rss
नवीनतम समाचार
2019-06-26

विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो और भारतीय विदेश मंत्री सुब्रह्मण्यम जयशंकर का प्रेस के समक्ष बयान

विदेश मंत्री पोम्पियो: धन्यवाद। नमस्कार, आप सभी को। यहां आकर अच्छा लग रहा है। मेरे लिए एक बड़े चुनाव, जिसमें प्रधानमंत्री मोदी विजयी हुए, के तुरंत बाद यहां आ पाना एक बड़ी उपलब्धि है। स्वयं कई चुनाव अभियान संचालित करने के कारण मैं उनकी जीत को अत्यंत प्रभावशाली कहूंगा, और उन्हें जो जनादेश मिला है वो मैं समझता हूं अत्यंत महत्वपूर्ण है।

यहां उपलब्ध:

विदेश मंत्री पोम्पियो की भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात

निम्नांकित पाठ प्रवक्ता मॉर्गन ऑर्टेगस के हवाले से है:

यहां उपलब्ध:

विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो का संबोधन “अमेरिका और भारत: महत्वाकांक्षा के युग का आलिंगन”

राजदूत जस्टर: नमस्कार, देवियों और सज्जनों। भारत में अमेरिका का राजदूत होने के नाते, मुझे अपने आज शाम के वक्ता विदेश मंत्री माइक पोम्पियो का परिचय कराने का सौभाग्य मिला है।
विदेश मंत्री पोम्पियो का करियर सार्वजनिक और निजी, दोनों ही क्षेत्रों में सेवा का रहा है कि जो उन्हें आज की दुनिया और अमेरिका-भारत संबंधों की अधिकांश चुनौतियों का सामना करने के लिए उन्हें विशिष्ट रूप से योग्य बनाता है। वेस्ट प्वाइंट स्थित अमेरिकी सैन्य अकादमी से अपने वर्ग में प्रथम रहते हुए पढ़ाई पूरी करने के बाद, विदेश मंत्री पोम्पियो ने पांच वर्षों तक अमेरिकी सेना में नौकरी की। इसके बाद उन्होंने हार्वर्ड लॉ स्कूल में दाखिला लिया और वहां से पढ़ाई पूरी करने के बाद देश के शीर्ष कानूनी कंपनियों में से एक में काम किया।


यहां उपलब्ध:

यातना के पीड़ितों के समर्थन का अंतरराष्ट्रीय दिवस

आज यातना के पीड़ितों के समर्थन का अंतरराष्ट्रीय दिवस है। यह अत्याचार और अन्य क्रूर, अमानवीय या अपमानजनक बर्ताव या सजा के खिलाफ़ संधि के लागू होने की 32वीं वर्षगांठ है। संधि के मज़बूत समर्थक राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन ने 1988 में संधि पर अमेरिका के हस्ताक्षर के मौके पर कहा था, “अमेरिका द्वारा संधि की पुष्टि से वर्तमान दुनिया में दुर्भाग्य से अब भी प्रचलित यातना की घृणित प्रथा के अमेरिका द्वारा विरोध की अभिव्यक्ति होगी.”


2019-06-25

विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो का प्रेस के समक्ष बयान

देश मंत्री पोम्पियो: नमस्कार, आप सभी को। दुनिया में इस समय इतना कुछ चल रहा है कि कई बार यहां अफ़ग़ानिस्तान में अमेरिका की प्रतिबद्धता को भुलाना आसान लगता है, पर दुनिया को जान लेना चाहिए कि ट्रंप प्रशासन इसे नहीं भूला है और अमेरिकी जनता इसे नहीं भूली है। हमें यहां उनके हितों का प्रतिनिधित्व हमेशा की तरह जोश के साथ करना चाहिए। इसलिए अभी अफ़ग़ानिस्तान वापस आना मेरे लिए महत्वपूर्ण था।

यहां उपलब्ध:

द्विपक्षीय सामरिक साझेदारी मज़बूत करने के लिए विदेश मंत्री पोम्पियो की भारत यात्रा

“मुझे सचमुच विश्वास है कि हमारे दोनों राष्ट्रों के पास अपने लोगों, हिंद-प्रशांत क्षेत्र और वास्तव में पूरी दुनिया की भलाई के लिए मिलकर आगे बढ़ने का अत्यंत अनूठा अवसर है।” – अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो, जून 12, 2019

यहां उपलब्ध:

विदेश मंत्री पोम्पियो धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए दूसरे मंत्रिस्तरीय सम्मेलन का आयोजन करेंगे

अमेरिका के विदेश मंत्री माइकल आर. पोम्पियो धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देने के लिए 16 से 18 जुलाई तक वाशिंगटन, डी.सी. स्थित अमेरिकी विदेश विभाग में दूसरे मंत्रिस्तरीय सम्मेलन का आयोजन करेंगे। दुनिया में सभी के लिए धार्मिक स्वतंत्रता को बढ़ावा देना 21वीं सदी की निर्णायक चुनौतियों में से एक है, जो इस प्रशासन की विदेश नीति की शीर्ष प्राथमिकताओं में से है।


2019-06-24

ईरान के सर्वोच्च नेता के कार्यालय पर प्रतिबंधों के लिए कार्यकारी आदेश

व्हाइट हाउस ने आज ईरान के सर्वोच्च नेता के कार्यालय पर प्रतिबंधों के लिए एक कार्यकारी आदेश जारी किया और उससे जुड़े लोगों पर प्रतिबंधों का दायरा बढ़ाने की मंज़ूरी दी है। यह कार्रवाई 40 वर्षों से अमेरिका और इसके मित्र राष्ट्रों के विरुद्ध आतंक और आक्रामक गतिविधियों में लिप्त ईरानी शासन के खिलाफ ट्रंप प्रशासन के अधिकतम दबाव अभियान के तहत की गई है। अभी हाल ही में उसने अमेरिका के एक चालकरहित विमान को निशाना बनाया और अंतरराष्ट्रीय समुद्री परिवहन के खिलाफ़ हमलों को अंजाम दिया।


2019-06-23

विदेश मंत्री पोम्पियो की सऊदी अरब, यूएई, भारत, जापान और दक्षिण कोरिया की यात्रा

विदेश मंत्री पोम्पियो क्षेत्रीय और आपसी महत्व के मुद्दों पर चर्चा करने, तथा मुक्त और खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के साझा लक्ष्य की दिशा में प्रगति के वास्ते प्रमुख देशों के साथ साझेदारी को विस्तृत और गहन बनाने के लिए 23 से 30 जून तक सऊदी अरब, यूएई, भारत, जापान और दक्षिण कोरिया की यात्रा करेंगे।

यहां उपलब्ध:

प्रेस के समक्ष विदेश मंत्री पोम्पियो का बयान

विदेश मंत्री पोम्पियो: नमस्कार, आप सभी को। इस विस्तृत दौरे पर निकलने से पहले मैं कुछ बातें कहना चाहता हूं।


  • सभी मिटाएँ
ईमेल अपडेट्स
अपडेट्स के लिए साइन-अप करने या अपने सब्सक्राइबर प्राथमिकताओं तक पहुंचने के लिए कृपया नीचे अपनी संपर्क जानकारी डालें