ेंस फ़्रेमवर्क एग्रीमेंट पर हस्ताक्षर किए जिसने कि मौजूदा अमेरिका-भारत सुरक्षा संबंधों को संभव बनाया। भारत को 21वीं सदी में वैश्विक नेतृत्व के लिए तैयार करने में उनसे अधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले भारतीय राजनेता कम ही हैं।

अमेरिकी जनता की ओर से, शोक की इस बेला में हम भारत की जनता और राष्ट्रपति मुखर्जी के परिवार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त करते हैं।


यह अनुवाद एक शिष्टाचार के रूप में प्रदान किया गया है और केवल मूल अंग्रेजी स्रोत को ही आधिकारिक माना जाना चाहिए।
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें